गुजरात के इस मंदिर में होती है व्हेल मछली की पूजा, क्यों? जान लीजिए

चयनिका निगम

23rd April 2021

देवी पर आस्था रख कर अक्सर बड़ी से बड़ी दुविधा से निकला जा सकता है। वलसाड़ का अनोखा मंदिर ऐसा ही है जहां व्हेल मछ्ली की हड्डियों की पूजा होती है।

गुजरात के इस मंदिर में होती है व्हेल मछली की पूजा, क्यों? जान लीजिए

भक्ति का आधार सिर्फ आस्था हो सकती है और ये आस्था किसी के भी साथ हो सकती है। ऐसी ही आस्था गुजरात के एक मंदिर में देखने को मिली है, जहां किसी भगवान की नहीं बल्कि व्हेल मछली की हड्डियों की पूजा की जाती है। और ये पूजा अभी हाल ही में नहीं शुरू हुई है बल्कि 300 सालों से हो रही है। यह अनोखा मंदिर मछुआरों की आस्था का केंद्र है। वो मछली पकड़ कर ही अपना जीवनयापन करते हैं इसलिए व्हेल मछली को मत्स्य माता मानकर उनका आशीर्वाद लेते हैं। माना जाता है कि इनके आशीर्वाद से ज्यादा से ज्यादा मछलियां पकड़ी जा सकें और उन्हें बेचकर मछुआरे ज्यादा से ज्यादा कमाई कर सकें। 

गुजरात के वलसाड़ में है मंदिर-

ये मंदिर गुजरात में है और समुद्री इलाके वलसाड़ के पास है। वलसाड़ तहसील के मगोद डुगरी गांव में है ये मंदिर। इस मंदिर को मछुआरों के समुदाय ने ही ही बनवाया था। वे व्हेल मछली को मत्स्य माता मानते हुए इनकी पूजा करते हैं।  

कैसे आएं-

इस मंदिर तक आने के लिए आपको वलसाड़ तक आना होगा। जिसके लिए नजदीकी रेलवे स्टेशन वलसाड़ का ही है। जबकि पास का एयरपोर्ट सूरत का है। 

भव्य मेला है आकर्षण-

इस मंदिर का मुख्य आकर्षण हर साल नौरात्रों पर होने वाला अष्टमी का मेला भी है। इस भव्य मेले को देखने लोग दूर-दूर से आते हैं। 

मंदिर के पीछे की मान्यता-

इस मंदिर के पीछे की मान्यता के पीछे भी एक कहानी है। कहानी 300 साल पुरानी है। वलसाड़ के रहने वाले प्रभु टंडेल को एक रात सपना आया कि समुद्र तट पर एक मछली आई हुई है। सपने में उन्हें ये भी दिखा कि मछली एक देवी का रूप धर कर आई हैं लेकिन तट पर आते ही उनकी मृत्यु हो जाती है। उनका सपना सच था क्योंकि सुबह गांव वालों को सच में एक मछली समुद्र किनारे मिल गई जो मर चुकी थी। ये एक व्हेल मछली थी। टंडेल ने जब सपने वाली बात बताई तो लोगों ने इस मछली को देवी का अवतार माना और मंदिर भी बनवाया। 

मछली की हड्डियां-

इस मरी हुई मछली को लोगों ने समुद्र तट पर ही गड़वा दिया था लेकिन फिर मंदिर बनने के बाद इसकी हड्डियां मंदिर में रख दी गईं। पहले पहल इनका विरोध हुआ। कई लोगों ने मंदिर के पूजा-पाठ में भी हिस्सा नहीं लिया। लेकिन फिर कहा जाता है कि लोगों को इसका विरोध करना भारी पड़ा। गांव को कई तरह के नुकसान हुए।

रोग फैलने लगे-

मंदिर में हड्डियां रखने का विरोध करने वालों को इसका नतीजा जल्द ही झेलना पड़ा। क्योंकि गांव में रोग फैलने लगे। लेकिन फिर इसी मंदिर में मत्स्य देवी की पूजा की तब जाकर इस बीमारी से सबकी जान बची। तब से पूरे गांव वालों ने इस मंदिर की पूजा अर्चना करना शुरू कर दिया। 

मंदिर का रख-रखाव-

इस मंदिर का रख-रखाव आज भी टंडेल परिवार ही करता है। 

 

धर्मसंबंधी यह लेख आपको कैसा लगा?अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

 

ये भी पढ़ें-

साईं ने किए हैं ढेरों चमत्कार,यूं ही नहीं मानते लोग उनको भगवान

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

कर लीजिए दुन...

कर लीजिए दुनिया की सबसे ऊंची साईं बाबा मूर्ति...

देश के सबसे ...

देश के सबसे बड़े मंदिरों से हो लीजिए रूबरू...

प्रकृति की छ...

प्रकृति की छांव में - रणकपुर

अनोखा मंदिर:...

अनोखा मंदिर: सेनापति ने की थी आत्महत्या,...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription