नाईट शिफ्ट में प्रेगनेंसी के दौरान काम करना मिसकैरेज का कारण बन सकता है

मोनिका अग्रवाल

4th July 2021

आजकल हर कोई काम के बोझ के तले दबा हुआ है, ये बोझ प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए तब खतरा बन जाता है, जब वो नाईट शिफ्ट में काम करती हैं।

नाईट शिफ्ट में प्रेगनेंसी के दौरान काम करना मिसकैरेज का कारण बन सकता है

नाईट शिफ्ट में प्रेगनेंसी

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को अपना खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। जरा सी भी लापरवाही मां और होने वाले बच्चे दोनों के लिए जानलेवा बन सकती है। जी हां अगर आप प्रेग्नेंट हैं, और ऑफिस में काम करती हैं, वो नाईट शिफ्ट में, तो आपको सावधान रहने की काफी जरूरत है। ऐसा हम नहीं, शोधकर्ता कहते हैं। उनके मुताबिक नाईट शिफ्ट में प्रेगनेंसी के दौरान काम करना गर्भपात यानि की मिसकैरेज का बड़ा कारण बन सकता है। 

क्या कहते हैं शोधकर्ता-  हाल ही में डेन मार्क में शोधकर्ताओं ने लगभग 22 से 23 घार के बीच प्रेग्नेंट महिलाओं पर खास अध्यन किया। जिसके बाद वो इस रिजल्ट पर पहुंचे कि निघर शिफ्ट के दौरान काम करने वाली प्रेग्नेंट महिलाओं में पांचवें से 23वेन हफ्ते के बीच मिसकैरेज की चांसे बढे हैं।और ये खतरा तब तक और भी बढ़ेगा जब तक महिलाएं लगातार काम करती रहेंगी।

खतरे का क्या है असल कारण- शोध के मुताबिक प्रेग्नेंट महिलाओं में मेलाटोनिन नाम के तत्व की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। इसकी मदद से प्रेगनेंसी सफल होती है, और जन्म के बाद मां और बच्चा दोनों हेल्दी होते हैं। लेकिन रात के वक्त काम करने के दौरान ये तत्व ठीक से शरीर में बन नहीं पाता। जिसकी वजह से समय से पहले बच्चे का जन्म, पीरियड्स से जुड़ी समस्या और यहां तक मिसकैरेज भी हो सकता है।

अगर पूरी ना हो नींद- प्रेगनेंसी के दौरान नींद की जरूरत होती है। प्रेगनेंसी के दूसरे से तीसरे हफ्ते थकान महसूस करती हैं। लेकिन कई महिलाएं इसके विपरीत खुद को उर्जावान महसूस करती हैं। स्थिति कोई भी दिन से ज्यादा महिलाओं को रात में आराम की जरूरत होती है। क्योंकि रात के समय ही शरीर और दिमाग को आराम मिलता है। लेकिन नाईट शिफ्ट के दौरान ये मुमकिन नहीं होता, और खतरा बरकरार रहता है।

क्या कहते हैं आंकडें?- शोध के मुताबिक प्रेगनेंसी के चौथे से 22वें हफ्ते के बीच नाईट शिफ्ट में काम करने वाली हर 10 में से दो महिला का मिसकैरेज हुआ है। हालाँकि ये आंकड़े नाईट शिफ्ट में काम करने के अलावा दूसरी वजहों से भी बढ़े हैं। जो वाकई चिंतनीय है।

कैसे रखें अपना ख्याल-अगर आप प्रेग्नेंट हैं और आप मजबूरी वश नाईट शिफ्ट के दौरान काम करती हैं। तो आपको अपना ख़ास ख्याल रखने की जरूरत है। जिससे आप अपने और अपने होने वाले बच्चे का ख्याल रख सकें। वो आपको कैसे करना है आइये जानते हैं।

• आप नियमित रूप से अपने पैटर्न को बनाएं, और नाईट शिफ्ट से पहरेज करें।

• अपने वजन को कंट्रोल में रखें।

• अगर डायबटीज, ब्लड प्रेशर जैसी समस्या है तो उसे कंट्रोल में रखें।

• समय समय पर खाने का भी ख्याल रखें।

• ज्यादा से ज्यादा आराम करें और भरपूर नींद के साथ ढेर सारा पानी पिएं।

आजकल काम का प्रेशर हर किसी पर है, स्वाभाविक तौर पर प्रेगनेंसी के दौरान नाईट शिफ्ट में काम करना काफी तनाव भरा हो सकता है। अगर फिर भी आपको इस दौरान काम करना पड़ रहा है, तो खुद को लेकर सहज रहें, और किसी भी तरह की समस्या महसूस होने पर अपने डॉक्टर से तुरतं सलाह लें।

यह भी पढ़ें-

क्या महत्वाकांक्षाएँ तोड़ती हैं रिश्तों की डोर

भावी जीवन साथी से निश्चिन्त होकर पूछिये सवाल

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

जब प्रेगनेंस...

जब प्रेगनेंसी के दौरान डॉक्टर दे दे बेडरेस्ट...

यूरिनरी ट्रै...

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन यानि की यूटीआई...

स्कूली बच्चो...

स्कूली बच्चों के लिए गाइड लाइन्स जो जरूरी...

गीता फोगाट न...

गीता फोगाट ने साझा किया कैसे रखें प्रेगनेंसी...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

बच्चे के बार...

बच्चे के बारे में...

माता-पिता बनना किसी भी वैवाहिक जोड़े के लिए किसी सपने...

धन की बरकत क...

धन की बरकत के चुंबकीय...

पैसे के लिए पुरानी कहावत है जो आज भी सही है कि "बाप...

संपादक की पसंद

परिवार के सा...

परिवार के साथ करेंगे...

कोरोना काल में हम सभी ने अच्छी सेहत के महत्व को बेहद...

इन डीप नेक ब...

इन डीप नेक ब्लाउज...

यूं तो महिलाएं कई तरह के वेस्टर्न वियर को अपने वार्डरोब...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription