जब सिर पर साईं का हाथ लगते ही दूर हो गए थे सारे रोग

Chayanika Nigam

14th June 2021

Article summery साईं के भक्तों से जुड़ी कहानियां कई हैं। फिलहाल कुछ को पढिए और साईं की महिमा को पहचान लीजिए।

जब सिर पर साईं का हाथ लगते ही दूर हो गए थे सारे रोग

साई बाबा की महिमा कुछ ऐसी है कि जिसने भी उनकी ईश्वरीय ताकत को आजमाया उसको जल्द ही अपनी गलती का अहसास हो गया। साई के आशीर्वाद और महिमा को हर किसी को कभी न कभी मानना ही पड़ता है। ऐसा ही कुछ उनके भक्तों के साथ भी हुआ था, जो पहले पहल उन्हें खास नहीं मानते थे। बल्कि वो लोग तो उन्हें बहुत ही हीन दृष्टि से देखा करते थे। मगर फिर समय ने उन्हें समझा दिया कि साईं की महिमा अपरमपार है। ऐसे ही भक्तों की कहानी जानते हैं-

 

आशीर्वाद में दिया निरोगी शरीर-  साईं के पास मध्यप्रदेश से एक शख्स आया, जो पिछले एक दशक से पेट दर्द से परेशान था। वो इतना परेशान था कि उसने आगे जीने की इच्छा ही छोड़ दी थी। लेकिन फिर वो साईं बाबा से मिलने आया और बोला मैंने कोई पाप नहीं किया फिर भी ऐसा क्यों हो रहा है। बाबा ने उनका दुख सुना तो आशीर्वाद के साथ प्रसाद भी दे दिया। इसको खाने के बाद ही उनका स्वास्थ्य अच्छा होने लगा और वो फिर कभी बीमार नहीं पड़े। 

निः संतान इंस्पेक्टर-   किसी गांव में एक निः संतान दंपत्ति था। एक जोड़े में से पति जो इंस्पेक्टर था कहीं खड़ा था तभी वहां से मेहतर अपनी पत्नी के साथ निकला। तो उसकी पत्नी इंस्पेक्टर की ओर देख कर बोली कि मनहूस चेहरा देख लिया, अब तो काम होने से रहा चलो घर वापस। ये सुनकर इंस्पेक्टर को बहुत दुख हुआ। उसने चार शादियां की थीं लेकिन संतान उसे किसी से नहीं थी। ऐसे में उसने सोचा कि नौकरी छोड़कर, संपत्ति चारों पत्नियों को देकर वो हिमालय चला जाएगा। वो आखिरी दिन ऑफिस में बैठा था कि तब ही एक दोस्त उससे मिलने आया और साईं के दर्शन करने को भी उसे मना लिया। जब बाबा ने उन्हें देखा तो मानो बिना बताए ही वो सब जानते थे। उन्होने फिर इंस्पेक्टर को आशीर्वाद भी दिया।  

 

धनवान का बेटा- बात 1910 की है, तब मुंबई के धनी व्यापारी के बेटे की तबीयत खराब हो गई थी। किसी ने उन्हें साईं के दर्शन करने को कहा। अब व्यापारी बेटे के साथ साईं के पास पहुंचा तो आशीर्वाद लेने के साथ मन ही मन साईं से अपनी परेशानी कह दी। साईं ने भी हल्की मुस्कान के बाद आशीर्वाद दिया। फिर सालों से बीमार देता अचानक से स्वस्थ्य रहने लगा। बेटे के स्वास्थ्य के ठीक होने पर व्यापारी एक बार फिर साईं के आपस आभार जताने आया। मगर उनके मुंह से बस यही निकला कि जीवन देना तो परमात्मा का काम है। 

धर्मसे जुड़े हमारे लेख आपको कैसे लगे?कोई लेख आपको पसंद आया हो तो आप अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेेजें। हमें ई-मेल कर सकते हैं- editor@grehlakshmi.com

 

ये भी पढ़ें-  जन-जन के प्रिय तुलसीदास 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

60 साल तक गे...

60 साल तक गेंहू पीसने वाले साईं

साईं बाबा के...

साईं बाबा के अवतार कैसे बने सत्या साई बाबा...

भक्त को नहीं...

भक्त को नहीं भूलते भगवान, पढ़िए साईं बाबा...

सबका मालिक ए...

सबका मालिक एक है, कब कहा था साईं बाबा ने...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

बच्चे के बार...

बच्चे के बारे में...

माता-पिता बनना किसी भी वैवाहिक जोड़े के लिए किसी सपने...

धन की बरकत क...

धन की बरकत के चुंबकीय...

पैसे के लिए पुरानी कहावत है जो आज भी सही है कि "बाप...

संपादक की पसंद

परिवार के सा...

परिवार के साथ करेंगे...

कोरोना काल में हम सभी ने अच्छी सेहत के महत्व को बेहद...

इन डीप नेक ब...

इन डीप नेक ब्लाउज...

यूं तो महिलाएं कई तरह के वेस्टर्न वियर को अपने वार्डरोब...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription