ये सब अपनी डाइट में शामिल करना है जरूरी कोविड रोगियों के लिए

Spardha Rani

3rd May 2021

अगर आप एक कोविड रोगी हैं या कोविड से रीकवर हो रहे हैं तो आपकी इम्युनिटी को बूस्ट अप करने के लिए सही न्यूट्रिशन जरूरी है। कोविड रोगी की देखभाल कर रहे लोगों के लिए भी इस आर्टिकल को पढ़ना जरूरी है।

ये सब अपनी डाइट में शामिल करना है जरूरी कोविड रोगियों के लिए

अगर आप उन लोगों में से हैं, जिन्हें कोविड हो चुका है या कोविड रोगी हैं तो आपकी इम्युनिटी को बूस्ट अप करने के लिए सही न्यूट्रिशन जरूरी है। यह आर्टिकल उनके लिए भी है, जो कोविड रोगी की देखभाल कर रहे हैं। हम सब अब तक यह जान चुके हैं कि कोविड से हमारा शरीर बेहद कमजोर हो जाता है और रीकवर होते समय भी कुछ ज्यादा बदलाव नहीं आता है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि तेजी से रीकवर करने के लिए सही डाइट लिया जाए।

रिसर्च और स्टडीज बताते हैं कि रोगी के लिए न्यूट्रिशनल जरूरतों को पूरा करने के लिए शुरुआत 50% से करना चाहिए। तीसरे दिन तक इसे डाइट 70% और धीरे- धीरे बढ़ाते हुए सप्ताह के अंत तक कर 100% देना चाहिए।  कोविड रोगियों और उनकी देखभाल कर रहे लोगों को यह समझ और सीकार कर लेना चाहिए कि बचा हुआ खाना मेडिकल वेस्ट है। नियमित फिजिकल एक्टिविटी और ब्रीडिंग एक्सरसाइज बहुत जरूरी है, लेकिन यह भी सीमा से जयादा नहीं करे, उतना ही करें जितना बर्दाश्त हो सके। मॉडरेट कार्बोहाइड्रेट, फैट का संतुलित सेवन करें। रोगी की जरूरतों को पूरा करने के लिए ओरल न्यूट्रिशन सप्लीमेंट्स और एंटीऑक्सीडेंट का सेवन जरूरी है। एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन और मिनरल को जरूर डाइट में शामिल करना चाहिए, खास कर विटामिन सी और विटामिन डी।

क्या होनी चाहिए कोविड डाइट

 

कोविड रोगियों को ऐसे फूड का सेवन करना चाहिए, जो उनके मसल्स का पुनर्निर्माण करे, इम्युनिटी को दुरुस्त करे और एनर्जी लेवल बनाए रखे। रागी, ओट्स, अमरनाथ कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट के समृद्ध स्रोत हैं तो इन्हें जरूरी डाइट में शामिल करें। चिकन, फ़िश, अंडे, पनीर, सोया, नट्स और सीड्स में प्रोटीन खूब होते हैं तो इन्हें जरूर खाएं। अखरोट, बादाम, ऑलिव ऑयल, मस्टर्ड ऑयल जैसे हेल्दी फैट्स इन दिनों जरूर खाने चाहिए। इम्युनिटी बढ़ाने के लिए हल्दी वाला दूध बहुत फायदेमंद है, तो रोजाना कम से कम एक बार इसे पीना चाहिए।

मौसमी फलों में सभी रंगों के फल खाएं, और सब्जियां भी ताकि आपको हर तरह के विटामिन और मिनरल का सही अनुपात मिलता रहे। अपने मूड को ठीक करने के लिए आप कम से कम 70% कोकोआ युक्त डार्क चॉकलेट खा सकती हैं। इससे आपको एन्जायटी से मुक्ति मिलेगी और आपकी इम्युनिटी भी बूस्ट अप होगी।

अधिकतर कोविड रोगियों का स्वाद और गंध गायब हो जाता है, कइयों को तो निगलने में भी दिक्कत होती है। ऐसे में जरूरी है कि आप जो खा रही हैं, वह सॉफ्ट हो।

सैम्पल डाइट चार्ट

 

ब्रेकफास्ट : वेजीटेबल पोहा / चीला / वेजीटेबल उपमा / नमकीन वेजीटेबल सेवइयां / इडली के साथ 2 अंडे / हल्दी और अदरक पाउडर के साथ दूध

लंच : अमरनाथ / रागी या मल्टी ग्रेन आटे की रोटी / चावल / वेजीटेबल पुलाव / खिचड़ी / दाल / हरी सब्जियां / सलाद वाली दही (गाजर और खीरा सहित)

शाम को : अदरक वाली चाय / सब्जियों या चिकन वाला सूप / अंकुरित चाट

डिनर : अमरनाथ / रागी / मल्टी ग्रेन आते की रोटी / सोया बीन / पनीर / चिकन या हरी सब्जियों का सलाद (गाजर और खीरा सहित)

यदि रोगी को डायरिया / नॉजिया हो रहा है तो उसे वेजीटेबल खिचड़ी, अदरक वाली चाय (अदरक, तुलसी / लेमनग्रास, दालचीनी, लौंग या इलायची) दें।

कोविड के बाद थकान हो तो क्या करें

कोविड के बाद अमूमन लोगों को हर समय थकान का अनुभव होता है, शरीर में कमजोरी महसूस होती है। इससे बचने के लिए और इससे ठीक होने के लिए कल, सेब, संतरा या स्वीट लाइम जूस पिएं। मीठे आलू को सलाद में या किसी और तरह से अपनी डाइट में शामिल करें। ऑर्गेनिक शहद और नींबू के साथ गुनगुना पानी पिएं।

ड्राई कफ को कैसे करें ठीक

इस समय आपके लिए तरल चीजें पीना जरूरी है। तुलसी के पत्तियों के साथ गर्म पानी पीने से कफ और खिचखिच वाले गले से राहत मिलती है। मीठे ड्रिंक्स, अल्कोहल, कॉफी के सेवन से बचें क्योंकि ये डिहाइड्रेशन का कारण बनते हैं। दिन में दो- तीन बार जीभ के जरिए भाप अंदर लें।

क्या फल और सब्जियां भी वायरस फैलाते हैं

फल और सब्जियां सीधे तौर पर वायरस नहीं फैलाते हैं लेकिन इन्हें पकाने या खाने से पहले सही तरह से धोना बहुत जरूरी है। इन्हें गर्म पानी में धोएं या आप पानी में सोडा बायकार्बोनेट भी मिला सकती हैं। इस पानी में कुछ देर के लिए फल और सब्जियों को डुबोकर रखने के बाद ही इनका प्रयोग करना चाहिए।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन और कोविड - 19

जैसा कि ऊपर भी इस आर्टिकल में बताया गया है कि इस समय आपका हाइड्रेट रहना बहुत जरूरी है। हाइड्रेर रहने से यूरिनरी इन्फेक्शन से भी बचाव होता है। रोजाना अपनी डाइट में विटामिन सी को जरूर शामिल करें।

मिलिंग सोमन की थाली और काढ़ा

 

मिलिंद सोमन भी हाल में कोविड - 19 से जूझ कर बाहर आए हैं। उन्होंने अपनी रिकवरी मील थाली सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म्स पर शेयर की है, जो न्यूट्रिशन से भरी हुई है। इस थाली में दाल- चावल के अलावा बीन्स सब्जी और हरी पत्तेदार सब्जियों से बनी एक डिश, मोरिंगा यानी सहजन की करी और गाजर का सलाद शामिल है। यह पूरी थाली विटामिन, मिनरल, पोटेशियम, फाइबर और एंटी - ऑक्सीडेंट से संपूर्ण है, जो कोविड रोगी को उसके स्टैमिना में वापस लेकर आएगी। साथ ही स्ट्रेस और एन्जायटी से भी छुटकारा दिलाएगी, जो अमूमन रिकवरी पीरियड में लोगों को हो जाता है। यह इम्यून सिस्टम को बूस्ट अप करेगा और सहजन शुगर लेबल को नियमित रखने के साथ ही हड्डियों को मजबूत करता है। मिलिंद ने धनिया, मेथी, काली मिर्च, तुलसी की पत्तियों, अदरक और गुड़ का बना काढ़ा रोजाना लिया।

अगर आप भी उनमें से एक हैं जो कोविड - 19 से जूझ कर बाहर आए हैं तो सुनिश्चित करें कि आप अपने मील को दिन भर में 3 से 5 बार खाएं। ज्यादा शुगर से परहेज करें क्योंकि यह ब्लड ग्लूकोज लेवल को बढ़ा सकता हो और आपको बैक्टीरियल सुपर इन्फेक्शन होने का खतरा हो सकता है। जल्दी ठीक होने के लिए हेल्दी फैट्स का सेवन भी सुनिश्चित करें।

 

ये भी पढ़ें - 

कोविड वैक्सीन से पहले और बाद में क्या खाएं 

कोरोना वायरस वैक्सीन : महिलाओं पर होने वाले कुछ साइड इफेक्ट्स 

 

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

इस तरह से दा...

इस तरह से दाल मददगार है कोविड - 19 के खिलाफ़...

World Hypert...

World Hypertension Day 2021 : कोविड- 19 के...

कोविड वैक्सी...

कोविड वैक्सीन से पहले और बाद में क्या खाएं...

कढ़ी के हेल्थ...

कढ़ी के हेल्थ बेनेफिट्स, जानें क्यों जरूरी...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

जन-जन के प्र...

जन-जन के प्रिय तुलसीदास...

भगवान राम के नाम का ऐसा प्रताप है कि जिस व्यक्ति को...

भक्ति एवं शक...

भक्ति एवं शक्ति...

शास्त्रों में नागों के दो खास रूपों का उल्लेख मिलता...

संपादक की पसंद

अभूतपूर्व दा...

अभूतपूर्व दार्शनिक...

श्री अरविन्द एक महान दार्शनिक थे। उनका साहित्य, उनकी...

जब मॉनसून मे...

जब मॉनसून में सताए...

मॉनसून आते ही हमें डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जैसी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription