इन 26 स्मार्ट तरीकों से आपका भी बच्चा ले सकता है चैन की नींद

मोनिका अग्रवाल

21st May 2021

बच्चों के लिए पर्याप्त नींद लेना बहुत आवश्यक है जिससे उनका मूड भी अच्छा रहता है और विकास भी बेहतर होता है । हम आपके लिए कुछ ऐसी स्मार्ट ट्रिक्स व टिप्स और फैक्ट्स लाए हैं जिससे आप अपने बच्चे को एक अच्छी और चैन की नींद दें सकते है ।

इन 26 स्मार्ट तरीकों से आपका भी बच्चा ले सकता है चैन की नींद

बच्चा ले सकता है चैन की नींद

अक्सर कई पैरेंट्स इस बात को लेकर परेशान रहते हैं कि उनका बच्चा ठीक से सो रहा है या नहीं । वह इसके लिए डॉक्टर से भी सलाह लेते हैं। दरअसल नवजात शिशु के लिए भरपूर नींद लेना बहुत जरूरी है। डॉक्टरों के अनुसार नवजात के लिए 16 घंटे की नींद जरूरी है। अक्सर कई बच्चे रात को उठ जाते हैं और रोने लगते हैं। नींद पूरी न होने की वजह से वह अगले दिन चिड़चिड़े हो जाते हैं। बच्चों के ठीक से न सो पाने के कई कारण होते हैं क्या आप का बच्चा पूरी नींद नहीं सोता। ऐसे में यहां हम आपको बताएंगे कुछ ऐसे उपाय जिनकी मदद से आप बच्चे को आराम से सुला सकते हैं, वह पूरी नींद लेगा और कोई परेशानी भी नहीं होगी।

1.आई कॉन्टैक्ट अवॉइड करें

जब हम अपने बच्चे के साथ आई कॉन्टैक्ट करते है तो वे काफी उत्साहित हो जाते है । बच्चों के साथ आई कॉन्टैक्ट करना , हमारा उनसे प्यार जताने का एक अच्छा तरीका होता है । लेकिन जब आप उन्हे सोने के लिए ले जा रहें हो तो ऐसा करने से बचें । बार बार अपने बच्चे के साथ आई कॉन्टैक्ट करने से वे मचल जाते है और सो नहीं पाते । 

2.नहाने के लिए

अपने बच्चे के नहाने के लिए हमेशा गरम पानी का ही इस्तेमाल करें  और वॉशक्लॉथ से उन्हें हल्के हाथों से ही नहलाएं । ऐसा करने से बच्चों को  आराम मिलता है  और वे रिलैक्स महसूस करते हैं । बच्चों को नहलाते समय  फुहारे वाले खिलौने से दूर रखें । बच्चे को नहलाते समय आराम और रिलैक्स महसूस कराने के लिए  किसी भी तरह की तेज आवाज या गतिविधि न करें इससे उनका ध्यान भटकता है और वे खेल कूद में लग जाते हैैं। ऐसे ही एक आरामदायक स्नान के बाद आपके बच्चे को अच्छी नींद जरूर आएगी । 

3.को-स्लीप है बेस्ट

चाहे आप,  को-स्लीप के बारे में जानते हों या नहीं, एक अध्यन में बताया गया  हैं कि जो बच्चे अपने माता-पिता के साथ सोते हैं वे उच्च आत्म-सम्मान और कम चिंता के साथ बड़े होते हैं। सुरक्षित रूप से अपने बच्चे के  सोने के लिए, आप अपने बिस्तर के बगल में एक को-स्लीपर या बेसिनेट रखें । ऐसा करने से आपका बच्चा अच्छी नींद लेगा और आपको भी अधिक चिंता करने को जरूरत नहीं पड़ेगी । 

4.ड्रीम फीड : बच्चे को न सुलाएं भूखा 

अगर आपका शिशु रात को भूख से जागता है, तो ऐसे में ड्रीम फीड से आपके बच्चे को मदद मिल सकती  है। ड्रीम फीड का मतलब है ; भूख से जागने के लिए उसके इंतजार करने के बजाय, अपने बच्चे को बिस्तर पर जाने से पहले ही अच्छे से उसका पेट भर दें । बच्चे को रात में चैन से सुलाने के लिए आपका यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि बच्चे का पेट  खाली न हो। अक्सर बच्चा रात के समय तभी उठता है जब वह खाली पेट होता है या भूख लगती है। अगर उसका पेट भरा होगा तो वह नहीं उठेगा।अगर आपका बच्चा अच्छे से पेट भर कर सोता है तो , इसका मतलब है  यह एक अच्छी और लंबी नींद ले रहा है । 

5.बेबी क्रिब को रखे खाली

पालना के अंदर अन्य सामान न रखें जैसे तकिए, सॉफ्ट टॉएज़ आदि। अपने बच्चे के सोने की जगह को बिलकुल साफ और किसी भी तरह के समान से खाली रखें । शिशु के आस पास रखा ब्लाक , खिलौने , स्टफ्ड एनिमल्स उसके सोने में समस्या बन सकते हैं । इन सब से आपके बच्चे के दम घुटने की संभावना भी बढ़ सकती है । इसलिए ऐसी चीजों से अपने बच्चे को दूर रखें । अगर आप गर्मी के बारे में चिंतित हैं , तो कंबल के बजाय हल्की चादर का इस्तेमाल कर सकते हैं । 

6.खुशबू से आती है आराम की नींद

अच्छी नींद के लिए लैवेंडर ऑयल की कुछ बूंदे बच्चे के बिस्तर के आस पास छिड़कें । हालांकि लैवेंडर ऑयल और अन्य एसेंशियल ऑयल अपने रिलैक्सिंग और एंटी एंजाइटी गुणों के लिए जाने जाते हैं । इनकी खुशबू से शरीर रिलैक्स और स्ट्रेस फ्री हो जाता है । लेकिन 6 महीने से कम उम्र के बच्चों के लिए कोई भी एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल करना सही नहीं है । तो ऐसे छोटे बच्चों के लिए जिनकी काफी सेंसिटिव स्किन और नाक है उन्हे ऐसे फ्रेगेंस से बचाए और बच्चे के बिस्तर को धोते समय बिना खुशबू वाले  डिटर्जेंट का ही इस्तेमाल करें । 

7. जीईआरडी (GERD)

गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) एक सामान्य रूप से अनियंत्रित चिकित्सा कारण है, जिससे कुछ शिशुओं को सोने में समस्या होती है । यह मसल्स में एक खराबी के कारण होता है , जहां एसोफैगस ( अन्नप्रणाली ) पेट से मिलती है, जीईआरडी के परिणाम स्वरूप एसिड आपके बच्चे के अन्नप्रणाली में आ जाता है, जिससे आपके बच्चे को दर्द होता है। ऐसा होने पर बच्चा थूकता है , उसे घरघराहट होती है , दम घुटना या गैगिंग, और दूध पीने में समस्या होती  हैं। यदि आपको अपने बच्चे को लेकर जीईआरडी के बारे में कोई चिंता  है, तो आप डॉक्टर से जांच करवाएं । 

8.हाथों से बच्चे को सहलाए और थपथपाए 

जब आप अपने बच्चे को सोते समय पालने में लिटाती हैं, तो अपने हाथों को उसके पेट, बाहों और सिर पर धीरे से सहलाए और थपथपाए और उसे शांत करने का प्रयास करें। ऐसा करने से आपके बच्चे को आपके पास होने का अनुभव रहता है और वह सुरक्षित महसूस करता है । आपका यह छोटा सा सहयोग आपके बच्चे के लिए बड़ा चमत्कार बन सकता है।  

9.आइडियल बेडटाइम करें फिक्स

बच्चे जो ज्यादा थके हुए होते है उनके लिए अक्सर नींद आना असंभव होता है । इसलिए जरूरी है की बच्चों के सोने का एक आइडियल टाइम रखा जाए । कई एक्सपर्ट मानते है की एक साल से कम उम्र के बच्चों के लिए शाम 6:30 से 7 बजे का समय सोने के लिए उपयुक्त है । जल्दी सोने यह मतलब नहीं है की आप जल्दी उठेंगे , आप जल्दी तब उठते है जब आप अच्छी नींद सोते है।  इसलिए जरूरी है आपके बच्चे के लिए अच्छी नींद लेना ।

10.कपड़े हों आरामदायक 

आप अपने बच्चे को किस तरह के कपड़े पहनाती हैं , इससे भी उनके सोने पर प्रभाव पड़ सकता है । बच्चों को हमेशा आरामदायक कपड़े पहना कर सुलाना चाहिए। कई बार बच्चे समझ नहीं पाते हैं कि उनको नींद क्यों नहीं आ रही है। पर इसका कारण उनके असहज कपड़े भी हो सकते हैं। हो सकता है कि उनके कपड़े कुछ टाइट हों या फिर उनको उन कपड़ों में ज्यादा गर्मी लग रही हो। इसलिए शुरू से ही बच्चों को नाइट ड्रेस में सोने की आदत डालें। ऐसे कपड़े सोने के लिए ज्यादा अच्छे होते हैं। बच्चों को कई बार सिंथेटिक फाइबर से दिक्कत हो सकती है ,जो रैशेज और इरीटेशन का कारण बन सकते हैं। जिससे उनके सोने में भी बाधा उत्पन्न होती है।  इसलिए इस तरह की समस्या से बचने के लिए नेचुरल फाइबर ' कॉटन' से बने कपड़े ही अपने बच्चे को पहनाएं । स्लीपवियर जो फ्लेम-रिटार्डेंट नहीं है (कॉटन से बने जैमियों की तरह) , बच्चो के लिए  पूरी तरह से फिट और आरामदायक होते है । 

11.रूम टेंपरेचर रखें कूल 

आप जानते हैं कि जब कमरे का तापमान सही और कूल होता है तो आप हमेशा बेहतर और अच्छी नींद सोते है । खैर, आपका बच्चा भी आपकी ही तरह हैं । आपके बच्चे को भी सही कमरे के तापमान की जरूरत होती है , जिससे वे अच्छी और आरामदायक नींद सो सके ।अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स आपके बच्चे के कमरे में 65 और 70 डिग्री फ़ारेनहाइट के बीच तापमान रखने की सलाह देता है।

12.कमरे की लाइट रखे डार्क 

अगर आपको अपने बच्चे को यह बताना है कि अब उनके  सोने का समय हो गया है , तो कमरे की लाइट को कर दे बंद और कमरे में अंधेरा कर दें। इससे आपके बच्चे को लगेगा कि सोने का समय हो गया है  । बच्चे को दिन में सुलाने के लिए कमरे में रात जैसा माहौल बनाएं । कमरे की खिड़कियां बंद कर दें , पर्दे लगा दें , कमरे में अंधेरा कर दें जिससे आपके बच्चे को लगे कि रात हो रही है और जब उसके उठने का समय हो , फिर चाहे सुबह हो या दोपहर के सोने के बाद , कमरे के पर्दे खोलें , लाइट जला दें और दिन रात का  अंतर समझाने में उनकी मदद करें । 

13.बच्चे की तेल से करें मालिश 

एक अध्यन के अनुसार बताया गया है कि , जो बच्चे सोने से पहले 15 मिनट की बॉडी मसाज लेते है वे दूसरों के मुकाबले जल्दी और अच्छी नींद का अनुभव करते हैं । तो आप अपने बच्चे के सोने से पहले अपने हल्के हाथों से उसकी मालिश जरूर करें । उन्हे उल्टा लिटा कर उनके पूरे शरीर पर अच्छे से तेल से मसाज करें  । इससे आपके को अच्छी नींद आने के साथ साथ वह रिलैक्स भी महसूस करेंगा और उसके शरीर का विकास भी तेजी से होगा । 

14.बच्चों को बीच बीच में लेने दें झपकी 

आपके बच्चे की मानसिक और शारीरिक वृद्धि के लिए दिन में झपकी लेना भी महत्वपूर्ण हैं । आपके बच्चे के बीच बीच में झपकी लेने की वजह से आपको अपने काम करने का समय मिल जाता है । लेकिन ध्यान रहे कि आपका बच्चा दिन में अधिक नींद न लें क्योंकि ऐसा करने से उसे रात में नींद आने में दिक्कत हो सकती हैं । 

15.सोने से पहले डायपर जरूर पहनाएं 

रात को सोने के समय अगर बच्चा बिस्तर गीला कर देता है, तो उसकी नींद खराब हो जाती है। इसके बाद उसे सुलाने में काफी जद्दोजहद करनी पड़ती है। इससे बचने के लिए रात को सोने से पहले उसे डायपर पहना देना चाहिए, ताकि वह आराम से सो सके । अगर वह रात में डायपर गीला कर देता है तो , यह उसके लिए परेशानी बन सकती है । ऐसे में आप अल्ट्रा अब्जॉर्ब डायपर्स का इस्तेमाल करें। ये डायपर्स स्किन प्रोटेक्शन क्रीम और डबल लीक गार्ड के साथ आते है जो आपके बच्चे को पूरे रात सुरक्षा देते हैं और रैशेज और इरीटेशन से भी बचाते है । 

16.पेसिफायर 

शिशुओं को हमेशा मुंह में कुछ न कुछ चाहिए होता है। इसलिए कुछ न होने पर वे अपनी हाथ या पैरो की उंगलियां या  अंगूठा भी चूसने लगते हैं । ऐसे में बच्चे की इस इच्छा को शांत करने के लिए  पेसिफायर का उपयोग किया जाता है। इन्हे आर्टिफिशियल निप्पल भी कहा जाता है । इसका उपयोग शिशु को सुलाने के लिए भी किया जाता है । लेकिन एक बार जब आपका बच्चा सो जाए तो ,उसके मुंह से इसे निकाल दें , ताकि इसके गिरने से आपके बच्चे की नींद खराब  न हो । सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा उपयोग में लाए जाने वाला पेसिफायर मुलायम और नरम हो , इसलिए जब आपका बच्चा उसे अपने मुंह में रोल या चबाने की कोशिश करे तो उसे चोट न लगे । 

17.खुद को रखें हर दम तैयार 

आप कभी नहीं जान सकते हैं कि रात के बीच में आपको कब और क्या करना पड़ सकता है , और आप क्या करने को तैयार है । कभी कभी ऐसा भी होता है कि आप पूरी रात अपने बच्चे को सहला सहला कर सुला रही है , या डैडी बेबी के क्रिब को धीरे धीरे झुला रहे हैं ।इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है,  ऐसा कई बार होता है जब छोटे बच्चे आधी रात में जाग जाते हैं और परेशान करते है । इसलिए खुद को हर परिस्थिति के लिए तैयार रखे । 

18.बच्चों के लिए एक ही रूटीन बनाए और उसे फॉलो करें 

बच्चों के लिए यह समझ पाना कि कब कौन सा समय उनके लिए सोने का है , यह मुश्किल है और असंभव भी है।लेकिन आपके द्वारा बनाया गया रूटीन आपके बच्चे को यह समझने में मदद कर सकता है।  इसलिए अपने बच्चो के साथ रहें और उन्हे कैसे कंसिस्टेंसी बनाए रखनी है यह जानने में उनकी मदद करें । बच्चे के रूटीन को बदलने के बारे में ना सोचें क्योंकि इस बदलाव के साथ एडजस्ट करने में बच्चे को अधिक समय लग सकता है। बच्चे को सुलाने को एक बड़ा काम न मानें। इसे दिन का सबसे अच्छा पल समझें क्योंकि इस समय आपका बच्चा केवल आपके साथ होता है।

19.शिशु को कपड़ो में अच्छे से स्वैडल करें 

स्वैडल का मतलब है ; सुरक्षा के लिए या गरम रखने के लिए शिशु को कपड़े में अच्छी तरह लपेटना। आपका नवजात शिशु पैदा होने से पहले आपके गर्भ में कसकर पैक रहता है , इसलिए एक स्वैडलिंग कंबल में लिपटे रहने से उसका यह अनुभव डुप्लिकेट हो जाता है। जिससे उसे बेहतर सोने में मदद मिलती है । आप अपने बच्चे को अच्छे से किसी गरम कपड़े में लपेटकर रखें इससे वे सुरक्षित और आरामदायक महसूस करते हैं । बच्चे को नरम महसूस कराने के लिए आप  ‘ बेबी बरिटो ' बनाना सीखें । इसमें बच्चा अच्छे के पैक रहता है और आराम की नींद सोता है। 

20.बच्चों को  सोने से पहले सुनाए कहानी 

बच्चों को कहानी सुनाना एक अच्छा विकल्प होता है, जिसका वे सबसे अधिक आनंद लेते हैं। इस बात से ज्यादा फर्क नहीं पड़ता कि आपका बच्चा कितने साल का है, जब भी आप उन्हें कहानी सुनाते है , उन्हें यह पसंद आता है। ज्यादा आनंद लेने के लिए एक अच्छी किताब चुनें और हल्की आवाज ,कम रोशनी में अपने बच्चे के लिए इसे पढ़ें। आपका आपके बच्चे के बिस्तर पर बैठना उन्हें भी अच्छा महसूस करवाता है और वे चैन की नींद सोते है । 

21.बच्चों की हरकतों पर दें ध्यान 

बच्चे के आगमन के कुछ महीनों बाद आपको शिशु के सोने के तरीके और संकेत समझ आने लगेंगे। एक 5 महीने का बच्चा अगर बहुत सो रहा है, यह एक अच्छा संकेत है, क्योंकि उसे आराम की बहुत आवश्यकता है । लेकिन माता पिता होने के नाते यह सुनिश्चित करना आपका काम है कि बच्चे को कब नींद आ रही है और वह कितना थका हुआ है इसलिए अपने बच्चे की हरकतों पर भी ध्यान दें । कुछ ऐसे संकेत जिसे देख आप पता लगा सकते है कि आपका बच्चा थका हुआ है और उसे सोने की जरूरत है । संकेत जैसे ; वह अपनी आंखे और कान रगड़ता है , अधिक जम्हाई लेता है, वे आपकी ओर न देख कर दूसरी दिशा में आकाश की ओऱ घूरता हैं , या बार बार  रोता है ,आपनी मुट्ठियाँ कसता है आदि। इन सभी अजीब हरकतों पर ध्यान दें क्योंकि इससे यह निर्धारित करना आसान होगा की उन्हे नींद आ रही है और  वे बिस्तर पर जाने के लिए  तैयार है । 

22.आपकी आवाज दे सकती है बच्चे को आराम 

आपका बच्चा आपकी आवाज से पहले से ही अच्छी तरह परिचित होता है क्योंकि वह पैदा होते ही सबसे पहले आपकी आवाज सुनता है । आपकी आवाज का आपके बच्चे पर अच्छा प्रभाव पड़ता है जिससे वे अपनापन महसूस करते हैं। अपने बच्चे को सुलाते हुए  श ह ह ह ....जैसे हल्की आवाज निकालने से उसे अच्छी नींद आती है , क्योंकि आपकी आवाज से उसे महसूस होता है की आप उसके पास है और वह सुरक्षित है । 

23 .कुछ बच्चों को हल्के शोर में आ सकती है नींद 

यह आपके लिए सुनने में  थोड़ा अजीब होगा लेकिन कुछ बच्चों को हल्के शोर में अच्छी नींद आती है । आप अपने बच्चे को‘ साइलेंट ट्रीटमेंट ' न दें! जब बच्चा आपके पेट में होता है तो , वह आपके पेट में लगातार अजीब अजीब आवाज़ें का अनुभव करता है , जैसे आपका धड़कता हुआ दिल और पेट से आती आवाजे , इसलिए उसके लिए इस तरह का साइलेंट ट्रीटमेंट चौंकाने वाला हो सकता है। यदि आप हल्की आवाज वाले मशीन या पंखे को चालू करते हैं तो आपका बच्चा भी आसानी से सो सकता  हैं। लेकिन यह सभी बच्चों के साथ नहीं होता , ऐसा भी हो सकता है कि आपके बच्चे को शांति में सोना पसंद हो । लेकिन जब आपका बच्चा सो रहा हो, तो घर में तेज आवाज वाले उपकरण जैसे मिक्सी, वैक्यूम क्लीनर आदि का इस्तेमाल न करें। इससे बच्चे डर कर जाग जाते हैं।

24.सोने से पहले अपने बच्चे को दें " मम्मा किस " 

जब आप अपने बच्चे को सोने से पहले मम्मा किस देते है तो वे अधिक सुरक्षित महसूस करते है । आपका प्यार से अपने बच्चे को सहलाना और उसे किस करना , आपके बच्चे के लिए एक गुड ड्रीम बन सकता है । उन्हे एहसास होता है कि आप उनसे कितना प्यार करती हैं । इससे आपका बच्चा एक अच्छी और गहरी नींद सोता है । 

25.बच्चे को सुनाएं लोरी 

बच्चे को अच्छी और लंबी नींद में सोने के लिए गाना या लोरी सुनाएं । अक्सर बच्चों को धीमी आवाज में गाना या लोरी सुनाने से आप उनका तनाव कम कर सकती हैं और उन्हे अच्छी नींद दे सकती हैं । अगर आपका बच्चा सो नहीं रहा है, तो उन्हे गाना या लोरी सुना कर सुलाने का एक अच्छा तरीका है । इससे उन्हे जल्दी नींद आ जाती है । 

26.शांति का माहौल बनाएं और बच्चे को सोने दें 

ज़ ज़ ज़ क्या है ? यह आवाज है आपके बच्चे के सोने की । अब आपका बच्चा सो रहा है इसलिए बात करना बंद करें को मौन का आनंद लो । बच्चे की नींद बहुत कच्ची होती है। वह जरा सी आवाज में उठ जाते हैं। ऐसे में जरूरी है कि घर में शांत माहौल बना रहे।अपने बच्चे के कमरे में किसे भी तरह की आवाज करने से बचें ।  बच्चों की अच्छी नींद के लिए शांती वाले माहौल को बनाए रखें और उन्हे चैन की नींद सोने दें ।

अब आपका बच्चा अच्छी और गहरी नींद में सोने को बिल्कुल तैयार है । आप इन सभी बेहतरीन टिप्स , ट्रिक्स , और फैक्ट्स को फॉलो कर अपने बच्चे को दे सकते है आरामदायक नींद । हमेशा सुनिश्चित करें कि आपके बच्चों को अच्छी नींद मिले। ऐसा इसलिए है क्योंकि उनके पहले कुछ वर्षों में उन्हें मिलने वाले पोषण और आराम की मात्रा बाद में उनके विकास में प्रमुख भूमिका निभाती है।

यह भी पढ़ें-

किशोर आत्महत्याओं की बढ़ती दर क्या है वजह

अपने बॉस से कभी ना कहे यह बातें

बच्चों के स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

पांच पेरेंटि...

पांच पेरेंटिंग राज जो आपके बच्चे के व्यवहार...

बच्चे को अच्...

बच्चे को अच्छी नींद देने की 13 ट्रिक्स

बच्चे के भले...

बच्चे के भले के लिए आपकी भरपूर नींद जरूरी...

Gl ban 65w

संपूर्ण विकास स्पर्श में छिपा है

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

वापसी - गृहल...

वापसी - गृहलक्ष्मी...

 बीस साल पहले जब वह पहली बार स्कूल आया था ,तब से लेकर...

7 ऐसे योग आस...

7 ऐसे योग आसन जो...

स्ट्रेस, देर से सोना, देर से जागना, जंक फूड खाना, पौष्टिक...

संपादक की पसंद

हस्त रेखा की...

हस्त रेखा की उत्पत्ति...

जिन मनुष्यों ने हस्त विज्ञान की खोज की उसे समझा और...

अक्सर पैसे ब...

अक्सर पैसे बढ़ाने...

बाई काम पर आती रहे, काम अच्छा करे और पैसे बढ़ाने की...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription