ये खास टिप्स जो आपको तीस के होने के बाद भी बनाएगी हेल्दी

Jyoti Sohi

3rd July 2021

हृष्ट.पुष्ट स्वास्थ्य के लिए मालिश करना हेल्थ ट्रीटमेंट की एक तकनीक है, जिसे लगभग 200 वर्षों से आजमाया जा रहा है। भारत में इसकी लोकप्रियता आयुर्वेद के कारण है, लेकिन यह अन्य संस्कृतियों का भी हिस्सा रहा है। मसाज थेरेपी में मूल रूप से शरीर के विभिन्न हिस्सों पर तेल लगाने के बाद उनकी मालिश की जाती है, जिससे मांसपेशियों को आराम मिलता है।

ये खास टिप्स जो आपको तीस के होने के बाद भी बनाएगी हेल्दी
उम्र के साथ जहां एक तरफ जिम्मेदारियां बढ़ने लगती हैं, तो वही शरीर में थकान, चिड़चिड़ापन और तनाव भी समस्या आरंभ हो जाती है। दरअसल, जब 30 की उम्र तक पहुंचते पहुचते आपके जीवन में बच्चे, घर की जिम्मेदारियां, शादीशुदा जिंदगी को संभाला और न जाने कितनी ही चिंताए आपको घेरे रखती है। ऐसे में न तो हम अपने शरीर का ख्याल रख पाते हैं और न ही उचित खान पान का। जो हमें अंदरूनी तौर पर कमज़ोर करने लगता है। नतीजन खून की कमी, ब्लड प्रेशर की समस्या, कमर में दर्द, हड्डियों में कमज़ोरी और न जाने क्या क्या। आइए जानते हैं कुछ ऐसे उपाय जिन्हें करने से आप खुद को रख पाएगी तरोताज़ा और स्वस्थ। 
तेल मालिश
जन्म से ही बच्चे के शरीर को मज़बूती प्रदान करने के लिए उसकी मालिश की जाती है। मगर जैसे जैसे बच्चा बड़ा होता है, तो ये सब आदतें भी छूटती चली जाती हैं। इससे हमारे शरीर में रूखापन आने लगता है। ऐसे में अपने शरीर को चुस्त फुर्त रखने के लिए रोज़ाना तेल की मालिश करें और खुद को फिट रखें। दिनभर व्यस्त रहने के कारण आप राते में सोने से पहले शरीर पर तेल लगाएं, जिससे आपकी मांसपेशियों को थोड़ी सी राहत मिल पाए। साथ ही तेल मालिश से ब्लड सर्कुलेशन भी नियमित हो जाता है। ऐसे में खुद को हृष्टण्पुष्ट रखने के लिए तेल मालिश एक सबसे आसान और सटीक उपाय है। 
व्यायाम
रोजाना काम करने के साथ साथ कुछ मिनटों का एक्सरसाइज आपके शरीर को नई उर्जा शक्ति प्रदान करता है। जो हमें दिन भर काम करने के लिए तैयार रखती है। सुबह उठकर किया गया व्यायाम दिनभर के कार्यों में हमारी मदद करता है। साथ ही उचित व्यायाम से आप मोटापे की समस्या से भी निजात पा सकते है। इसके अलावा आप अगर तनाव में रहते हैं, तो ऐसी स्थ्ति में भी व्यायाम एक उचित उपाय है।  
नींद पूरी लें
उम्र बढ़ने के साथ साथ हमारी नींद कम होती चली जाती है। 30 की उम्र के बाद बहुत से लोगों को नींद से संबधित परेशानी होने लगती है। अपनी सेहत के मद्देनज़र महिलाओं को आठ घंटे की नींद लेनी बेहद ज़रूरी है। कम नींद यां नींद न आने के कारण महिलाएं समय से पहले कई तरह की बीमारियों का शिकार हो जाती है। दरअसल, नींद पूरी लेने से महिलाएं खुद को रिलैक्सड महसूस करती है।  
कैल्शियम की मात्रा बढ़ाएं
बढ़ती उम्र के साथ शरीर में कई तरह की कमियां महसूस होने लगती हैं और उन्हीं में से एक है कैल्शियम की कमी, जो दिनों दिन हड्डियों को कमज़ोर करती है और शरीर के कई अंगों में दर्द और थकान महसूस होने लगती है। दिन की शुरूआत नाश्ते से होती है। ऐसे में  ब्रेकफास्ट के साथ एक गिलास दूध ज़रूर पीएं। अगर आप दूध नहीं पीना चाहती हैं, तो इसको आप पनीर यां फिर दही की फार्म में भी खा सकती है।  
नियमित चेकअप भी है ज़रूरी 
शरीर में होने वाली छोटी मोटी दर्द यां फिर थकान को लेकर महिलाएं खासी चिंतित नहीं होती है। लेकिन ये संकेत किसी बड़ी परेशानी की ओर इशारा भी कर सकते हैं। ऐसे में रूटीन हेल्थ चेकअप बेहद ज़रूरी है, ताकि आप समय पर अपने शरीर में आने वाले बदलावों से वाकिफ हो पाएं और समय पर उनका इलाज भी करवा पाएं। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

सर्दियों में...

सर्दियों में कुछ इस तरह रखें बुजुर्गों का...

क्या मालिश स...

क्या मालिश से शिशु के विकास में मदद मिलती...

शिशु की मालि...

शिशु की मालिश कब शुरु व बंद करें

अनिद्रा से क...

अनिद्रा से कैसे पाएं निजात

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

मुझे माफ कर ...

मुझे माफ कर देना...

डाक में कुछ चिट्ठियां आई पड़ी हैं। निर्मल एकबार उन्हें...

6 न्यू मेकअप...

6 न्यू मेकअप लुक्स...

रेड लुक रेड लुक हर ओकेज़न पर कूल लगते हैं। इस लुक...

संपादक की पसंद

कहीं आपका बच...

कहीं आपका बच्चा...

सात वर्षीय विहान को अभी कुछ दिनों पहले ही स्कूल में...

Whatsapp Hel...

Whatsapp Help :...

मुझे किसी खास मौके पर अपने व्हाट्सप्प के संपर्कों को...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription