GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

कभी एक्टिंग को अलविदा कहने का मूड बना चुकी थी बालिका वधू की ये एक्ट्रेस 

गरिमा अनुराग

2nd December 2017

कभी एक्टिंग को अलविदा कहने का मूड बना चुकी थी बालिका वधू की ये एक्ट्रेस 
टीवी पर बालिका वधु बनकर लोगों के दिलों में राज़ कर चुकी 20 वर्षीय अविका गौर के करियर में एक ऐसा समय भी आया जब उन्हें ऐसा लगने लगा की शायद वो एक्टिंग नहीं करना चाहती और उन्हें ज्यादा मजा डायरेक्शन में आने लगा। उन्होंने कुछ समय के लिए एक्टिंग से दूरी भी बनाई थी, लेकिन इसका ये मतलब न समझे की उन्हें अच्छे ऑफर्स नहीं आ रहे थे। 
दरसल उस समय अविका फिल्म मेकिंग की पढाई पर फोकस करना चाहती थी।  अविका कहती हैं उन दिनों मई कई फेस्टिवल्स में भी ट्रेवल कर रही थी और ये समझना चाह रही थी की मैं एक्टिंग करना भी चाहती हूं या नहीं।
अविका बताती हैं की जिन दिनों वो अपनी शार्ट फिल्म 'अनकही बातें' के लिए काम कर रही थी उस समय तो उन्होंने लगभग तय ही कर लिया था की वो एक्टिंग नहीं करेंगी और निर्देशन के छेत्र में उतरेंगी, लेकिन अब वो मानती हैं की वो दोनों रोल अच्छे से हैंडल कर सकती है। 
 
 

A post shared by Avika (@avika_n_joy) on

 
अविका और उनके बॉयफ्रेंड मनीष रैसिंघण ने मिलकर कान्स फिल्म फेस्टिवल में अपनी शार्ट फिल्म अनकही बातें का पोस्टर रिलीज़ किया था। 
अविका ने बालिका वधु के अलावा 'ससुराल सिमर का' जैसे शो में भी काम किया है और आज कल वो टीवी पर 'न आना इस देश मेरी लाडो' के सीक्वल 'लाडो' में नज़र आ रही हैं।अविका ने मॉर्निंग वाक(2009 ) और पाठशाला (2010 ) नाम की हिंदी फिल्मों में भी काम किया था। साथ ही उन्होंने तेलगु और कन्नड़ फिल्में भी की हैं। 
 
 
 
ये भी पढ़े-
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

क्या महिलाओं को अपनी सेक्स डिजायर पर खुल कर बात करनी चाहिए ?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription