GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

बच्चा हूं प्रोडक्ट नहीं!

मोनिका अग्रवाल

22nd June 2018

सेल्फ सटिस्फैक्शन के लिए आज हर पेरेंट्स चाहते हैं कि उसका बच्चा एग्जाम से लेकर डांस, स्पोर्ट्स, म्यूजिक, साइंस और जी के हर चीज में अच्छा परफॉर्म करें। लेकिन यह कैसे संभव है ?

बच्चा हूं प्रोडक्ट नहीं!

क्या मैं कोई लैब में डिजाइन किया गया हूं? या फिर बड़े-बड़े वैज्ञानिकों की रिसर्च के बाद बनाया गया कोई प्रोडक्ट हूं। पेरेंट्स बच्चों से जिस तरह की उम्मीदें रखते हैं उसके बाद हर बच्चा मन ही मन सोचता है, कि काश मैं कह पाता, मम्मी-पापा मैं आपका बच्चा हूं प्रोडक्ट नहीं! 

बच्चों पर सब कुछ करने का प्रेशर डालकर, आप कम उम्र में उनका स्ट्रेस बढ़ा रहे हैं। अगर आप चाहते हैं कि बच्चा सुपरहिट बने तो, पहले खुद सुपर पेरेंट्स बनें।

क्या आप वह सब कर सकते हैं जिसकी उम्मीद बच्चों से लगा रही हैं?

अगर बच्चा कहे कि, 'उसके मम्मी पापा को देखो'! तब अक्सर हम बच्चों को यह सिखाते हैं कि जो मिल रहा है उसमे खुश रहो। लेकिन माता पिता बच्चों की तुलना करते हैं कि, 'मिस्टर शर्मा की बेटी को देखो, क्लास में फर्स्ट आई है, बड़ी बुआ के बेटे को देखो, नेशनल गेम्स खेलता है और पढ़ाई में गोल्ड मेडल लाता है"

सोचिए अगर बच्चा आपसे कहे कि, "सोनू के पापा को देखो सीए हैं, राहुल की मम्मी को देखो, कितनी एक्टिव है। अब आप कैसा महसूस करेंगे?

इसलिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि बच्चों को अच्छा करने के लिए प्रेरित करें। लेकिन उनकी तुलना कभी किसी के साथ मत करिए।

खुद से दो प्रश्न करें

हर माता-पिता को खुद से दो प्रश्न करने चाहिए। पहला आप में कौन से 2 गुण हैं जो आप चाहते हैं कि आपके बच्चे मैं हों।

दूसरा आप में कौन से दो दोष है जो आप चाहते हैं कि बच्चे में  कभी ना आए ?

फिर इसकी अच्छाई बुराई समझाते हुए, बच्चे को अच्छा करने और बुराई छोड़ने के लिए प्रेरित करें।

राइट पैरेंटिंग के लिए

पेरेंट्स हमेशा बच्चे को समझाने का प्रयास करें और डर ना दें। बहुत ज्यादा प्यार बहुत ज्यादा डांट दोनों ही बच्चे के लिए नुकसानदायक है। कम उम्र में हर जरूरत ना पूरी करें। बच्चे के सामने कभी पैसे और स्टेटस का घमंड या इसकी वजह से आप दूसरों से बेहतर है ना दिखाएं। केवल रोकने-टोकने और गलत बात पर मारने से पेरेंट्स की जिम्मेदारी खत्म नहीं होती। माता-पिता दोनों मिलकर तय करें कि उन्हें बच्चे की परवरिश कैसे करनी है? बच्चों के सामने लड़ना, असभ्य भाषा का प्रयोग करना और ऊंची आवाज में बात करना गलत है। बच्चे को लोगों की इज्जत करना सिखाए। उन्हें अपने कल्चर से, फैमिली से, धर्म से, समाज से, जोड़े। उन्हें सही और गलत का भेद करना सिखा कर अच्छा नागरिक बनने की प्रेरणा दें।

ये भी पढ़ें-

 

 

 

 

 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription