दो मास्क पहनने से मिल सकती है दोहरी सुरक्षा

मोनिका अग्रवाल

22nd April 2021

हालांकि एक अध्ययन के अनुसार ये बताया गया है कि , अगर सभी को डबल मास्किंग किया जाता है तो इस संक्रमण का जोखिम को 96.4% कम किया जा सकता है । अब आप सोच रहें होंगे की डबल मास्किंग क्या है ? चलिए जानते हैं इस बारे में ।

दो मास्क पहनने से मिल सकती है दोहरी सुरक्षा

दोहरी सुरक्षा

पूरे भारत में कोरोना की दूसरे लहर ने कहर मचाया हुआ है। कोरोना  संक्रमण  के कारण पूरे भारतवासी परेशान है । कोरोना की दूसरी लहर पहली के मुताबिक बहुत तेजी  से फैल रही है और ऐसे  हालातों में अक्सर लोग घबरा रहे हैं। पर ऐसे में घबराने से कोई लाभ नहीं , जरूरी है तो आपस में दूरी बनाए रखें , हाथों को बार बार धोए , और सबसे जरूरी है मास्क का इस्तेमाल करें। 

वास्तव में , ऐसी कठिन समस्या में डबल मास्किंग एक बेहतर विकल्प है । डबल मास्किंग वायरस से बचाए रखने में काफी मददगार है , यह आपको दोहरी सुरक्षा देता है । डबल मास्क आपकी सुरक्षा बढ़ता है , वायरस को आप तक पहुंचने नहीं देता । हालांकि एक अध्ययन के अनुसार ये बताया गया है कि , अगर सभी को  डबल मास्किंग किया जाता है तो इस संक्रमण का जोखिम को 96.4% कम किया जा सकता है । अब आप सोच रहें होंगे की डबल मास्किंग क्या है ? चलिए जानते हैं इस बारे में । 

क्या है डबल मास्किंग ?

जब कोई व्यक्ति एक मास्क दूसरे मास्क के ऊपर पहनता है तो उसे ‘ डबल मास्किंग ' कहा जाता है । डबल मास्किंग से , मास्क के किनारे पर एक मजबूत सील बन जाती है जो आपके नाक और मुंह को वायरस से बचा के रखती है । क्योंकि आप जानते है की , खांसने से या किसी के छिकने से आती बूंदों से यह वायरस आपके नाक या मुंह से शरीर में प्रवेश करता है । इन बूंदों को सांस लेने से भी आप इस संक्रमण के शिकार बन सकते हैं । अपने आप को बचाने के लिए डबल मास्क पहनना बहुत जरूरी है इससे आप इन्फेक्शन का रिस्क कम कर सकते हैं । 

कब और कैसे पहने डबल मास्क 

भीड़ भाड़ वाली जगहों पर जैसे : एयरपोर्ट , बस स्टैंड , या फिर पब्लिक और लोकल किसी भी वाहन में , अपने काम के स्थान पर , जहां भी आप लोगों के बीच हो मास्क का इस्तेमाल करें । घर से निकलते ही मास्क पहन ले और उसे घर आने के बाद भी उतार कर रखें । खुद को इस संक्रमण से बचाने एक यही एक बेहतर विकल्प है ।

दोहरी सुरक्षा

कैसे पहने 

*  एक  सर्जिकल मास्क के ऊपर एक क्लॉथ मास्क , दो  क्लॉथ मास्क , या फिर 3 ply मास्क के  ऊपर एक क्लॉथ मास्क पहन सकते हैं ।

*  बेहद भीड़ भाड़ वाली जगहों पर , फेस शील्ड के साथ एक मास्क का इस्तेमाल कर सकते हैं ।

*  यदि कोई n95 मास्क का उपयोग कर रहा है ,तो डबल मास्किंग की जरूरत नहीं है ।

बच्चों के लिए डबल मास्किंग का प्रयोग न करें 

यह भी है जरूरी

क्या करना चाहिए 

* कपड़े के मास्क को रोजाना गर्म पानी में धोएं ।

* नाक , मुंह और ठुड्ढी को अच्छी तरह से ढक कर ही मास्क पहने ।

* परिवार के सदस्यों के साथ मास्क बांटने से बचें  ।

* मास्क को हटाने के बाद , अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ करें ।

* एक बार पहनने के बाद डिस्पोजेबल मास्क को फेंक दें। 

* मास्क को एक समय के बाद बदल दें और नए मास्क का इस्तेमाल करें ।

* मास्क पहन कर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें ।

क्या नहीं करना चाहिए 

* गर्दन के चारों ओर या ठुड्डी पर अपना मास्क न लगाएं ।

* गीला मास्क न पहने 

* मास्क को बार बार न छुएं ।

* बोलते समय मास्क न उतारें । ।

* छींकते समय मास्क न निकलें । 

* दो वर्ष के कम उम्र के बच्चों को मास्क न लगाएं। 

इन सभी बातों का ध्यान रखें और सभी पर अमल भी करें। अपने , अपने परिवार और समाज के स्वास्थ्य की सुरक्षा की  ओर यह एक महत्वपूर्ण कदम है । 

बचाव में ही बचाव है ।

कोविड रिकवरी से जुड़ी सभी जानकारी के लिए डाउनलोड⇓करें कोविड रिकवरी गाइड PDF

alt=''

 

यह भी पढ़ें-

कोरोना से बचने के लिए घर में कैसे बनाएं मैडिकल किट

क्वारनटाइन के दौरान अपने साथ क्या रखना चाहिए और क्या नहीं

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

मास्क के विभ...

मास्क के विभिन्न प्रकार और कौन सा मास्क है...

क्या कोविड 1...

क्या कोविड 19 के दौरान 6 फीट की सामाजिक दूरी...

स्कूली बच्चो...

स्कूली बच्चों के लिए गाइड लाइन्स जो जरूरी...

कोरोना वायरस...

कोरोना वायरस के दौरान सैलून्स : सुरक्षित...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription