डिस्काउंट के चक्कर में अक्सर शॉपिंग पर कर देती हैं खूब खर्चा तो मनी कंट्रोल टिप्स ये रहे

चयनिका निगम

22nd May 2021

छूट के लिए कई बार आप इतनी शॉपिंग कर लेती हैं कि खर्चा बजट से ज्यादा हो जाता है. लेकिन इस वक्त अपनी आदत कंट्रोल करना जरूरी हो जाता है.

डिस्काउंट के चक्कर में अक्सर शॉपिंग पर कर देती हैं खूब खर्चा तो मनी कंट्रोल टिप्स ये रहे
शॉपिंग करने की आदत ऐसी है कि जरूरत हो या ना हो हम खरीदारी करने से खुद को रोक ही नहीं पाते हैं. ये आदत कुछ ऐसी है कि शॉपिंग के बहाने ढूंढती है. छूट के साथ ये बहाने मानो पक्के ही हो जाते हैं. लेकिन छूट देखकर हर बाद शॉपिंग करना सही नहीं है. मेहनत की कमाई को गैर जरूरी चीजों पर बर्बाद भी तो नहीं किया जा सकता है. इसलिए जरूरी है कि छूट देखकर शॉपिंग करने की आदत छोड़ दी जाए. मगर कैसे, चलिए जानते हैं-
पैसे बचाने के लिए छूट-
किसी भी तरह की छूट के झांसे में आने से पहले ये याद रखिए कि छूट आपके पैसे बचाने के लिए है ना कि इन्हें और खर्चने के लिए. इसलिए छूट का फायदा तब उठाइए जब आपको अपने बजट में पैसे बचाने का मौका मिल रहा हो. 
छूट की सच्चाई-
छूट का पूरा फायदा उठाने के लिए जरूरी है कि आप इसके पीछे की सच्चाई जान लें. सच्चाई जानने के बाद आपको निर्णय करना होगा कि सिर्फ छूट के लिए शॉपिंग करना सही है या नहीं. सच्चाई से मतलब छूट असल में छूट है या नहीं. ऐसा तो नहीं छूट के नाम पर आपको ऐसी स्कीम दी गई हो जो सिर्फ बाहर से छूट दिख रही हो. जैसे 3 साड़ियाँ 2000 रूपए में सस्ती लग सकती हैं लेकिन इनकी क्वालिटी इतनी खराब न हो कि इनके लिए ये पैसे भी ज्यादा हों. 
जरूरी क्या है-
जरूरी क्या है? ये एक सवाल आपको खुद से पूछना होगा.शॉपिंग में आपको वो चीजें ही खरीदनी हैं जिनकी आपको जरूरत है. गैर जरूरी चीजों को तुरंत ही शॉपिंग लिस्ट से बहर कर दीजिए. और सुनिश्चित कीजिए कि आप लिस्ट से बाहर कुछ भी नहीं खरीदेंगी. फिर चाहे कितनी भी छूट क्यों न मिल जाए. जैसे राशन लेने जाएं और रास्ते में छूट पर बच्चे के खिलौने मिलते देख आप खुद को ना रोक पाएं तो ये गलत है. लेकिन वहीँ अगर दालों की ज्यदा खरीद पर अच्छी छूट है तो ले लीजिए. आपको अगले कई महीने इन पर खर्च नहीं करना होगा. 
बजट से आगे कुछ नहीं-
हर महीने बजट बनाना एक जरूरी काम है. इस जरूरी काम में अगर थोड़ा भी आगे-पीछे हो तो आप खुद को जरूर रोक लीजिए. रोक लीजिए ताकि किसी भी तरह की छूट आपको लुभा ही ना पाए. बजट से आगे जाती शॉपिंग को ना कह दीजिए. ताकि बजट आपके हाथों से बाहर न जाए बल्कि ये अपनी लिमिट में रहे. 

मनीसम्बन्धी यह आलेख आपको कैसा लगा?  अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही पेरेंटिंग से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

ये भी पढ़ें-

इस तरह करें अपने बच्चों को इमरजेंसी के लिए तैयार

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

मदर्स डे पर ...

मदर्स डे पर ऐसे जीतिए मां का दिल

शिमला की एक ...

शिमला की एक दिन की ट्रिप में जाएं कहां-कहां,...

पुराणों को प...

पुराणों को पढ़ना नहीं, देखना है तो चले आइए...

हाल ही में आ...

हाल ही में आप बनी हैं मां तो ऐसे कीजिए उसके...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

वापसी - गृहल...

वापसी - गृहलक्ष्मी...

 बीस साल पहले जब वह पहली बार स्कूल आया था ,तब से लेकर...

7 ऐसे योग आस...

7 ऐसे योग आसन जो...

स्ट्रेस, देर से सोना, देर से जागना, जंक फूड खाना, पौष्टिक...

संपादक की पसंद

हस्त रेखा की...

हस्त रेखा की उत्पत्ति...

जिन मनुष्यों ने हस्त विज्ञान की खोज की उसे समझा और...

अक्सर पैसे ब...

अक्सर पैसे बढ़ाने...

बाई काम पर आती रहे, काम अच्छा करे और पैसे बढ़ाने की...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription