GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

प्रसव के बाद कैसे रहें फिट

निहारिका जायसवाल

1st January 2016

प्रसव के बाद नई माताओं को केवल अपने बच्चे का ही नहीं बल्कि खुद की सेहत का भी ध्यान रखना चाहिए। इसके लिए जरूरी है कि वो संतुलित आहार लेने के साथ व्यायाम भी करें।

प्रसव के बाद कैसे रहें फिट

मां बनना इस दुनिया का सबसे सुखद एहसास है, जिसे हर औरत अपने जीवन में महसूस करना चाहती है। मातृत्व का सुख भोगने के साथ ही जरूरी है कि मां अपने बच्चे के साथ खुद की भी सेहत का खास ध्यान रखें। इस बारे में मुंबई की महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. योगिता कुबार का कहना है कि जब एक महिला गर्भधारण करती है तो उसके शरीर में कई तरह के बदलाव आते हैं। ऐसे में उनके शरीर को दोगुने पोषण की आवश्यकता होती है। केवल गर्भाधारण के दौरान ही नहीं बल्कि प्रसव के बाद भी। कम से कम साल भर तो स्वस्थ रहने के लिए मां को संतुलित आहार जरूर लेना चाहिए। इससे केवल आपको ही नहीं बल्कि आपके बच्चे को भी दूध के माध्यम से पोषक तत् व मिलेंगे। बच्चे के अच्छे विकास में मां के दूध की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है। स्वस्थ संतुलित आहार शरीर को मजबूत बनाता है तथा रोगों से लडऩे के लिए उसकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

प्रसव के बाद का आहार
इस बारे में होम्योक्लीनिक की डॉ. करुणा मल्होत्रा का कहना है कि प्रसव के बाद मां को ऐसा आहार लेना चाहिए जो उसके और उसके बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद हो। अपना आहार चुनने से पहले यह सुनिश्चित कर लें ताकि उसमें फैट व शुगर की मात्रा अधिक न हो। जिस आहार में जरूरी पोषक तत् व हों, उन्हें ही अपने डाइट चार्ट में शामिल करें। जंक फूड व वसा युक्त आहारों को दूर से ही सलाम कर दें। ताजे फल, हरी सब्जियां व लो फैट डेयरी उत्पादों का ही प्रयोग करें। पास्ता, ब्रेड, फलियां, अंडे, नट्स व ड्राई फ्रूट्स का भी सेवन कर सकती हैं।
अगर आप मांसाहारी हैं तो मछली और चिकन खा सकती हैं। लाल मीट में प्रोटीन की अधिक मात्रा पाई जाती है। अंडा प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत है, लेकिन अंडे के पीले हिस्से में वसा और कोलेस्ट्रोल बहुत अधिक पाया जाता है, जो सेहत के लिहाज से अच्छा नहीं होता है। मछली में ओमेगा-3 काफी मात्रा में मिलता है।

दलिया
दलिया से बने सभी भोज्‍य पदार्थों में उच् च मात्रा में फाइबर होता है जो शरीर को मजबूत बनाता है। इसे लैग्‍नोटिक फूड भी माना जाता है, जो मां की पाचन क्रिया को मजबूत बनाए रखता है। इसमें खूब सारा आयरन भी होता है जो शरीर में अधिक दूध का निर्माण करता है।

ब्राउन राइस
चावल को लेकर यही धारणा है कि यह ठंडा होता है इसलिए दूध पिलाने वाली मां को चावल कम खाने चाहिए। लेकिन ब्राउन राइस इसके विपरीत होता है, यह कई गुणों से भरपूर और पोषक होता है। यह पाचन क्रिया को दुरुस् त बनाता है और इससे आपके बच्चे को किसी तरह का नुकसान भी नहीं पहुंचता।

ब्‍लूबेरी
नई माताओं को अपनी डाइट में ब् लूबेरी को शामिल करना चाहिए। इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक् सीडेंट होता है जो शरीर को झुर्रियों से बचाता है और त् वचा को कसाव प्रदान करता है। इसके जूस का सेवन महिलाओं को तनाव से मुक्त भी करता है।

पालक
आयरन से भरपूर पालक, शरीर को मजबूती प्रदान करता है। प्रतिदिन इसका प्रयोग अलग-अलग तरीकों से किया जाए तो स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहता है। इसका सूप बनाकर पिएं। इसमें फॉलिक एसिड होता है जो बच् चे के मुंह में छाले नहीं होने देता। इसके सेवन से शरीर में नई कोशिकाएं बनती है और खून की कमी भी दूर होती है। इसमें मैग्‍नीशियम भी होता है जो शरीर की हड्डियों को मजबूत बनाता है। ये कुछ ऐसे पोषक तत्व है जिन्हें शामिल करने से आपका आहार संतुलित बनेगा। संतुलित आहार का सेवन कर आप स्वयं और बच्चे को स्वस्थ्य रख सकती हैं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription