GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

सैकेंड हैंड किताबों को ऑनलाइन बेचने के बिजनेस ने बना दिया इन्हें यूथ आइकॉन

अर्चना चतुर्वेदी

21st July 2017

सैकेंड हैंड किताबों को ऑनलाइन बेचने के बिजनेस ने बना दिया इन्हें यूथ आइकॉन

 

कहते हैं कि कुछ करने के लिए उम्र और तर्जुबे से ज्यादा जज्बे की जरूरत होती है। ऐसी ही एक मिसाल हैं इलाहाबाद की रीतिका श्रीवास्तव। जिन्होंने छोटी उम्र में ही अपना एक क्रिएटिव बिजनेस शुरू किया www.bookthela.com नाम से। जोकि एक सैकेंड हैंड और बहुत ही सस्ते दामों में उपलब्ध ऑनलाइन किताबों की दुकान है और आज के समय में बुक लर्वस की पहली पसंद बनी हुई है। आइए जानते है कैसा रहा रीतिका के इस मुकाम तक पहुँचने का सफर - 

 
        रितिका श्रीवास्तव , बुकठेला डॉट कॉम की संस्थापक

 

 
किताबें पढ़ना मेरा जुनून है
 
आप मुझे किताबी कीड़ा कह सकते हैं। मुझे बुक्स पढ़ना बहुत पसंद है बचपन से ही मैं घंटों- घंटों किताबें पढ़ा करती थी। घर पर मेरे और मेरे पापा की पर्सनल लाइब्रेरी भी है जिसमें 10 हजार से भी ज्यादा बुक्स का कलेक्शन है। और इसी माहौल की वजह से मेरा रीडिंग पैशन मेरा प्रोफेशन बन गया।
 
पापा ने दिया बिजनेस का आईडिया
 
मैं ग्रेजुएशन लास्ट सेमेस्टर में थी और इंटर्नशिप करने के लिए कंपनी ढूंढ रही थी। तभी मेरे पिताजी जो खुद एक लेखक हैं उन्होंने मुझे सेकेंड हैंड बुक्स ऑनलाइन बेचने का आईडिया बताया जो कि मुझे बहुत पसंद आया। उन्हें पहले से ही मेरे बुक पैशन के बारे में पता था इस वजह से उन्होंने मुझे इस पैर्टन पर ही बिजनेस करने के लिए प्रेरित किया। 
 
दिक्कतों ने दिखाया नया रास्ता
 
जब मैं हॉस्टल में थी तो वहां रात में खाने के लिए कोई ऑप्शन नहीं होता था सभी कैंटीन, दुकाने बंद हो जाती थी। तब मैंने वहां से ही नाइट फूड वेंडरिंग का काम शुरू किया। जैसे चिप्स, कोल्डड्रिंग, मैगी, नाचोस और बहुत कुछ। इसी तरह जब ऑनलाइन बुक्स सेलिंग का काम शुरू किया तो मैंने सैकेंड हैंड बुक्स इकट्ठा करने के लिए दूर-दूर जगाहों पर ट्रेवल किया जिसमें बहुत दिक्कतें आईं। बस वहीं से मैंने अपने बिजनेस के आईडिया को चेंज किया और हर शहर में वेंडर के जरिए किताबें ऑर्डर करना आसान हो गया। 
 
परिवार के साथ दोस्तों का भी मिला सपोर्ट
 
मैंने अभी तक जो कुछ भी हासिल किया है उन सबके पीछे मेरे पैरेंट्स का सपोर्ट और विश्वास है। उन्होंने मुझे जीवन के हर मोड़ पर अपने सपनों को पूरा करने के लिए प्रेरित किया है। सिर्फ मेरा परिवार ही नहीं बल्कि मुझे दोस्त भी बहुत सपोर्टिव मिले हैं। किसी भी समय अगर मुझे कोई जरूरत होती है तो वो लोग हमेशा हेल्प करने के लिए तैयार रहते हैं।
 
सक्सेस मंत्रा
 
मेरे हिसाब से एक सफल उद्यमी बनने के लिए हमारे अंदर काम के प्रति दृढ़ संकल्प और धीरज होना चाहिए। अपने काम या बिजनेस के लिए जुनून होना बहुत जरूरी है। इसके साथ ही आपके पास लोगों का समर्थन भी होना चाहिए जो आपकी विचारधारा को समझे उसकी प्रशंसा करें। आज भी बाजार में क्रिएटिव लोगों की जरूरत है अगर आप में जज्बा है तो अपने आप को साबित कीजिए आलोचनाओं से घबराइए मत।
 
 
 
 
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription