देखिए चर्चित हस्तियों को राकेश गुप्ता जी के साथ टी.वी शो 'प्लस-माइनस में

गृहलक्ष्मी टीम

12th May 2021

साधना टीवी. ईश्वर टीवी, साधना प्लस न्यूज चैनल व 20 अन्य प्रमुख राष्टï्रीय/क्षेत्रिय चैनल ||

देखिए चर्चित हस्तियों को राकेश गुप्ता जी के साथ टी.वी शो 'प्लस-माइनस में

साधना टीवी. ईश्वर टीवी, साधना प्लस न्यूज चैनल व 20 अन्य प्रमुख राष्ट्रीय /क्षेत्रिय चैनल और अमेरिका में ''टी.वी. एशिया पर प्लस माइनस कार्यक्रम हर सप्ताह प्रसारित हो रहा है, जिसमें साधना ग्रुप के चेयरमैन श्री राकेश गुप्ता राजनीति, धर्म, कला आदि विधाओं के अग्रणी लोगों से सामाजिक विषयों पर चर्चा करते हैं। पिछले महीने प्रसारित हो चुके कार्यक्रम हैं:-

केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  श्री हरदीप सिंह पुरी- 

दिल्ली में जन्में हरदीप सिंह पुरी भारत में आवास और शहरी मामलों के मंत्री है। वह 1974 बैच के भारतीय विदेश सेवा अधिकारी हैं जिन्होंने 2009 से 2013 तक संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के स्थायी प्रतिनिधि के रूप में कार्य किया। पुरी जनवरी 2014 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए और अपना राजनैतिक सफर शुरू किया। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के आतंकवाद-रोधी समिति के अध्यक्ष, अंतर्राष्ट्रीय शांति संस्थान के उपाध्यक्ष और न्यूयॉर्क में बहुपक्षवाद पर स्वतंत्र आयोग के महासचिव के रूप में कार्य किया है। सितंबर 2017 में उन्हें प्रधानमंत्री मोदी के मंत्रिमंडल में जगह मिली। हरदीप कई पुस्तकों, शोध पत्रों और पत्रिकाओं के लेखक हैं।

पूर्व विदेश मंत्री और वरिष्ठ नेता,  सलमान खुर्शीद-

भारतीय राजनीतिज्ञ, नामित वरिष्ठ अधिवक्ता, प्रख्यात लेखक और कानूनी शिक्षक सलमान खुर्शीद कांग्रेस का जाना माना नाम है। मनमोहन सिंह सरकार में खुर्शीद विदेश मंत्री थे। उन्होंने 1981 में इंदिरा गांधी के समय में पीएमओ में एक विशेष अधिकारी के रूप में अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की। एक सफल वकील और लेखक खुर्शीद 2009 की आम चुनाव में फर्रुखाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए। वह जून 1991 में वाणिज्य के केंद्रीय उप मंत्री बने और बाद में विदेश मामलों के राज्य मंत्री बनाए गए। कांग्रेस में उनके कद का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि फर्रुखाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से खुर्शीद पर राहुल गांधी ने फिर से भरोसा दिखाया है और उनको फिर से टिकट दी है। कई विवादों के केंद्र में आ चुके सलमान खुर्शीद पिछले लोकसभा चुनाव 2014 में इसी सीट पर ही बुरी तरह से हार गए थे और वो चौथे नंबर पर रहे थे। इस बार बदले हालातों के कारण सलमान खुर्शीद अपनी जीत तय मानकर चल रहे हैं। कांग्रेस को लेकर भी उनके बड़े-बड़े दावे हैं।

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवर्धन-

भारत सरकार में केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पृथ्वी विज्ञान मंत्री हैं। वह दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेताओं में से एक हैं। वर्तमान में वह 16 वीं लोकसभा में संसद सदस्य के रूप में दिल्ली के चांदनी चौक का प्रतिनिधित्व करते हैं। डॉ. हर्षवर्धन बचपन से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यकर्ता रहे हैं, जिसने धीरे-धीरे उन्हें राजनीति की तरफ मोड़ दिया। हर्षवर्धन दिल्ली विधानसभा चुनाव के इतिहास में कभी नहीं हारे हैं। दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की सरकार (1993-1998) के दौरान इन्होंने स्वास्थ्य मन्त्री, कानून मन्त्री और शिक्षा मन्त्री सहित राज्य मन्त्रिमण्डल में विभिन्न पदों पर कार्य किया। लोकसभा से पहले वह दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से दिल्ली मुख्यमंत्री उम्मीदवार के रूप में चुने जा चुके हैं।

हास्य कवि पद्मश्री सुरेंद्र शमा-

भागदौड़ भरी जिंदगी में यदि कुछ पल के लिए भी खुलकर हंसने का मौका मिल जाए तो शरीर में एक नई ऊर्जा आ जाती है। उसमें भी यदि हास्य कवि पद्मश्री सुरेंद्र शर्मा को सुनने का मौका मिले तो महफिल में चार चांद लग जाता है। हमारे देश में कई महान कवियों ने जन्म लिया लेकिन हर कवि की लेखन शैली अलग होती है। कोई प्यार, कोई भक्ति, कोई किसी अन्य चीज पर कविताएं लिखता है। जब कभी हास्य कवियों की बात सामने आती है तो सुरेंद्र शर्मा जी का नाम सबसे पहले जेहन में आता है। हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा अपनी सादगी और भदेस व्यंग्य के लिए जाने जाते हैं। व्यंग्य और हास्य की तीखी-चुभती कविताएं सुनाते समय वह साधक की तरह तटस्थ, निर्विकार, चट्टान की तरह अडिग रहते हैं। कविता सुनाते समय शातिर रणनीतिकार की तरह नजर आने वाले सुरेंद्र शर्मा दरअसल व्यक्तिगत तौर पर दूसरों की सहायता करने में तत्पर और पाने से अधिक खोने वाले आदमी तौर पर पहचाने जाते हैं। पत्नी से डरन वाले एक देहाती पति के रूप में सुरेन्द्र शर्मा ने दशकों तक लोगों को हंसाया है, लेकिन स्टैंडअप कॉमेडी के इस दौर में उन्होंने खुद को प्रासंगिक बनाए रखा है।

उपाध्यक्ष, विश्व हिन्दू परिषद् और वरिष्ठ प्रचारक आरएसएस  श्री चंपत राय-

सौगंध राम की खाते है मंदिर वहीं बनाएंगे और 'बच्चा बच्चा राम का जन्म भूमि के काम का जैसे नारों को घर-घर पहुंचाने का श्रेय विश्व हिन्दू परिषद् को जाता है। विश्व हिन्दू परिषद् लंबे समय से रामलला के मंदिर के लिए कोर्ट में लड़ाई लड़ रही है। इस लड़ाई को आस्था के साथ तथ्यों का विषय बनाने का श्रेय जाता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक और विश्व हिन्दू परिषद के उपाध्यक्षचंपत राय को जो राम मंदिर निर्माण के लिए कृतसंकल्प हैं और अपने जीवन का लंबा समय इस कार्य में लगा रखा है। 'प्लस माइनस कार्यक्रम में राम मंदिर को चुनावी मुद्दा बनाने के जवाब में चंपत राय ने कहा कि, 'राम मंदिर कभी भी उनके लिए चुनाव का मुद्दा नहीं रहा है न कभी रहेगा। राम मंदिर बनाना तथ्य परख है क्योंकि वह रामलला का जन्म स्थान है। इससे किसी भी तरह का राजनीतिक लाभ लेना इससे जुड़े किसी भी व्यक्ति या संस्था का मकसद नहीं हैं।

यह भी पढ़ें -परिस्थितियों से लड़कर कमाई खुशिया

सा धना टीवी. ईश्वर टीवी, साधना प्लस न्यूज चैनल व 20 अन्य प्रमुख राष्टï्रीय/क्षेत्रिय चैनल और अमेरिका में ''टी.वी. एशियाÓÓ पर प्लस माइनस कार्यक्रम हर सप्ताह प्रसारित हो रहा है, जिसमें साधना ग्रुप के चेयरमैन श्री राकेश गुप्ता राजनीति, धर्म, कला आदि विधाओं के अग्रणी लोगों से सामाजिक विषयों पर चर्चा करते हैं। पिछले महीने प्रसारित हो चुके कार्यक्रम हैं: ेंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  श्री हरदीप सिंह पुरी दिल्ली में जन्में हरदीप सिंह पुरी भारत में आवास और शहरी मामलों के मंत्री है। वह 1974 बैच के भारतीय विदेश सेवा अधिकारी हैं जिन्होंने 2009 से 2013 तक संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के स्थायी प्रतिनिधि के रूप में कार्य किया। पुरी जनवरी 2014 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए और अपना राजनैतिक सफर शुरू किया। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के आतंकवाद-रोधी समिति के अध्यक्ष, अंतर्राष्ट्रीय शांति संस्थान के उपाध्यक्ष और न्यूयॉर्क में बहुपक्षवाद पर स्वतंत्र आयोग के महासचिव के रूप में कार्य किया है। सितंबर 2017 में उन्हें प्रधानमंत्री मोदी के मंत्रिमंडल में जगह मिली। हरदीप कई पुस्तकों, शोध पत्रों और पत्रिकाओं के लेखक हैं। पूर्व विदेश मंत्री और वरिष्ठ नेता,  सलमान खुर्शीद भारतीय राजनीतिज्ञ, नामित वरिष्ठ अधिवक्ता, प्रख्यात लेखक और कानूनी शिक्षक सलमान खुर्शीद कांग्रेस का जाना माना नाम है। मनमोहन सिंह सरकार में खुर्शीद विदेश मंत्री थे। उन्होंने 1981 में इंदिरा गांधी के समय में पीएमओ में एक विशेष अधिकारी के रूप में अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की। एक सफल वकील और लेखक खुर्शीद 2009 की आम चुनाव में फर्रुखाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए। वह जून 1991 में वाणिज्य के केंद्रीय उप मंत्री बने और बाद में विदेश मामलों के राज्य मंत्री बनाए गए। कांग्रेस में उनके कद का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि फर्रुखाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से खुर्शीद पर राहुल गांधी ने फिर से भरोसा दिखाया है और उनको फिर से टिकट दी है। कई विवादों के केंद्र में आ चुके सलमान खुर्शीद पिछले लोकसभा चुनाव 2014 में इसी सीट पर ही बुरी तरह से हार गए थे और वो चौथे नंबर पर रहे थे। इस बार बदले हालातों के कारण सलमान खुर्शीद अपनी जीत तय मानकर चल रहे हैं। कांग्रेस को लेकर भी उनके बड़े-बड़े दावे हैं। केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवर्धन भारत सरकार में केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पृथ्वी विज्ञान मंत्री हैं। वह दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेताओं में से एक हैं। वर्तमान में वह 16 वीं लोकसभा में संसद सदस्य के रूप में दिल्ली के चांदनी चौक का प्रतिनिधित्व करते हैं। डॉ. हर्षवर्धन बचपन से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यकर्ता रहे हैं, जिसने धीरे-धीरे उन्हें राजनीति की तरफ मोड़ दिया। हर्षवर्धन दिल्ली विधानसभा चुनाव के इतिहास में कभी नहीं हारे हैं। दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की सरकार (1993-1998) के दौरान इन्होंने स्वास्थ्य मन्त्री, कानून मन्त्री और शिक्षा मन्त्री सहित राज्य मन्त्रिमण्डल में विभिन्न पदों पर कार्य किया। लोकसभा से पहले वह दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से दिल्ली मुख्यमंत्री उम्मीदवार के रूप में चुने जा चुके हैं। हास्य कवि पद्मश्री सुरेंद्र शमा भागदौड़ भरी जिंदगी में यदि कुछ पल के लिए भी खुलकर हंसने का मौका मिल जाए तो शरीर में एक नई ऊर्जा आ जाती है। उसमें भी यदि हास्य कवि पद्मश्री सुरेंद्र शर्मा को सुनने का मौका मिले तो महफिल में चार चांद लग जाता है। हमारे देश में कई महान कवियों ने जन्म लिया लेकिन हर कवि की लेखन शैली अलग होती है। कोई प्यार, कोई भक्ति, कोई किसी अन्य चीज पर कविताएं लिखता है। जब कभी हास्य कवियों की बात सामने आती है तो सुरेंद्र शर्मा जी का नाम सबसे पहले जेहन में आता है। हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा अपनी सादगी और भदेस व्यंग्य के लिए जाने जाते हैं। व्यंग्य और हास्य की तीखी-चुभती कविताएं सुनाते समय वह साधक की तरह तटस्थ, निर्विकार, चट्टान की तरह अडिग रहते हैं। कविता सुनाते समय शातिर रणनीतिकार की तरह नजर आने वाले सुरेंद्र शर्मा दरअसल व्यक्तिगत तौर पर दूसरों की सहायता करने में तत्पर और पाने से अधिक खोने वाले आदमी तौर पर पहचाने जाते हैं। पत्नी से डरन वाले एक देहाती पति के रूप में सुरेन्द्र शर्मा ने दशकों तक लोगों को हंसाया है, लेकिन स्टैंडअप कॉमेडी के इस दौर में उन्होंने खुद को प्रासंगिक बनाए रखा है। उपाध्यक्ष, विश्व हिन्दू परिषद् और वरिष्ठ प्रचारक आरएसएस  श्री चंपत राय सौगंध राम की खाते है मंदिर वहीं बनाएंगेÓ और 'बच्चा बच्चा राम का जन्म भूमि के काम काÓ जैसे नारों को घर-घर पहुंचाने का श्रेय विश्व हिन्दू परिषद् को जाता है। विश्व हिन्दू परिषद् लंबे समय से रामलला के मंदिर के लिए कोर्ट में लड़ाई लड़ रही है। इस लड़ाई को आस्था के साथ तथ्यों का विषय बनाने का श्रेय जाता है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक और विश्व हिन्दू परिषद के उपाध्यक्षचंपत राय को जो राम मंदिर निर्माण के लिए कृतसंकल्प हैं और अपने जीवन का लंबा समय इस कार्य में लगा रखा है। 'प्लस माइनसÓ कार्यक्रम में राम मंदिर को चुनावी मुद्दा बनाने के जवाब में चंपत राय ने कहा कि, 'राम मंदिर कभी भी उनके लिए चुनाव का मुद्दा नहीं रहा है न कभी रहेगा। राम मंदिर बनाना तथ्य परख है क्योंकि वह रामलला का जन्म स्थान है। इससे किसी भी तरह का राजनीतिक लाभ लेना इससे जुड़े किसी भी व्यक्ति या संस्था का मकसद नहीं हैं।Ó

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

इस माह के पर...

इस माह के पर्व व उत्सव

मुंबई का इस्...

मुंबई का इस्कॉन मंदिर

आशाओं का सूर...

आशाओं का सूरज - गृहलक्ष्मी कहानियां

अयोध्या-अपरा...

अयोध्या-अपराजेय आस्था की नगरी

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

वापसी - गृहल...

वापसी - गृहलक्ष्मी...

 बीस साल पहले जब वह पहली बार स्कूल आया था ,तब से लेकर...

7 ऐसे योग आस...

7 ऐसे योग आसन जो...

स्ट्रेस, देर से सोना, देर से जागना, जंक फूड खाना, पौष्टिक...

संपादक की पसंद

हस्त रेखा की...

हस्त रेखा की उत्पत्ति...

जिन मनुष्यों ने हस्त विज्ञान की खोज की उसे समझा और...

अक्सर पैसे ब...

अक्सर पैसे बढ़ाने...

बाई काम पर आती रहे, काम अच्छा करे और पैसे बढ़ाने की...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription