GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

बच्चों को खाना खिलाने के लिए पेरेंट्स न करें ये 5 गलतियां

गृहलक्ष्मी टीम

2nd June 2018

माता-पिता, सावधान! आप लोग एक उथल-पुथल से भरे इलाके में प्रवेश करने जा रहे हैं जहां ये विद्रोह एक स्वभाविक प्रक्रिया है क्योंकि अब आपके बच्चे के लिए यार-दोस्त मां-बाप से बढ़ कर हैं।

बच्चों को खाना खिलाने के लिए पेरेंट्स न करें ये 5 गलतियां

‘‘स्कूल जाने तक तो मुझे पता होता था कि उसे क्या चाहिए, चाहे मैं उससे सहमत नहीं भी होती थी लेकिन अब तो समझ ही नहीं आता कि उसे क्या चाहिए। उसे मेंरा दिया खाना नहीं भाता और जो वह खाना चाहती है, वह मेरे पल्ले नहीं पड़ता। लगता है मानो वह किसी दूसरे ग्रह की भाषा बोलने लगी है मैं तो तंग आ गई हूं । ’’ पूनम की मां ने तो हाथ खड़े कर दिये कि उसे समझ नहीं आता कि उसकी बेटी क्या खाना चाहती है और क्यों खाना चाहती है? 

वैसे तो ग्यारह साल की उम्र के बाद के बच्चों को संभालना काफी चुनौतीपूर्ण होता है, बच्चों के लिए भी ये दौर काफी मुश्किल होता है। उनके खानपान की आदतों से भी यही झलकता है। उनके लिए क्या अच्छा है, वे स्लिम कैसे दिखेगें और दोस्तों में कूल कैसे दिखेंगें, वे इन्हीं बातों के बीच उलझ कर रह जाते हैं। अब ऐेसे में माता-पिता क्या करें, तो सही सलाह ये है कि खाने की योजना बनाने से पहले, आप इन बातों पर ध्यान दें।

1. स्वयं से पूछें

क्या आपका गुस्सा जायज़ है? आप अपनी किशोरवस्था में यही सब नहीं करते थे? हो सकता है कि आपने ऐसी चीजें न मांगी हो लेकिन बगावत का रवैया तो यही था। यदि हां, तो निश्चित रहें, बच्चा आपके ही नक्शेकदमों पर हैं। वह भी वक्त के साथ खान-पान की स्वस्थ आदतें अपना लेगा।

2. बच्चे की पसंद

नापसंद को सम्मान दें। चाहे आपको उसकी पसंद अटपटी ही क्यों न लगे पर समय-समय पर उसे कहें कि उसकी पसंद काफी अच्छी है। उसके लिए फैसले न लें। उसे विकल्प दें लेकिन आखिरी फैसला भी उसके ही हाथ में हो। बिना किसी दबाव या सुधार के, फैसला तो उसे खुद ही लेने दें। 

 

3. यह भी याद रखें 

अब दोस्तों के बीच चमकने व उनसे प्रतियोगिता रखने की उसकी भावना भी काफी प्रबल होगी। बच्चा अपने दोस्तों में नीचा ना दिखाने के लिए किसी हद तक भी जा सकता है, यहां तक कि आपसे खुले आम बहस भी कर सकता है। ध्यान रखें कि आपकी हर चीज़ खाने की जिद के कारण उसे दोस्तों के बीच खिल्ली न उड़वानी पड़ें। माना आपके बेेटे के बर्गर से ज्यादा पौष्टिक है, आपका परांठा, लेकिन हर बार वही देने की जिद न करें। आपको उसके स्तर का भी ध्यान रखना होगा। वह कभी नहीं चाहेगा कि दोस्त उसे हल्के स्तर का समझें। खान-पान की आदतों के कारण उसे नहीं आएगा।


4.बात का मान रखें

वहीं दूसरी ओर, उसकी बात का मान रखने का मतलब यह नहीं कि आप अपना हक छोड़ दें। कभी-कभी आपको उसकी जिद तोड़नी भी होगी,खासतौर पर जब कुछ चीजें उसकी सेहत के लिए काफी नुकसान दायक हो। जैसे जब वो कोला के सिवा कुछ लेना ही न चाहे। उसकी पसंद का मान करें लेकिन अपना अधिकार न छोड़े । घबराएं नहीं, वह जो कुछ भी खाता है, उसमें सुधार हो सकता है। जरा शांत रहें, हड़बड़ाहट या डर न जताएं। इससे आसमान नहीं टूटने वाला क्योंकि ये हर दूसरे घर की कहानी है। ठंडा पानी पीएं, लंबी सांस लें, फिर बच्चे से उसकी खानपान की इन आदतों पर चर्चा करें। उसे खानपान की आदतों के कारण मोटा भैंसा या ‘कामभगोड़ा’ जैसे नाम भी न दें।

5. बच्चों को ब्लैकमेल न करें

रो कर, धमका कर या खुद को चोट पहुंचाकर उसे इमोशनली ब्लैकमेल न करें। वह बात न माने तो सुविधाएं न रोकें, जैसे उसकी जबखर्ची न देना। बाइक की चाबी रख लेना, इससे तो उसकी बगावत और भी बढ़ जाएगी। घर के बने खाने से उसका मन पूरी तरह से हट जाएगा।

 

अपने बेटे के लिए इस तरह के कुकिंग...

जब बच्चा घर पर हो अकेला

बच्चों में डालें गुड हैबिट्स

 ताकि सब्जियों और फ्रूट्स को देखकर...

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription