GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

हनुमान जी को...

हनुमान जी को करना है प्रसन्न तो...

    21 मंगलवारों का नियमित व्रत करने से मंगल दोष समाप्त हो जाता है। मंगलवार का व्रत मंगल भगवान को प्रसन्न करने के लिए किया जाता...

माँ को अर्पण...

माँ को अर्पण करें ये नौ नवरात्रि...

नवरात्रि यानी मां के नौ रूपों के नौ दिन, आस्था के नौ दिन और माता रानी को मनाने के नौ दिन। निरोग, सफलता, धनवान और बुद्धिमान होने की...

क्यों मनाते ...

क्यों मनाते हैं शिवरात्रि?

शिवरात्रि का अर्थ वह रात्रि है जिसका शिवतत्व के साथ घनिष्ठ संबंध है। भगवान शिव जी की अतिप्रिय रात्रि को शिवरात्रि कहा गया है। शिवार्चन...

भगवान शिव को...

भगवान शिव को पशुपति क्यों कहते...

भगवान शिव रूप रहित हैं। अर्थात् शिव अनन्त हैं, असीम हैं। उनमें किसी बात की अभिलाषा नहीं है। वह दयालु भी हैं तथा क्रोध आने पर रौद्र...

मकर संक्रांत...

मकर संक्रांति देवताओ का दिन

खुशी और समृद्धि का व्यौहार मकर संक्रांति, सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने पर मनाया जाता है। इस वर्ष मकर संक्राति 15 जनवरी को मनाया...

शिल्पकला के ...

शिल्पकला के जनक-विश्वकर्मा

विश्वकर्मा जिनको देव वास्तु शिल्पी कहा जाता है ये अंगिरा वंश के भुवन पुत्र थे इन्हें वैदिक सौर देवता भी कहते हैं।

रक्षा-भाव की...

रक्षा-भाव की स्मृति का पर्व है...

कार्तिक शुक्ल द्वितीय को भैया दूज का पर्व पूरे भारत में हर्षोल्लास से मनाया जाता है। सनातन वैदिक काल से ही, इस पुनीत पर्व को भाई-बहन...