बेटा पहली कमाई से ही सीखे सेविंग की अहमियत

चयनिका निगम

28th April 2021

बच्चा जब पहली बार कमाने जाता है तो उसे बचत करने के बारे में कोई आइडिया नहीं होता है। वो तो खूब खर्चा करना चाहता है लेकिन कामने के शुरुआती दिनों में ही बच्चे को बचत का पाठ पढ़ाना जरूरी हो जाता है।

बेटा पहली कमाई से ही सीखे सेविंग की अहमियत

बच्चा कब बड़ा हो गया वो भी इतना कि कमाने जाने लगे, आपको पता ही नहीं चला न। लेकिन ये सच है अगले कुछ दिनों में आपका बच्चा यानि बेटा या बेटी कमाऊ की श्रेणी में आ जाएगा। ऐसे में ये जरूरी है कि वो अपनी कमाई का महत्व समझें, वो समझें कि मेहनत से की गई कमाई को यूंहीं जाया नहीं जाने देंगे। अपनी कमाई को संभाल कर रखने की जरूरत है। पर इसके लिए करें क्या? क्या करें कि बच्चा अपनी कमाई की वैल्यू समझे? अरे हम बताए देते हैं। इसके लिए बहुत मेहनत भी नहीं करनी है। 

महीने के पैसे चाहिए-

जी हां, आपको अपने बच्चे से हर महीने की कुछ पक्की रकम लेनी होगी। अपने खर्चे के लिए नहीं बल्कि उसकी सेविंग के लिए। आप चाहें तो उससे बता दें। बता देंगी तो बच्चा निश्चिंत रहेगा कि उसके पैसे जुड़ रहे हैं। लेकिन नहीं बताएंगी तो इसका एक फायदा होगा आप छह महीने बाद जोड़ी हुई रकम की जानकारी उनको दीजिएगा। वो पक्का चोंक जाएग कि पैसे जोड़ कर इतना कुछ किया जा सकता है। वो समझ सकेगा कि पैसे जोड़ने का भी काफी फायदा होता है और पैसे इसी तरह जोड़े जाने चाहिए। और ऐसे पैसे जोड़ने पर भविष्य के लिए काफी कुछ जोड़ा जा सकता है। बस ये उनके लिए एक सीख होगी। देखिएगा वो खुद भी आगे से आगे बढ़कर पैसे जोड़ेंगे और आपसे भी ऐसा करने को कहेंगे। 

खाना बनाना नहीं सिखाया-

आपने बच्चे खाना बनाना इसलिए नहीं सिखाया कि उसे क्या जरूरत। लड़की हो या लड़का आपने सोचा था कि आप हमेशा साथ रहेंगी और अपने हाथों का बना खाना खिलाएंगी। या हो सकता है आपने बेटी को तो खाना बनाना सिखाया हो लेकिन बेटे को नहीं। इस पूरी बात का असर आपको अब दिखेगा, जो बच्चा अपने लिए खाना बनाकर बाहर से खाने के पैसे बचा सकता था वो ऐसा नहीं कर पा रहा है। इस वक्त में ये जरूरी है कि आप उन्हें खाना बनाना सीख लेने की सलाह दें। इस तरह से बच्चे को शुद्ध खाना भी मिलेगा और पैसे तो बचेंगे ही। इस वक्त जब दुनिया कोरोना से लड़ रही है और लोगों को पैसे खर्च करके भी खाना नहीं मिल पा रहा है तब ये स्किल आपके बेटे या बेटी के बहुत काम आ सकते हैं। अगर खाना बनाना आता हो तो एक इंसान का खाना बनाने में समय भी बहुत नहीं लगता है। 

 

इंश्योरेंस पॉलिसी ली या नहीं-

जब घर का बच्चा पहली बार कमाने बाहर जाता है तो उसकी उम्र इतनी होती ही नहीं है वो जोड़ने के बारे में सोच ही नहीं पाते हैं। उन्हें ये बात समझ ही नहीं आती है तो भविष्य के लिए जोड़ना कितना जरूरी है। कैसे ये जोड़े हुए पैसे भविषयकों सुरक्षित बना सकते हैं। ठीक इस वक्त आपको आगे आकर उनको बताना होता है कि इसकी अहमियत। और अहमियत समझाने का सबसे अच्छा तरीका है कि उन्हें इंश्योरेंस पॉलिसी लेने के लिए राजी कर लिया जाए। वैसे तो बच्चा अगर आप पर इन मामलों को लेकर विश्वास करता होगा तो सवाल-जवाब होंगे ही नहीं। लेकिन अगर वो ऐसी बातों को इग्नोर करता है तो आप एक कदम आगे बढ़ाएं और उसके नाम से एक पॉलिसी लें, जिसका प्रीमियम बच्चे के एकाउंट से ही कटे। जब पैसे कटने लगेंगे तो हो सकता है शुरू के समय बच्चा नाराज हो कि सैलरी से बहुत पैसे कट जाते हैं। तो इस वक्त भी आपको ही उसे समझाना होगा कि इसमें उसका फायदा है। 

 

उधारी नहीं-नहीं-

अक्सर लोग उधार लेकर काम चला लेते हैं फिर बाद में बहुत बड़ा एमाउंट सिर पर आ जाता है। इसलिए इससे बचने के लिए ही आपने बच्चे को तैयार कर लीजिए। उसे बताइए कि कुछ भी हो जाए उधारी के झंझट में ना फंसे। उधारी कभी भी बचत नहीं होने देती। जब भी पास में पैसे होते हैं तब-तब उनसे उधारी निपटानी पड़ जाती है। 

 

बजट बनाना है जरूरी-

पैसे बचाने के लिए बजट बनाए जाने की जरूरत होती है ये बात तो सभी लोग मानेंगे। लेकिन करते कितने लोग हैं। बहुत कम। अब बच्चे ने अभी-अभी कमाना शुरू किया है इसलिए इसको अगर अभी से बजट बनाने की आदत हो जाएगी तो ये उसके लिए आर्थिक तौर पर काफी अच्छा रहेगा। लेकिन आप बच्चे को बजट बनाने का सही तरीका जरूर समझा सकती हैं। उनसे कहिए पूरे महीने के संभावित खर्चों की प्लानिंग कर लें। इसमें कुछ पैसे अचानक से आए खर्चों के लिए भी जोड़ लें। इस तरह से खर्चे का एक इस्टिमेट तैयार हो जाएगा। कि इतने से ज्यादा खर्चे होंगे ही नहीं। फिर बाकी के पैसों को सेविंग के लिए रखा जा सकता है। वो पैसे सेविंग में लगा दिए जाएंगे तो फिर पूरा महिना आराम से बिना पैसों की चिंता के बीतत जाएगा। 

किस उम्र में किनती बचत-

कई सारे लोग ऐसे होते हैं एक निश्चित उम्र के बाद निश्चित रकम या बचत का गोल बना लेते हैं। ऐसा ही आपके बच्चे को भी करना होगा। उससे कहिए कि अगर एक उम्र के बाद उसे पैसों की चिंता किए बिना रहना है तो उनको ऐसा एक गोल बना ही लेना चाहिए। 

मनीसंबंधी यह लेख आपको कैसा लगा?अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

 

ये भी पढ़ें-

Celebrity kids Name -मॉर्डन जमाने में बच्चों के नाम भी रखें मॉर्डन,इन सेलिब्रिटीज से लेे सकते हैं आइडिया

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

बच्चे करे टै...

बच्चे करे टैंट्रम यूं करें हैंडल

बेबी फीडिंग ...

बेबी फीडिंग शेड्यूल के बारे में जानना बेहद...

बहू एक मजबूत...

बहू एक मजबूत स्तंभ

बच्चों की उम...

बच्चों की उम्र में बड़े अंतर पर दोबारा बनी...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

वापसी - गृहल...

वापसी - गृहलक्ष्मी...

 बीस साल पहले जब वह पहली बार स्कूल आया था ,तब से लेकर...

7 ऐसे योग आस...

7 ऐसे योग आसन जो...

स्ट्रेस, देर से सोना, देर से जागना, जंक फूड खाना, पौष्टिक...

संपादक की पसंद

हस्त रेखा की...

हस्त रेखा की उत्पत्ति...

जिन मनुष्यों ने हस्त विज्ञान की खोज की उसे समझा और...

अक्सर पैसे ब...

अक्सर पैसे बढ़ाने...

बाई काम पर आती रहे, काम अच्छा करे और पैसे बढ़ाने की...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription