GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

जब पत्थर  ने बदल दिया पत्थर दिल

शैलजा सक्सेना

30th July 2018

जब पत्थर  ने बदल दिया पत्थर दिल

July 2008

 

बात उस समय की है जब मैं बचपन में अपनी शरारती प्रवति के कारण बहुत चंचल थी। खेल-खेल में बातों-बातों में अपनी सहेलियों व घर में आई भाई-बहनों से झगड़ा करना मेरी आदत में शुमार था। अपने उग्र स्वभाव व तानाशाही प्रवति के कारण मैं सब पर अपना वर्चस्व बनाए रखने में कामयाब रहती थी। किंतु इसी पत्थर दिल कठोर प्रवति को मात्र एक छोटे से पत्थर ने ही दिल की अंतरात्मा को झकझोर कर कोमलता का गहना पहना दिया। घटना ऐसी घटी कि हम सभी भाई बहन ब पड़ोसी बच्चे सतोबिया खेल रहे थे जो कि पत्थरों से खेला जाता है। मैं खाने में पत्थर डाल ही रही थी। कि अचानक मेरा छोटा चार वर्षीय नादान भाई दौड़कर खाने के बीच बैठ गया जिससे कि मेरा पत्थर उचित स्थान पर नहीं पहुंच सका। अत: मैं गेम से आउट हो गई, मुझे इतनी जोर से गुस्सा आया कि अपनी हार की खीझ के कारण मैंने अपने भाई को वही पत्थर सिर पर जोर से दे मारा जो कि उसके नाक के ठिक ऊपर बीचों-बीच जा कर लगा। उससे खून का रिसाव होने लगा। डर के मारे मैं भी रोने लगी। घर में खूब डांट पड़ी सो अलग । कुछ दिनों पश्चात घाव तो ठीक हो गया लेकिन इस दर्दनाक घटना ने मेरे दिल को पिघला दिया। आज मुझे अपने बचपन की वह घटना याद आ जाती है व दिल रुआसां हो जाती है।

 

 ये भी पढ़ें-

शादी पर भी हाथ जोड़े थे

इकलौता चांद गायब

 

 

 

 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription