GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

स्वास्थ्य के लिये लाभकारी होते हैं व्रत

सोनम राठौर

4th June 2016

व्रत रखना कोई आज की बात नहीं है ये तो युगों युगों से चला आ रहा है। धार्मिक श्रृद्धा के हिसाब से व्रत रखना इष्टदेव की उपासना करना है। जिसमें आप निर्धारित खाद्य पदार्थ का सेवन करते हैं व धर्म के हिसाब से जिन चीजों को पाप समझा जाता है, उनसे दूरी बनाते हैं।

स्वास्थ्य के लिये लाभकारी होते हैं व्रत

 

हर धर्म में उपवास रखने की अपनी अलग विचारधाराएं हैं। जैसे कि रमज़ान में पूरे 30 दिन के लिये उपवास रखा जाता है। जिसमें सूर्यास्त के बाद ही आप कुछ खा सकते हैं। इसी प्रकार हिन्दू, जैन लोगों में भी पूरे दिन का व्रत होता है। इसी तरह क्रिश्चियन लोग भी अपनी आस्था के हिसाब से व्रत रखते हैं। आस्था के अनुसार कई दिनों, हफ्तों तक पानी और अन्न का त्याग सिर्फ आध्यात्मिक धारणा नहीं बल्कि इससे हमारे स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है।

हृदय रोग व मधुमेह रोग से निवारण

एक शोध से पता चला है कि व्रत रखने वाले व्यक्तियों में हृदय से संबंधित रोग होने की आशंका कम होती है। यहां तक कि जो व्रत रखते हैं उनका रक्तचाप भी सही रहता है। मधुमेह से ग्रसित लोगों की शुगर भी कम आंकी गई।

वज़न का घटना

पोषण विशेषज्ञ एडम ब्राउन के अनुसार व्रत रखना कभी भी वज़न घटाने का उद्देश्य नहीं होना चाहिए। क्योंकि इससे आपके स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। हालांकि ये पता लगा है कि व्रत रखने वाले लोगों के वज़न पर कहीं न कहीं कुछ असर जरूर पड़ता है। क्योंकि हमारे शरीर को नियमित कैलोरी की जरूरत पड़ती है। व्रत में इसकी कमी के चलते हमारे वज़न पर असर पड़ता है।

मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा

कहने को तो व्रत धार्मिक आस्था है। लेकिन आज के इस व्यस्त माहौल में ये मानसिक शांति भी प्रदान करता है। जैसे कि रमज़ान में परिवार के सारे लोग साथ में मिलकर रोज़ा खोलते हैं। और अपने दोस्तों व रिश्तेदारों से मिलने जाते है। किसी भी व्रत में पूरे परिवार का सहयोग होता है। ऐसे में वो लोग जो ये समझते हैं कि वो अकेले हैं, उन्हें साथ मिल जाता है। साथ ही साथ डिप्रेशन का शिकार लोगों को अकेलेपन का एहसास नहीं होता।

नियमित आदतों को छुटकारा दिलाने में सहायक

जैसा कि व्रत में कुछ निर्धारित चीजों का ही सेवन किया जाता है। बहुत से लोग होते हैं जो मादक पदार्थों के आदी होते हैं, कुछ अत्यधिक मात्रा में फास्ट फूड खाते हैं। व्रत की वज़ह से कुछ दिन के लिये ही सही, लोग इन चीजों से दूर रहते हैं। इससे उन्हें एहसास होता हैं कि इनके बिना भी जिन्दगी गुजारी जा सकती है। कई लोग तो इन चीजों को छोड़ने में कामयाब भी हो जाते हैं।

इसी तरह व्रत के समय ज्यादातर लोग फल, जूस आदि का सेवन करते हैं। जिससे कि उनके शरीर में व्याप्त विषैले पदार्थ कम हो जाते हैं। व उनका शरीर धीरे- धीरे रोग मुक्त होने लगता है। कहने का तात्पर्य यही है कि व्रत की वज़ह से हमारे खानपान का समय निर्धारित हो जाता है। और जो भी डाइट हम लेते हैं वो स्वास्थ्यवर्धक होती है। पूरे साल की अनियमित चीजों से उत्पन्न हुए टॉक्सिन्स को व्रत कुछ दिनों में ही कवर कर देता है।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription