GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

योग शुरू करने से पहले ये 10 बातें जाननी हैं बेहद जरूरी

सुचि बंसल, योगा एक्सपर्ट एवं डाइटीशियन

21st June 2018

पिछले कुछ सालों से लोगों में अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता आयी है। कई लोग योग से होने वाले लाभों से आकर्षित हुए हैं तथा उसे अनुभव करना चाहते हैं। लेकिन योग की शुरूआत करने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातों को जान लेना आवश्यक है। क्योंकि इन छोटी–छोटी लेकिन विशेष बातों को जाने बिना हम योग से होने वाले सम्पूर्ण लाभों को प्राप्त नहीं कर सकते। आइये जानते हैं क्या हैं ये विशेष बातें -

योग शुरू करने से पहले ये 10 बातें जाननी हैं बेहद जरूरी

 सही स्थान का चुनाव करें

 
योग करने के लिए स्वच्छ, शांत तथा हवादार स्थान का चयन करें। जहां आसपास का वातावरण आनन्दमय हों। बहुत तेज हवा में योगाभ्यास न करें। कोशिश करें कि योगाभ्यास करते समय एयरकंडिशनर या पंखे का इस्तेमाल न करें।
 
सही आसन का चुनाव करें
 
 
आपका आसन अर्थात बैठने का स्थान सपाट (समतल) होना चाहिये, ऊँचा – नीचा नहीं होना चाहिये। आप किसी कम्बल या योगा मैट का इस्तेमाल कर सकते हैं।
 
सही कपड़ों का चुनाव करें
 
योग का अभ्यास करते समय साफ, ढीले, हल्के तथा आरामदायक कपड़े पहनें। कपड़ों का आरामदायक होना बहुत जरूरी है यदि कपड़े आरामदायक न हों तो योगाभ्यास करते वक्त परेशानी हो सकती है।
 
 
सही समय का चुनाव करें
 
योग दिन में किसी भी समय किया जा सकता है; केवल भोजन के तुरन्त बाद योगाभ्यास नहीं करना चाहिये (वज्रासन को छोडकर)। परन्तु योग करने का सबसे सही समय सुबह तथा शाम का होता है। इस समय योग करने से आप अपने आपको ज्यादा ऊर्जावान महसूस करेंगे।
 
 
खाली पेट अभ्यास करें
 
योग करने से पहले आपका पेट तथा मूत्राशय खाली होना चाहिये। खाली पेट योगाभ्यास करना अधिक लाभदायक होता है। अगर खाना खाने के बाद योग कर रहे हैं तो ध्यान रखिये कि भोजन तथा योगाभ्यास के मध्य 2-3 घंटे का अन्तराल होना चाहिये।
 
श्वासों पर विशेष ध्यान दें
 
योग के सम्पूर्ण लाभ को प्राप्त करने के लिए यह अत्यंत आवश्यक है कि आप अपनी श्वासों पर विशेष ध्यान दें। श्वासों को कब छोड़ना है और कब लेना है; यह योग का बहुत ही आवश्यक पहलू है। ऐसा करने से हमारे शरीर पर योगाभ्यास का सही प्रभाव पड़ता है।
 
अभ्यासों को क्रम से करें
 
योगासनों को हमेशा विशेष क्रम से करें। खड़े होकर, बैठकर, पीठ के बल लेटकर तथा पेट के बल लेटकर करने वाले आसनों को एक विशेष क्रम में किया जाता है। इससे हम अनावश्यक होने वाली तकलीफों से बच सकते हैं।
 
अपनी क्षमताओं को पहचानें
 
अपनी क्षमता के अनुसार ही योगाभ्यास करें। योग करते समय किसी भी तरह का अनावश्यक तनाव या जोर न लगायें। यदि आप शरीरिक तथा मानसिक तनाव का अनुभव कर रहें हैं तो शवासन का अभ्यास करें। यह आपको पुन: ताजगी तथा ऊर्जा से भर देगा। शुरुआत में शरीर की मॉंसपेशियां लचीली नहीं होतीं हैं, परंतु  निरन्तर अभ्यास से ये स्वत: ही लचीली हो जाती हैं।
 
अपनी सम्पूर्ण शरीरिक अवस्था का ज्ञान
 
आप योग का आरम्भ करने जायें उससे पहले आपको अपने शरीर के बारे में पता होना चाहिये कि आपको कोई शरीरिक समस्या तो नहीं। यदि है तो, योग आपको उस शरीरिक समस्या से निजात दिलाने में मदद करेगा तथा अन्य अनावश्यक तकलीफों को भी दूर करेगा। इसलिये अत्यन्त आवश्यक है कि आप स्वयं को तथा योग निर्देशक को इन बातों से अवगत करायें।
 
जागरूक रहें
 
योगासनों को करते समय अपनी अवस्था तथा आसनों से शरीर पर पडने वाले प्रभावों की ओर जागरूक रहें। यह जागरूकता आपको शरीरिक, मानसिक, भावनात्मक तथा आध्यात्मिक स्वास्थ्य प्रदान करेगी। 
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription