GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

इन 5 तरीकों से नई मां पूरी करें अपनी नींद

ऋचा कुलश्रेष्ठ

23rd February 2017

इन 5 तरीकों से नई मां पूरी करें अपनी नींद


बतौर नई मां, आपको अधिक नींद लेने की सलाह दी जाती है, लेकिन नवजात की देखरेख, आहार और अन्य जरूरतों का ध्यान रखने में आप बहुत थकान अनुभव करने लगती हैं और एक नवजात की देखभाल के दौरान ऐसा संभव होता नहीं दिखता। अगर आप नींद में कमी के संकेतों को पहचान लें तो छोटी अवधि में भी इसका मुकाबला कर सकती हैं। यदि आप चार से पांच रात ढंग से नहीं सो पाती हैं तो आपको लगता है कि आपको कई दिन से नींद ही नहीं आई हो। खासतौर पर एक नवजात के साथ ऐसा महीनों तक हो सकता है जब आप लगातार चार घंटे से ज्यादा नींद न ले पाएं। यदि आप पूरी नींद नहीं ले पाएंगी तो आपका अपने काम पर ध्यान देना मुश्किल हो जाएगा। हो सकता है कि आप लिए गए किसी काम को पूरा होने से पहले ही छोड़ दें। पूरी नींद न आने पर क्या किया जाए, इसके लिए यहां कुछ तरीके बताए गए हैं, ताकि शिशु के उचित लालन-पालन के साथ आपको भी अच्छी नींद मिल सके-

1. गर्भ धारण के समय ही आप अपने साथी से बच्चे के काम के विभाजन के बारे में चर्चा कर लें। इस बारे में आपके नजदीकी रिश्तेदार भी मदद कर सकते हैं। बच्चे के जन्म के बाद दिन में या रात में, अपनी सुविधा के अनुसार आपके सोते वक्त वे बच्चे को कुछ समय के लिए संभाल सकते हैं। यदि रिश्तेदार न हों तो मदद के लिए आप किसी दाई की नियुक्ति के बारे में भी विचार कर सकती हैं।

2. चाहे आपका कितना भी मन करे लेकिन जब शिशु सो रहा हो, तब कामकाज में ज्यादा रुचि न लें। बिस्तर पर तकियों का पर्याप्त सहारा लेकर और कमरे का उचित तापमान निर्धारित करके अपने और बच्चे के लिए एक आरामदायक वातावरण तैयार करें और शिशु के साथ रात वाली एक अच्छी नींद लेने का प्रयास करें।

3. झपकी लेने की कोशिश करते समय इच्छा होने पर भी घड़ी की ओर न झांकें। नींद के विशेषज्ञ  मानते हैं कि इस पर ध्यान देना कि अब सोने के लिए कितना समय बचा है या फिर पिछली रात आप कितनी बार जागे और कितनी देर तक जागे, व्यग्रता पैदा करता है जिससे अनिद्रा की स्थिति हो सकती है।

4. इन दिनों चाय कॉफी के रूप में कैफीन, एल्कोहल और निकोटीन के सेवन को टालें। निकोटीन और कैफीन उत्तेजक होते हैं जिनसे रात के दौरान जागरण को बढ़ावा मिलता है।

5. माताओं को हमेशा अपने शिशु के साथ सोना चाहिए। बच्चे के जन्म के शुरू के कुछ माह तक मां और शिशु के बीच बंधन यानी जुड़ाव होना अत्यंत आवश्यक है। साथ-साथ सोने से भविष्य में आपसी संबंधों में मधुर लय बनती है और माता व शिशु के बीच समन्वय भी स्थापित होता है।

(स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. बंदिता सिन्हा से बातचीत पर आधारित)

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription