GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पार्वती की तरह दिखने के लिए आकांक्षा ने 15 किलो के पहने गहने

गृहलक्ष्मी टीम

1st September 2017

पार्वती की तरह दिखने के लिए आकांक्षा ने 15 किलो के पहने गहने
सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के नए शो 'विघ्नहर्ता गणेश' में पार्वती की भूमिका निभा रही आकांक्षा पुरी ने इस रोल के लिए बहुत मेहनत की है। इसके लिए उन्होंने शारीरिक प्रशिक्षण, उच्चारण, भाषा और एक देवि का विशुद्ध रूप लेने के लिए सही बॉडी लैंगवेज पर बहुत काम किया है। शो के क्रीएटिव टीम ने भी पार्वती का लुक तय करने के पहले गहन रिसर्च किया था और इसी के आधार पर आकांक्षा के गहनों की डिज़ाइनिंग भी की गई। इस ज्वेलरी सेट  सेट का कुल वजन 15 किलोग्राम है, और इसे ही आकांक्षा ने शूटिंग के दौरान पहना है। 
अपने लुक्स और गहनों के बारे में बात करते हुए आकांक्षा कहती हैं, मैंने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की है कि मैं पार्वती की भूमिका में बिलकुल फिट बैठूं। लेकिन मेरे लुक्स को और ऑथेन्टिक बनाने में मेरे क्रिएटिव टीम के बनावाए ज्वेलरी का रोल भी बहुत अधिक है क्योंकि इन्हें पहनते ही मुझमें किसी देवी जैसी आभा दिखने लगती है। साथ ही, मुझे कुछ धातुओं से एलर्जी है, तो क्रिएटटि टीम औऱ चैनल ने यह भी सुनिश्चित किया कि मेरे गहने कस्टम मेड हों। इन गहनों का बाहरी लेयर चांदी से बनाया गया है जो कि मेरी स् किन को सूट करती हैं।" 

वास्तु अनुसार कैसे करें भगवान गणेश की मूर्ति स्थापना?

शो पार्वती आकांक्षा पुरी का पहला टीवी शो है। इसके पहले आकांक्षा साउथ इंडियन फिल्मों में काम कर चुकी हैं और उन्होंने मधुर भंडारकर की फिल्म कैलेन्डर गर्ल से हिन्दी फिल्मों में कदम रखा था।

 
ये भी पढ़े-
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription