GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

 आप भी फॉलो कर सकते हैं शाहरुख, सुष्मिता जैसे सेलेब्स के ये स्मार्ट पेरेन्टिंग मंत्रा

गरिमा अनुराग

6th November 2017

सिर्फ स्टाइल और ट्रेंड के लिए ही टीवी और बॉलीवुड स्टार्स को फॉलो न करें, बल्कि उनसे उनके स्मार्ट पेरेंटिंग स्किल्स भी सीखें।  

 आप भी फॉलो कर सकते हैं शाहरुख, सुष्मिता जैसे सेलेब्स के ये स्मार्ट पेरेन्टिंग मंत्रा
यूं तो हम अक्सर टीवी और फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के स्टाइल और अफेयर्स के चर्चे करते हैं, लेकिन अगर हम उन्हें फॉलो करें तो पाएंगे कि जब बात इस इंडस्ट्री से जुड़े सेलेब्स की आती है तो हमारे ये सेलेब्रिटीज भी किसी आम पैरेंट की ही तरह कभी फ्रेंडली हैं तो कभी सख्त। तो हम सेलेब्रिटीज को सिर्फ गलत कारणों के लिए न याद रखें बल्कि उनके यूनिक तरीकों से अपने पैरेंटिंग स्टाइल्स को भी बेहतर बनायें। पढि़ए-
 
शाहरुख खान से सीखें टाइम स्पेंड करना
शाहरुख खान एक एक्टर, एंटरप्रेन्योर, निर्माता होने के साथ-साथ जिस रोल में हमेशा कामयाब नजर आते हैं वो है एक पति और उससे भी बढ़कर एक पिता के रोल में।
 

अगर आप गौर से देखेंगे तो पाएंगे कि वो न सिर्फ अबराम के साथ ज्यादा से ज्यादा वक्त बिताते हैं, बल्कि वो आर्यन और सुहाना के साथ भी हर ऐसे समय पर मौजूद होते हैं जब उन्हें उनकी जरूरत हो। वो सुहाना को छोडऩे एयरपोर्ट जाते हैं, आर्यन के कॉलेज कनवोकेशन में भी हमेशा मौजूद होते हैं, कभी अपने फॉरेन ट्रिप्स पर अकेले अबराम को लेकर निकल जाते हैं। शाहरुख ने अपने एक इंटरव्यू में कहा भी था कि उनक बच्च उनक अच्छ फ्रेंड्स हैं और वो उनकी कंपनी में ज्यादा यंग महसूस करते हैं।

श्रीदेवी से सीखें ट्रस्ट और फ्रेंडशिप
आपने 'इंग्लिश विंग्लिश' और 'मॉम' में श्रीदेवी को मां की भूमिका निभाते हुए देखा है... लेकिन श्रीदेवी असल जि़न्दगी में एक ऐसी मां हैं जो अपने बच्चों से न राय लेने में हिचकिचाती हैं न अपनी स्क्रिप्ट्स डिसकस करने में।

 

श्रीदेवी ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनकी बेटियां उन्हें फिल्म सलेक्शन के दौरान स्क्रिप्ट रीडिंग से लेकर रोल के डिस्कशन तक में इन्वॉल्व रहती हैं। किसी ईवेंट में जाने के पहले वो अपनी दोनों बेटियों, जाह्नवी और खुशी के साथ ड्रेस फाइनल करती हैं। इसी इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि जाह्नवी उनके ज्यादा करीब है और अपने निर्णय लेने के लिए उन पर डिपेंड भी करती है, जबकि उनकी छोटी बेटी खुशी बचपन से ही इंडिपेंडेंट हैं।
 
सुष्मिता सेन मानती हैं कि जरूरी है कभी-कभी स्ट्रिक्ट होना
 

दो बेटियों को गोद लेकर सुष्मिता सेन बॉलीवुड की सबसे रिबेलियस और फीयरलेस मां में से एक बन चुकी हैं, लेकिन सुष्मिता खुद ये मानती हैं कि अपने बच्चों के साथ वो शुरू में बहुत स्ट्रिक्ट थी, लेकिन जब उन्हें ये एहसास हो गया कि उनके बच्चे बहुत अच्छी तरह बिहेव करते हैं तो उन्होंने अपनी स्ट्रिक्टनेस को थोड़ा कम कर दिया।

ऋतु शिवपुरी का मानना है कि सामान्य हो परवरिश
 

स्टार प्लस के टीवी सीरियल 'इस प्यार को क्या नाम दूं' में इन्द्राणी का किरदार निभा रही ऋतु शिवपुरी कहती हैं कि बच्चों को घर पर हमेशा ऐसा ही वातावरण मिलना चाहिए कि वो नेचर से और सामान्य लाइफस्टाइल से जुड़े रहे। मेरे पैरेंट्स हमेशा इंडस्ट्री का हिस्सा रहे, लेकिन हमारी परवरिश बहुत ही सामान्य अंदाज़ में हुई थी। मैं भी यही कोशिश करती हूं कि मेर दोनो बच्चे लाइमलाइट या ग्लमर जैसी चीजों से दूर रहें।

 
 
 
 
 
 
 
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

क्या महिलाओं को अपनी सेक्स डिजायर पर खुल कर बात करनी चाहिए ?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription