GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

दर्दे-इश्क़ जाग

दर्दे-इश्क़ जाग

हमारे उस्ताद ने जब हमें गज़ल लिखनी सिखाई, तब भी उसने यही बताया था कि गज़ल कहने के हज़ारों नुक्ते हैं। बहुत बढिय़ा किस्मतवालों को अच्छे...

बोझिल पलकें,...

बोझिल पलकें, भाग-30

आज अजय ने इस अपराध की दुनिया से बाहर निकलने के लिए आर या पार की जिस लड़ाई का दांव खेला था, उसमें सिर्फ़ उसी की जान का जोखिम नहीं था,...

बोझिल पलकें,...

बोझिल पलकें, भाग-29

आज जिस ढंग से अजय चन्दानी के बंगले में दाखिल हो रहा था, वह मौत के मुंह में दाखिल होने से कम नहीं था, लेकिन अजय तो जैसे इस सच को जानकर...

बोझिल पलकें,...

बोझिल पलकें, भाग-28

आज अजय ने मानो तय ही कर लिया था कि या तो वह इस मौत जैसी जिंदगी से छुटकारा ही पा लेगा या फिर सीधा मौत को ही चुनेगा। इस रास्ते पर उसका...

बोझिल पलकें,...

बोझिल पलकें, भाग-27

चन्दानी की कैद में बंद दीवानचन्द अजय की वह दुखती हुई रग थे, जिसके चलते अजय चन्दानी के इशारों पर न सिर्फ आपराधिक कामों को करने पर मजबूर...

बोझिल पलकें,...

बोझिल पलकें, भाग-26

बदले हालात के साथ जहां चन्दानी की नजरों का घेरा अजय पर तंग होता जा रहा था, वहीं दूसरी तरफ अजय और अंशु के छिपे हुए दिली जज़्बात भी बदल...

बोझिल पलकें,...

बोझिल पलकें, भाग-25

जिस पिता के जीवन को बचाने के लिए अजय ने अपनी जान तक की परवाह नहीं की, आज उसी मोड़ पर उसके सामने एक ऐसा रास्ता खुल रहा था, जहां से उसे...

बोझिल पलकें,...

बोझिल पलकें, भाग-24

सच को सबूत की जरूरत नहीं होती और आज अंशु भी बिना कहे अजय की सारी सच्चाई के करीब पहुंच चुकी थी। ऐसे में अजय की खुद्दारी और सच्चाई ने...

बोझिल पलकें,...

बोझिल पलकें, भाग-23

जिस अंशु को अजय अपनी जिंदगी में उम्मीद की किरण मान बैठा था, वही अंशु आज अजय के अपराधी होने की सारी सच्चाई जानकर उससे मुंह फेरे बैठी...