GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

गर्भावस्था के दौरान भूलने की आदत से घबराएं नहीं

गृहलक्ष्मी टीम

14th September 2017

अध्ययनों से पता चला है कि गर्भवती महिलाओं के दिमाग की कोशिकाओं की मात्रा में कमी आती है कहते हैं कि बेटे को जन्म देने वाली मांओं के मुकाबले लड़कियों की माएँ ज्यादा भुलक्कड़ हो जाती हैं। अच्छी बात यह है कि यह सब कुछ अस्थायी तौर पर होता है।

गर्भावस्था के दौरान भूलने की आदत से घबराएं नहीं

‘‘पिछले सप्ताह मैं अपना पर्स घर पर भूल गई; आज तो मुझे इतनी खास मीटिंग भी याद नहीं रही। मैं अपना दिमाग फोकस नहीं कर पा रही, लगता है मेरा दिमाग खराब हो गया है।’’

अक्सर कई गर्भवती महिलाओं को लगता है कि उनकी भूलने की आदत बढ़ती जा रही है। अपनी संगठनात्मक शक्ति पर भरोसा करने वाली महिलाएँ भी जटिल हालात से घबराने लगती हैं। वे अपना सामान भूलने के अलावा अपना आपा भी खोने लगती हैं। अध्ययनों से पता चला है कि गर्भवती महिलाओं के दिमाग की कोशिकाओं की मात्रा में कमी आती है कहते हैं कि बेटे को जन्म देने वाली मांओं के मुकाबले लड़कियों की माएँ ज्यादा भुलक्कड़ हो जाती हैं। अच्छी बात यह है कि यह सब कुछ अस्थायी तौर पर होता है।

डिलीवरी के कुछ ही महीनों में दिमाग पूरी फूर्ति से काम करने लगता है। यह भी हार्मोन बदलावों की वजह से ही होता है। नींद पूरी न होने से भी ऊर्जा घटती है और दिमाग केंद्रित नहीं रह पाता। भावी मां का पूरा दिमाग नन्हें शिशु के कपड़ों के रंग व नाम चुनने में ही व्यस्त रहने लगता है। अगर आप इस आदत को लेकर तनाव पाल लेंगी तो मामला और बिगड़ जाएगा। थोड़े हंसी-मजाक से बात बन जाएगी। आप स्वयं बेहतर महसूस करेंगी।

दरअसल इस समय आप शिशु बनाने के जरूरी काम में जुटी हैं इसलिए पहले जैसी योग्यता कहाँ से आ सकती है? घर में किए जाने वाले कामों की सूची बनाकर रखें। घर की चाबियाँ रखने की एक जगह बनाएँ। इस आदत से छुटकारा पाने के लिए किसी भी तरह की दवा न लें। धीरे-धीरे आपको इसी तरह काम करने की आदत पड़ जाएगी। शिशु के आने के बाद दिमाग की चुस्ती-फूर्ति फिर से लौट आएगी क्योंकि तब आप भरपूर नींद भी ले पाएँगी।

ये भी पढ़ें -

गर्भावस्था में बेतुकी सलाह को सुनकर तनाव मोल ना लें

....ताकि आपके बेबी बम्प को किसी की नज़र ना लगे

गर्भावस्था है नए जीवन की शुरुआत

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

क्या महिलाओं को अपनी सेक्स डिजायर पर खुल कर बात करनी चाहिए ?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription