GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

कहीं आप भी तो नहीं करते हैं जरूरत से ज्यादा शक ??? 

गीता सिंह

14th May 2018

हम अपने आस पास ऐसे बहुत से लोगों को देखतें है जोकि हर इंसान पर शक करतें है। उन्हें दुनिया में किसी पर विश्वास ही नहीं होता है और यह एक मानसिक रोग है, जिसे “पैरानॉयड पर्सनेलिटी डिसऑर्डर” के नाम से जाना जाता है। ऐसे व्यवहार को हम सामान्य समझतें हैं किन्तु ये बात सामान्य न होकर दरअसल एक मानसिक रोग की तरफ इशारा करती है।

कहीं आप भी तो नहीं करते हैं जरूरत से ज्यादा शक ??? 
पैरानॉयड पर्सनेलिटी डिसऑर्डर पूरी तरह से व्यक्ति की पर्सनेलिटी से संबंधित होता है। पटना, मनोचिकित्सक, डॉ बिंदा के अनुसार यह ऐसा मानसिक रोग है जिसमें पीड़ित व्यक्ति सभी को शक की निगाह से देखने लगता है। उसे अपने आस-पास किसी भी इंसान पर विश्वास नहीं रहता है। 
 
क्यों होता है यह मानसिक रोग-
 
वैज्ञानिकों के अनुसार पैरानायॅड पर्सनेलिटी डिसआर्डर होने के पीछे कोई एक वजह बता पाना मुमकिन नहीं हैं क्योंकि इसके होने के पीछे कई अन्य मानसिक रोग भी जिम्मेदार होते हैं जैसे भ्रम संबंधित मानसिक रोग, जिसे “डेलूस्जन डिसआॅर्डर” भी कहते हैं। यदि “नेशनल इंस्टीटयूट ऑफ़ मेंटल हेल्थ” की माने तो ऐसे रोगियों के परिवार का कोई ना कोई सदस्य किसी ना किसी मानसिक रोग से ग्रस्त रहा होता है यानि “जेनटिक फैक्टर” भी इसके लिए जिम्मेदार माने गए हैं। लेकिन इस रोग को होने में सबसे मत्वपूर्ण कारण जो अधिकतर मामलों में समाने आता है वो होता है उस पीड़ित परिवार के घर का माहौल। जिस घर में  बहुत ज्यादा तनाव पूर्ण माहौल व लड़ाई-झगड़ा रहता है, उस घर के सदस्य में “पैरानायॅड पर्सनेलिटी डिसआर्डर” होने का सबसे अधिक  खतरा रहता है।  वहीं महिलाओं के मुकाबले पुरूष इस मानसिक रोग से ज्यादा ग्रसित पायें जाते हैं। 
 
लक्षण- 
 
  • इस मानसिक रोग से ग्रसित व्यक्ति के मूड में बहुत जल्दी-जल्दी बदलाव होता रहता है। वो व्यक्ति जल्दी किसी पर विश्वास नहीं कर पाता है। हमेशा उसे इस बात का डर लगता रहता है सब उसके साथ विश्वासघात कर रहें हैं। 
  • लोगों से मिलने-जुलने से वो डरने लगता है क्योंकि उसे लगता है कि सब उसके बारे में बुरा बोलते हैं। 
  • सामान्य सा सवाल पूछने पर वो डर जाता है कि आखिर वो उसके बारे में क्यों जानना चाह रहे हैं। 
  • ठीक से नींद ना आना व समझाने पर भी बार-बार वही बाते दोहराना इत्यादि। 
 
उपचार- 
 
मनोचिकित्सक डॅा बिंदा सिंह के अनुसार जब व्यक्ति को यह मानसिक रोग होता है तो उसके लक्षणों को देखकर पैरानाॅयड पर्सनेलिटी डिसआॅर्डर की पुष्टि हो जाती है। ऐसी स्थिति में पीड़ित व्यक्ति को मनोचिकित्सक के पास ले जाना आवश्यक हो जाता है। 
  • मनोचिकित्सक, पीड़ित व्यक्ति को ठीक करने के लिए टॉक थेरेपी व साइकोथेरेपी के साथ-साथ उपचार के लिए मेडिसिन्स भी प्रिस्क्राइब करते हैं। 
  • टाॅक थेरेपी में पीड़ित व्यक्ति के बचपन से लेकर वर्तमान समय तक की सभी बातों की जानकारी ली जाती है और इस बात का पता का पता लगाया जाता  है कि ये मानसिक रोग, अनुवांशिक कारणों से हुआ है या फिर उसके परिवार का कलह व तनाव पूर्ण माहौल उसके इस मानसिक रोग का जिम्मेदार है। 
  • फैमिली मेंबर्स को रोगी के साथ हमेशा प्यार से रहना चाहिए।

ये भी पढ़ें -

एमनियोसेंटेसिस टेस्ट से भ्रूण की असमानता का पता चलता है

क्वैड स्क्रीनिंग से जानें गर्भावस्था की जटिलताओं को

सी.वी.एस.टेस्ट कराएं और क्रोमोसोमल समस्याओं का पता लगाएं

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription