• होम
  • गृहलक्ष्मी ब्लॉग
जल संरक्षण ब...

जल संरक्षण बने जन आंदोलन

जल ही जीवन है, 'जल है तो हम हैं और जल है तो कल है' जैसे नारों को लगाने के साथ-साथ अब इनका महत्त्व समझने की आवश्यकता आन पड़ी है। पेयजल...

पर्यायवरण पर...

पर्यायवरण पर महान हस्तियों के विचार...

अल्बर्ट आइंस्टाईन (महान वैज्ञानिक)- पर्यावरण सब कुछ है जो मैं नहीं हूं।  जॉन मुइर (लेखक, पर्यायवरणविद्)- इन पेड़ों के लिए भगवान ध्यान...

मृत्यु का भय...

मृत्यु का भय - सद्गुरु

जाहिर है, कोई बीमारी नहीं चाहता। कोई भी रोगी होने का चुनाव नहीं करेगा, है कि नहीं? कोई भी बीमार पड़ना नहीं चाहता; हर व्यक्ति स्वस्थ...

काम का आचरण ...

काम का आचरण - आचार्य महाप्रज्ञ...

प्रशन आता है कि आदमी प्रिय-अप्रिय संवेदनों को कैसे कम करे? जीवन के ये दो तत्त्व हैं- प्रियता और अप्रियता। इनसे प्रत्येक व्यक्ति संदानित...

प्रकृति का स...

प्रकृति का स्वभाव - श्री श्री रविशंकर...

 साधारणतया हम एक दोष या त्रुटि से दूसरे दोष या त्रुटि की ओर गति कर जाते हैं। जैसे कोई लोभी है और उसके इस विकार के कारण तुम क्रोधित...

भारत में हुए...

भारत में हुए पर्यावरण आंदोलन

21वीं सदी के सबसे बड़े संकट की यदि बात करें तो वह है पर्यावरण पर आया सकंट। अभी भी प्राकृतिक संसाधनों का दोहन, अपनी आवश्यकताओं को पूरा...

क्या दूसरी प...

क्या दूसरी पत्नी और उसके बच्चों...

पत्नी और उसके बच्चों का खानदानी प्रॉपर्टी में हक

एवरेस्ट का स...

एवरेस्ट का स्वच्छता अभियान

हि मालय पर्वत की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट पर चढ़ाई करने के लिए पर्वतारोही लगातार कोशिश करते रहते हैं। पर्वतारोहियों द्वारा लगातार चोटी...

ध्यान और कर्...

ध्यान और कर्म का संतुलन - परमहंस...

सांसारिक जीवन से विशुद्ध शान्ति और आनन्द प्राह्रश्वत करने की आशा न रखें। यह आपकी नई प्रवृत्ति होनी चाहिए। चाहे आपके अनुभव कैसे भी क्यों...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

जन-जन के प्र...

जन-जन के प्रिय तुलसीदास...

भगवान राम के नाम का ऐसा प्रताप है कि जिस व्यक्ति को...

भक्ति एवं शक...

भक्ति एवं शक्ति...

शास्त्रों में नागों के दो खास रूपों का उल्लेख मिलता...

संपादक की पसंद

अभूतपूर्व दा...

अभूतपूर्व दार्शनिक...

श्री अरविन्द एक महान दार्शनिक थे। उनका साहित्य, उनकी...

जब मॉनसून मे...

जब मॉनसून में सताए...

मॉनसून आते ही हमें डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जैसी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription