आखिर क्यों खड़े होकर दूध और बैठकर पानी पीना चाहिए

Jyoti Sohi

8th June 2021

क्या आपने कभी पानी पीने के सही तरीके के बारे में भी सोचा है। जी हां, ईटिंग हैबिट की तरह पानी पीने का सही तरीका अपनाना भी बेहद जरूरी है। खड़े होकर पानी पीने से फूड पाइप के जरिए पानी तेजी से नीचे बह जाता है। इससे पेट के आस पास के अंगों को नुकसान पहुंचता है। इसकी वजह से पेट की बीमारी हो सकती है।

आखिर क्यों खड़े होकर दूध और बैठकर पानी पीना चाहिए
पानी पीने का भी एक तरीका होता है, चौंकिए मत, यह बिलकुल सच है। अब तक आपने सिर्फ क्या खाएं और कैसे खाएं के बारे में ही सोचा होगा, लेकिन क्या आपने कभी पानी पीने के सही तरीके के बारे में भी सोचा है। जी हां, ईटिंग हैबिट की तरह पानी पीने का सही तरीका अपनाना भी बेहद जरूरी है। पानी पीते वक्त हम ज्यादा सोचते नहीं हैं। जब हमें प्यास लगती है तब हम पानी के टेम्परेचर यानी कि ठंडा.गरम देखकर उसे झट से पी लेते हैं। घर में बड़े.बूढ़े अकसर ही कहते हैं कि खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए, लेकिन हम उनकी इस हिदायत को हर बार नजरअंदाज करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि खड़े होकर पानी पीना आपके शरीर के लिए खतरनाक हो सकता है।
पेट की बीमारी
खड़े होकर पानी पीने से फूड पाइप के जरिए पानी तेजी से नीचे बह जाता है। इससे पेट के आस पास के अंगों को नुकसान पहुंचता है। इसकी वजह से पेट की बीमारी हो सकती है। खड़े होकर पानी पीने से प्यास पूरी तरह बुझ नहीं पाती है। और इसलिए आपको बार बार पानी पीने की इच्छा होती है। बेहतर होगा कि एक जगह बैठकर घूंट घूट पानी पिएं। इससे प्यास बुझ जाती है।
किडनी से जुड़ी समस्या 
किडनी का काम पानी को सही ढंग से छानना होता हैण् जब खड़े होकर पानी पीते हैं तो ये अपना कार्य ठीक तरह से नहीं कर पाती है। कारणवश, पानी सही तरह से छनता नहीं हैण् यूरीन साफ नहीं आता और गंदगी किडनी में ही रुक जाती है। इसके चलते किडनी की समस्या, यूरीन में इंफेक्शन और जलन महसूस होती है।
अर्थराइटिस 
खड़े होकर पानी पीने से पानी सीधा घुटनों में उतरता है, यानी जोड़ों में मौजूद तरल पदार्थों का संतुलन बिगड़ जाता है जिससे जोड़ों के दर्द की समस्या होने लगती है। दरअसल, इस आदत के चलते पानी का बहाव तेजी से आपके शरीर से होकर जोड़ों में जमा हो जाता है। जो बदले में हड्डियों और जोड़ों को खतरे में डाल सकता है। हड्डियों के जोड़ वाले हिस्से में तरल पदार्थ की कमी की वजह से जोड़ों में दर्द के साथ हड्डियां कमजोर होना शुरू हो जाती हैं। कमजोर हड्डियों के चलते व्यक्ति गठिया जैसी बीमारी से पीड़ित हो सकता है।
तनाव
तनाव बढ़ने की एक वजह आपका खड़े होकर पानी पीने की आदत है। दरअसल, खड़े होकर पानी पीया जाएए तो इसका सीधा असर तंत्रिका तंत्र पर पड़ता है। इस तरह से पानी पीने से पोषक तत्व पूरी तरह से बेकार हो जाते हैं और शरीर को तनाव का सामना करना पड़ता है।
जोड़ों में दर्द की शुरुआत 
आपने कई बार बड़ों को कहते सुना होगा कि खड़े होकर पानी पीने से घुटनों में दर्द होता है। यह सही है। इस आदत के चलते घुटनों पर दबाव पड़ने लगता है, जिससे आर्थराइटिस की समस्या हो सकती है।
बैठकर पानी पीने के फायदे
बैठकर पानी पीने से पानी सही तरीके से पचता है और सेल्स तक पहुंचता है, जितने पानी की शरीर को जरूरत होती है उसे सोखकर बाकी का पानी यूरीन के जरिए शरीर से बाहर निकलता है। इसमें शरीर के टॉक्सिन्स भी शामिल रहते हैं।
गरम पानी पीने से अतिरिक्त चर्बी नहीं बनती और वजन घटता है। पानी खून साफ करता है और घूंट.घूंटकर पानी पीते हैं तो इससे पेट में एसिड का स्तर नहीं बढ़ता बल्कि खराब एसिड शरीर से बाहर निकलता है।
दूध पीने से पहले जान लें कुछ जरूरी बातें
कमजोर पाचन, त्वचा संबंधी समस्याओं, खांसी, अपच और पेट में कीड़े जैसी समस्याओं से परेशान लोगों को दूध के सेवन से बचना चाहिए।
दूध को कभी भी भोजन के साथ नहीं पीना चाहिए क्योंकि यह जल्द हजम नहीं हो पाताण् इसे हमेशा अलग से गर्म करके पीना चाहिए।
आयुर्वेद के अनुसार रात को सोने से पहले दूध पीने के लिए जरूरी है कि आप शाम के भोजन के दो घंटे बाद ही इसे पिएं ताकि आपको रात को दूध पीने का लाभ मिल सके।
खड़े खड़े पिएं दूध
अक्सर बड़े बुज़ुर्ग लोग कहते है के पानी बैठ कर पियें और दूध खड़े होकर पीना चाहिए, इस से घुटने कभी खराब नहीं होंगे। इसलिए दूध को गर्म ही पियें और वो भी खड़े खड़े। दूध हम रोज पीते हैं लेकिन हमेशा बैठकर, जबकि इसका सही तरीका है खड़े होकर पीना। आयुर्वेद में बताया गया है कि दूध ठंडा, वात और पित्त दोष को बैलेंस करने का काम करता है। जो लोग बैठकर दूध पीते हैं उन्हें हाजमे की दिक्कत रहती है। इसीलिए आयुर्वेद के अनुसार रात को सोने से पहले दूध पीने के लिए जरूरी है कि आप शाम के भोजन के दो घंटे बाद ही इसे हल्का गर्म करके पिएं और खड़े होकर ताकि आपको रात को दूध पीने का लाभ मिल सके। खड़े होकर दूध पीने से घुटने खराब नहीं होते हैं।
बिना शक्कर मिला दूध
आमतौर पर लोगों की आदत होती है कि दूध में शक्कर मिलाकर पीते हैं। आयुर्वेद का मानना है कि यदि रात में बिना शक्कर मिला दूध पियेंगे तो वह अधिक फायदेमंद होगा। अगर हो सके तो दूध में गाय का एक या दो चम्मच घी भी मिला लेना चाहिए।
ताजा व जैविक दूध
इन दिनों हमारी जीवनशैली ऐसी है कि हम हर चीज पैकेट वाली इस्तेमाल करने लगे हैं। दूध भी अधिकतर लोग पैकेट वाला ही लेते हैं। पैकेट वाला दूध न ताज़ा होता है और न ही जैविक। आयुर्वेद के अनुसारए ताजाए जैविक और बिना हार्मोन की मिलावट वाला दूध सबसे अच्छा होता है। पैकेट में मिलने वाला दूध नहीं पीना चाहिये।
उबला दूध
कुछ लोगों को कच्चा दूध अच्छा लगता है। फ्रिज से दूध निकालकर बिना उबाले सीधे ही पी जाना सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता। आयुर्वेद मानता है कि दूध को उबालकर गर्म अवस्था में पीना चाहिए। अगर दूध पीने में भारी लग रहा हो तो उसमें थोड़ा पानी मिलाया जा सकता है। ऐसा दूध आसानी से पच भी जाता है।

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

यह भी पढ़े

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

कितने लीटर प...

कितने लीटर पानी प्रतिदिन पीना चाहिए?

इन चीजों को ...

इन चीजों को एक साथ खाने से होती हैं स्किन...

10 आम गलतिया...

10 आम गलतियां जो हम करते हैं डेली डाईट में...

गर्म पानी दू...

गर्म पानी दूर करे परेशानी

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

वापसी - गृहल...

वापसी - गृहलक्ष्मी...

 बीस साल पहले जब वह पहली बार स्कूल आया था ,तब से लेकर...

7 ऐसे योग आस...

7 ऐसे योग आसन जो...

स्ट्रेस, देर से सोना, देर से जागना, जंक फूड खाना, पौष्टिक...

संपादक की पसंद

हस्त रेखा की...

हस्त रेखा की उत्पत्ति...

जिन मनुष्यों ने हस्त विज्ञान की खोज की उसे समझा और...

अक्सर पैसे ब...

अक्सर पैसे बढ़ाने...

बाई काम पर आती रहे, काम अच्छा करे और पैसे बढ़ाने की...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription