शादी के सालों बाद सास-ससुर रहने वाले हैं साथ तो ऐसे कीजिए एडजस्टमेंट की तैयारी

चयनिका निगम

22nd April 2021

शादी के कई साल बाद सास ससुर साथ रहने आएं तो घबराहट होना लाजिमी है। लेकिन ठीक इसी समय समझदारी के कुछ कदम आपकी जिंदगी आसान कर देंगे।

शादी के सालों बाद सास-ससुर रहने वाले हैं साथ तो ऐसे कीजिए एडजस्टमेंट की तैयारी

‘पूरा परिवार अलग-अलग शहरों में सेटल डाउन हैं। सभी लोग अपने-अपने कामों व्यस्त और खुश हैं। लेकिन अब सास-ससुर की सेहत अच्छी नहीं रहती है इसलिए अब शादी के इतने सालों बाद मैं उनके साथ रहने वाली हूं।' स्वाति ऐसा कहते हुए थोड़ी चिंता में हैं। ऐसा नहीं है कि उन्हें सास-ससुर से कोई दिक्कत है बल्कि वो लोग तो बहुत प्यारे हैं। चिंता लाइफस्टाइल में बदलाव की है। पहले जहां पूरे घर का रहन-सहन वो खुद ही फाइनल करती थीं वहीं अब पूरे दिन में कई सारे काम और बदलाव सास ससुर के हिसाब से होंगे। ये बदलाव आसान होंगे क्या? बस यही सोच कर वो चिंता में घुली जा रही हैं। लेकिन स्वाति जैसी महिलाओं के लिए हमारे पास कुछ टिप्स हैं, ये टिप्स उनको सास ससुर के साथ एडजस्टमेंट में पूरी मदद करेंगे। इनको पहचान लीजिए-

उनको अपना लगे-

सबसे पहले आपकी ज़िम्मेदारी है कि सास ससुर को आपका घर अपना ही घर लगे। इस उम्र में उन्हें ये अहसास न हो कि वो तो दूसरे के घर में रह रहे हैं। उनको घर जैसा अधिकार फील कराना आपका काम होगा। घर की कमान क्योंकि आपके हाथ में है इसलिए आपको अपने ही सास ससुर को ये बात दिखानी होगी। यकीन मानिए वो खुद ही आपके साथ जुड़ा हुआ महसूस करेंगे और उन्हें जरूर अच्छा लगेगा। वो भी बदले में आपसे अपनापन दिखाए बिना रह नहीं पाएंगे। 

बात कर ली जाए-

अक्सर सास ससुर के साथ बहुओं का रिश्ता ऐसा हो जाता है कि वो बिना कहे ही किसी न किसी बार दुश्मनी जैसा फील करने लगते हैं। जबकि बात करके इस एहसास को प्यार और सौहार्द में बदला जा सकता है। इसलिए सबसे अच्छा होगा कि आप सास ससुर के साथ रहने आते ही उनसे बैठ कर बातें जरूर कर लें। हां, परिवार में इस तरह की बातें करना आसान बिलकुल नहीं होता है। लेकिन आप आम परिवारों वाली दिक्कतें ही तो नहीं झेलना चाहती हैं न इसलिए आपको ये बातें करनी ही होगी। 

दिक्कत को बता दें-

बात करने का मकसद सिर्फ इतना भी रखा जा सकता है कि आप लोग आपस में इतने ओपन हो जाएं कि एक दूसरे की बातें जब बुरी लगें तो उसे कह सकें। कहने से परेशानी का हल निकाला जा सकेगा। उसे दिल में रखकर एक दूसरे के लिए बुरा भला सोचते रहने वाली आदत से छुटकारा मी मिल जाएगा। ये बात कहने के लिए पूरे दिन का वो समय निकाल लीजिए जो खाली हो, जैसे शाम की चाय का समय या फिर सुबह नाश्ते के बाद का समय। इस वक्त सभी लोग खाली होते हैं। वो जरूर आपकी बात समझेंगे। और विश्वास कीजिए जब उनको आपकी बात बुरी लगेगी तो वो बताएंगे इस नजरिए से कि सुधार हो। फिर आप भी धीरे-धीरे उनके साथ खुल जाएंगी और अपने दिल की बात कह पाएंगी। देखिएगा कैसे आपको परिवार में हाल ही में शामिल हुए सास ससुर के साथ एडजस्ट करना आसान होगा। 

घर के काम-

ये बहुत ही आम सी बात है कि परिवार के सदस्य बढ़ेंगे तो घर का काम भी बढ़ेगा ही। इस वक्त आपके परिवार को ये बात समझनी होगी। और ये बात आपको ही उन्हें समझानी होगी। आप इसके लिए अपने पति और सास ससुर दोनों से बात करें कि काम बढ़ेगा तो इसको निपटने के इंतजाम भी करने होंगे। जो आपके लिए अकेले करना आसान नहीं होगा। इस वक्त आपको एक मेड की जरूरत होगी। इसके बिना काम नहीं चलेगा। 

काम निपटना क्यों जरूरी है-

घर के काम निपटाए जाना इसलिए जरूरी हैं क्योंकि परिवारों में अक्सर इन कामों की वजह से ही दिक्कत होती है। झगड़े भी इन्हीं कामों की वजह से होते हैं। इसलिए जरूरी है कि इन कामों को निपटाने के लिए मेड का सहारा लिया जाए। इस तरह से परिवार के किसी भी सदस्य पर एक्सट्रा दबाव नहीं पड़ेगा। सभी आराम से रह पाएंगे। अब हो सकता है कि आपके सास ससुर खाना बनाने वाली मेड के लिए तैयार न हों। ऐसे में अपनी बात पर अड़े रहने से अच्छा है कि आप उनकी बात को मान लें लेकिन फिर बाकी सभी कामों के लिए मेड लगवा लें। इस तरह से आपके लिए भी लाइफ आसान होगी और सास ससुर को भी लगेगा कि उनकी बात मानी गई। 

अगर वर्किंग है तो-

अगर आप वर्किंग हैं तो आपके लिए सास ससुर के साथ बैठने का समय निकालना थोड़ा कठिन होगा। इस वक्त उनको ये लग सकता है कि आप उन्हें समय ही नहीं देती हैं। ये भी एक समस्या हो सकती है। इसके लिए आपको आत्मविश्वास से भरपूर रहना है और दूसरी महिलाओं की तरह इसको लेकर गिल्ट महसूस करने की जरूरत नहीं है। ये काम ऐसा है जिसे आपको ही करना होगा वो भी समय पर। 

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा?अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

ये भी पढ़ें-

मौके की तलाश में रहती है सास

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

पति हैं 'mum...

पति हैं 'mumma's boy' तो न होने दें रिश्ते...

पति हैं 'सिं...

पति हैं 'सिंगल चाइल्ड' तो इन 7 बातों पर रखना...

सास सोचे खुद...

सास सोचे खुद के बारे में

सास-बहू के ब...

सास-बहू के बीच आग लगाने का कम कर रही है बाई...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription