GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

महिलाओं से संबंधित रोग और उनके घरेलू उपचार

गृहलक्ष्मी टीम

28th November 2017

महिलाओं से संबंधित रोग और उनके घरेलू उपचार
कुछ रोग ऐसे भी होते हैं जो केवल स्त्रियों को होते हैं जिन्हें वह लज्जा व संकोच वश नहीं बता पाती। ऐसे में कई घरेलू उपचार हैं जिन्हें वह अपनाकर स्वयं को राहत दे सकती हैं।
 
 
  • लाल गुड़हल के फूलों को कांजी के साथ पीसकर पीने से माहवारी खुल जाती है।
  • असंगध का चूर्ण बनाकर रख लें। 6 ग्राम चूर्ण में बराबर की मात्रा में पिसी मिश्री या चीनी मिलाकर ठंडे पानी के साथ खायें।
  • गाजर के बीज 30 ग्राम कूटकर, 500 ग्राम पानी में उबालें, जब पानी आधा रह जाए तो थोड़ी शक्कर डालकर 2-3 दिन पिलायें, माहवारी खुलकर आ जाती है।
  • चार माशा नीम की छाल को कूटकर दो तोला गुड़ के साथ पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए तो गुनगुने पानी के साथ पीने से मासिक धर्म की रुकावट दूर हेाती है।
  • मासिक धर्म होने के लिए गाजर के बीज पानी में पीसकर पांच दिन तक पीना चाहिए।
  • महिलाओं के मासिक धर्म के समय अधिक रक्तस्राव होने पर उसे रोकने के लिए गाय के एक पाव दूध में केले के पत्ते का एक छटांक रस मिलाकर सुबह खाली पेट एक सप्ताह तक देना चाहिए।
  • कतीरा गोंद बाजार से ले आएं और 10 ग्राम गोंद रात को 1 कप पानी में भिगोकर रख दें। सवेरे इसमें 10 ग्राम पिसी मिश्री मिलाकर पी लें। इससे पित्त और गर्मी के कारण होने वाले प्रदर रोग में निश्चय ही आराम होता है।
  • आंवले के चूर्ण 3 ग्राम, 6 ग्राम शहद में मिलाकर नित्य एक बार 30 दिन तक निरन्तर लेने से श्वेत प्रदर में लाभ होता है या 20 ग्राम आंवले का रस शहद में मिलाकर तीस दिन तक पीने से श्वेत प्रदर में आराम मिलता है।
  • गाय के दूध में 25 ग्राम अशोक की छाल को पकाकर, उसमें मिश्री मिलाकर सुबह-शाम कुछ दिनों तक पीने से रक्त-प्रदर में लाभ होता है।
  • जामुन की हरी ताजा छाल छाया में सुखाकर बारीक करके 4-4 ग्राम सुबहशाम बकरी के दूध के साथ या गाय के दूध के साथ लेने से प्रदर में फायदा होता है।
  • सफेद जीरा, शतावर, आंवला, नीम की छाल, तीन-तीन माशे लेकर, पाव-भर पानी में पीस व छानकर ठंडाई की तरह पीएं।
  • लौकी के बीजों की पिट्ठी बनाकर घी में भून लें। मिश्री डालकर इसका हलुआ बना लें और प्रात:काल खाएं।
  • मौलसिरी की छाल सुखाकर पीस लें और बराबर वजन की खांड मिलाकर प्रतिदिन सुबह नौ माशे पानी के साथ खाएं।
  • सूखा आंवला व मुलेठी दोनों बराबर मात्रा में लें और बारीक पीसकर छान लें, तिगुने शहद में मिलाकर सुबह-शाम 6-6 माशे दूध से लें।
  • अशोक की छाल रक्त प्रदर में, पेशाब रुकने आदि रोगों में तुरंत लाभ पहुंचाती है।
  • श्वेत प्रदर में अशोक की छाल का चूर्ण एवं मिश्री समभाग में गाय के दूध के साथ सुबह-शाम देते रहें।
  • तुलसी के रस के साथ जीरा मिलाएं और गौदुग्ध के साथ सेवन करें। प्रदर के लिए लाभदायक होता है।
  • जिन्हें अधिक रक्तस्राव है, उन्हें 2 ग्राम लोध का महीन चूर्ण और 2 ग्राम पिसी मिश्री दोनों मिलाकर ठण्डे पानी के साथ दिन में तीन बार फांक लेना चाहिए। इससे गर्भाशय की शिथिलता व ढीलापन दूर होता है व रक्तस्राव में रुकावट हो जाती है। इसका आवश्यकता के अनुसार लगभग 4-5 दिन सेवन करना चाहिए।
  • गूलर वृक्ष के साफ किये हुए पान-छह फल या इसी वृक्ष की अंतर छाल 20-25 ग्राम मात्रा में घोट पीस कर रस निकाल लें और एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह शाम चाट लें।
     
     

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

क्या महिलाओं को अपनी सेक्स डिजायर पर खुल कर बात करनी चाहिए ?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription