GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

गर्भावस्था के दौरान ऐसे बढ़ाएं शिशु का वजन

गृहलक्ष्मी टीम

3rd January 2018

अगर माँ लम्बे समय से बीमार हो तो डॉक्टर की सलाह से भी बात बन सकती है। कई बार ‘समय से पहले प्रसव’ को भी रोका जा सकता है। कई शिशु बिना किसी वजह के, जन्म से ही छोटे होते हैं, जिसका कोई उपाय नहीं है।

गर्भावस्था के दौरान ऐसे बढ़ाएं शिशु का वजन

‘‘मैं कम वजन वाले शिशु जन्म के बारे में कई जगह पढ़ चुकी हूँ। क्या मैं इससे बचाव के लिए कुछ कर सकती हूँ?

कम वजन वाले शिशुओं के जन्म वाले कुछ मामलों का बचाव किया जा सकता है। आमतौर पर मदिरा, तंबाकू या ड्रग्स लेने वाली महिलाओं में बच्चों का वजन जन्म से ही कम होता है। भावनात्मक तनाव, कुपोषण, प्रसव पूर्व देखभाल में कमी जैसे कारकों का उपाय किया जा सकता है। इसके अलावा अगर माँ लम्बे समय से बीमार हो तो डॉक्टर की सलाह से भी बात बन सकती है। कई बार ‘समय से पहले प्रसव’ को भी रोका जा सकता है। कई शिशु बिना किसी वजह के, जन्म से ही छोटे होते हैं, जिसका कोई उपाय नहीं है।

अगर माँ का वजन भी जन्म के समय कम रहा हो, जैसे प्लेसेंटा में कमी या ‘जनेटिक डिसऑर्डर’। नौ महीने से कम की गर्भावस्था भी एक कारण हो सकती है लेकिन ऐसे मामलों में भी अच्छे आहार व प्रसव पूर्व देखभाल से शिशु का वजन बढ़ाया जा सकता है। यदि शिशु छोटा भी हो तो मेडिकल केयर उसे बचाने व स्वस्थ होकर फलने-फूलने में मदद करती है। यदि आप इस बारे में खासतौर पर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। वे अल्ट्रासाउंड देख कर बता देंगे कि भ्रूण सामान्य गति से बढ़ रहा है या नहीं। यदि उसका विकास पूरा नहीं हो रहा तो उसके लिए संभावित कदम उठाए जाएंगे।

ये भी पढ़ें

आप सुपर मॉम नहीं बन सकतीं

डिलीवरी के लिए करें कुछ खास तैयारी

जानें गर्भावस्था में कब करना पड़ता है ग्लूकोज स्क्रीनिंग टेस्ट

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

क्यों फंसते हैं लोग नकली बाबाओं के चंगुल में, इसके पीछे कौन-सा कारण है जिम्मेदार?

गृहलक्ष्मी गपशप

अपने इस ऐप के जरिए डॉ. अंजली हूडा सांगवान लोगों को रखती हैं फिट

अपने इस ऐप के जरिए डॉ....

"गृहलक्ष्मी ऑफ द डे"- डॉ. अंजली हूडा सांगवान

रिंग सेरेमनी से दें रिश्ते को पहचान

रिंग सेरेमनी से...

रिंग सेरेमनी, ये एकमात्रा रस्म नहीं बल्कि एक ऐसा मौका...

संपादक की पसंद

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

आओ, हम ही श्रीगणेश...

“मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो” मां...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

रिदम और रूद्राक्ष...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription