GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पीरियड्स की परेशानियों से छुटकारा दिलाता है ये आसन

शुचि बंसल, योगा एक्सपर्ट एवं डाइटीशियन

26th April 2018

महिलाओं तथा युवा लड़कियों को मासिक धर्म के चलते कई तरह की परेशानियों से जूझना पड़ता है इन सब परेशानियों को दूर करने के लिए योग में एक बहुत ही आसान लेकिन बहुत ज्यादा प्रभावशाली आसन है- तितली आसन। आइये जानते हैं इस आसन को करने के तरीके और इसके लाभों के बारे में-

पीरियड्स की परेशानियों से छुटकारा दिलाता है ये आसन

महिलाओं तथा युवा लड़कियों को मासिक धर्म के चलते कई तरह की परेशानियों से जूझना पड़ता है जैसे- पीरियड्स के समय होने वाला दर्द, पीरियड्स में अनियमितता, ब्लड का कभी बहुत ज्यादा तो कभी बहुत कम बहाव। इन सब परेशानियों को दूर करने के लिए योग में एक बहुत ही आसान लेकिन बहुत ज्यादा प्रभावशाली आसन है- तितली आसन। जिसे बटरफ्लाई पोज भी कहा जाता है। इसे यह नाम इसलिए दिया गया है क्योंकि इस आसन को करते वक्त हम अपनी टांगें इस तरह हिलाते हैं मानो तितली अपने पंख फड़फड़ा रही हो। आइये जानते हैं इस आसन को कैसे करें : - 

  • इस आसन को करने के लिए कमर- गर्दन सीधी रखते हुए पैरों को सामने की ओर फैलाकर बैठ जाएँ। फिर पैरों को घुटनों से मोड़ते हुए ऐसे रखें कि दोनों पैरों के तलवे आपस में जुड़ जाएँ। 
  • दोनों हाथों से अपने दोनों पैरों को कसकर पकड़ लें और एडी को अपने शरीर के जितना नजदीक हो सके लाने का प्रयास करें। लेकिन हाँ यह करते वक्त ध्यान रखें कि आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी रहे। 
  • श्वास सामान्य रूप से लेते रहें और अपने पैरों को तितली के पंखों के समान ऊपर –नीचे करें, धीरे- धीरे गति बढ़ाते जाएँ। जितना संभव हो उतनी तेज इस प्रक्रिया को करें। ध्यान रखें जितना आसानी से आप इस प्रक्रिया को कर सकते हैं करें, झटका बिल्कुल न दें। 
  • शुरुआत में इस प्रक्रिया को 50 बार करें फिर धीरे- धीरे बढ़ाकर 100 तक या अपनी क्षमतानुसार करें। 

महिलायें क्यों करें यह आसन 

  • इस आसन को नियमित रूप से करने से पीरियड्स के समय होने वाले दर्द में राहत मिलती है। साथ ही जिन लोगों के पीरियड्स नियमित नहीं हैं उसमें रेगुलेरिटी आती है। 
  • गर्भवती महिलायें यदि इस अभ्यास को रोजाना करती हैं तो डिलिवरी के समय होने वाली पीड़ा में काफी हद तक कमी आती है और प्रसव में आसानी होती है। यहाँ ध्यान रखने वाली बात यह है कि गर्भवती महिलाएं इस अभ्यास को अपने चिकित्सक की परामर्श से ही किसी प्रशिक्षित योगा चिकित्सक की देखरेख में करें। 
  • इस आसन को करने से जांघों के अंदरूनी हिस्से पर इस आसन का सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है इस कारण जांघों की मांसपेशियों में लचीलापन आता है। साथ ही जांघ के अंदरूनी हिस्से में जमा फैट भी कम होता है। 
  • ज्यादा समय तक खड़े रहने और चलने के कारण होने वाली पैरों को थकान को यह आसन बड़े ही चमत्कारिक ढंग से दूर करता है। 
  • इस आसन से पैरों में खून का बहाव ठीक रहता है। गठिया और जोड़ों के दर्द में इस आसन को करने से आराम मिलता है। 

कब न करें

  • जिन लोगों को साइटिका या पीठ के निचले हिस्से में दर्द रहता हो वे इस अभ्यास को न करें।
  • यदि घुटने में किसी प्रकार का दर्द या चोट हो वे यह आसन न करें। जिनकी घुटनों की किसी तरह की कोई सर्जरी हुई हो वे भी इस अभ्यास को न करें।

ये भी पढ़ें-

सिर्फ 'सूर्य नमस्कार' करके भी आप रह सकते हैं फिट

योग के दौरान खानपान में कभी ना करें ये गलतियां

योग से तन और मन का सौंदर्य निखारेें

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription