बूंद-बूंद में समाई है बड़ी बचत

गौरव सिंघल

3rd May 2021

बचत चाहे छोटी से छोटी ही क्यों न हो, आडे वक्त में बहुत काम आती है। आजकल ऐसी कई स्कीम्स हैं, जिनका लाभ कोई भी आसानी से उठा सकता है।

बूंद-बूंद में समाई है बड़ी बचत

बचत बहुत ही आवश्यक है। उसको सही जगह निवेश करना भी जरूरी है। यहां हम ऐसी ही कुछ स्कीम्स के बारे  में आपको बता रहे हैं

पीपीएफ एकाउंट

ऐसा कोई भी व्यक्ति, जो भारत का नागरिक है, पीपीएफ एकाउंट खोल सकता है। चाहे वह व्यक्ति बालिग हो या नाबालिग। इसमें कम से कम प्रत्येक वर्ष में 500 रुपये जमा करने होते हैं। वर्ष में अधिक से अधिक एक लाख रुपये जमा कर सकते हैं। इसमें डिपॉजिट 500 रुपयों के गुणांकों में ही होगा। एक वर्ष में बारह किस्तों से ज्यादा नहीं जमा कर सकते। तीसरे वर्ष से लोन भी ले सकते हैं। इस खाते की अवधि 15 वर्ष की होती है। इस खाते में अॢजत ब्याज पूर्णतया कर मुक्त है।

फिक्स्ड डिपॉजिट (टर्म डिपॉजिट)

प्रत्येक बैंक एवं फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशन फिक्स डिपॉजिट करती है। यह पूर्णतया सुरक्षित निवेश है। प्रत्येक बैंक की ब्याज दर भिन्न-भिन्न हो सकती है। यदि जमा राशि की अवधि पूर्ण होने पर मूलधन एवं ब्याज लेते हैं, तब तो त्रिमासिक आधार पर ब्याज लगेगा। इस एफडी पर लोन भी ले सकते हैं। एफडी सात दिन से लेकर दस वर्ष तक की बनवा सकते हैं।

रकरिंग डिपॉजिट (आरडी)

आरडी किसी भी बैंक एवं डाकखाने में खोल सकते हैं। इसमें पहले से निश्चित धनराशि हर महीने जमा करनी पड़ती है। इसमें हम अपनी इच्छा से कम से कम और ज्यादा से ज्यादा धन राशि जमा कर सकते हैं। हर महीने एक ही निश्चित धन राशि जमा करनी पड़ेगी।

बचत खाता (सेविंग एकाउंट)

कोई भी व्यक्ति बचत खाता खोल सकता है। इसमें जो भी हमारी बचत हो, वह जमा कर सकते हैं। बचत खाते में 4 प्रतिशत सालाना ब्याज मिलता है।

यह भी पढ़ें -यूं ही नहीं कही जा रही हैं ये सुपरमॉम्स

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

क्यों है बौद...

क्यों है बौद्घ धर्म में स्तूप का इतना महत्त्व?...

महिलाओं की प...

महिलाओं की पांच प्रमुख स्वास्थ्य समस्याएं...

गर्मियां और ...

गर्मियां और झुलसती त्वचा

कई रोगों को ...

कई रोगों को बढ़ावा देता है मोटापा

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription