GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

कैसे शुरू हुई जगन्नाथ रथ-यात्रा, मंदिर में क्यों है स्थापित भगवान जगन्नाथ की अधूरी मूर्ति?

शिखा पटेल

10th July 2018

जगन्नाथपुरी की विश्व प्रसिद्ध रथयात्रा का उत्सव 14 जुलाई 2018 से शुरू होगा। इस भव्य रथयात्रा उत्सव के दौरान भगवान जगन्नाथ को रथ पर विराजमान करके पूरे शहर में घुमाया जाता है।

कैसे शुरू हुई जगन्नाथ रथ-यात्रा, मंदिर में क्यों है स्थापित भगवान जगन्नाथ की अधूरी मूर्ति?
रथ यात्रा में जगन्नाथ भगवान के साथ उनके बड़े भाई बलराम और बहन सुभद्रा का रथ भी निकाला जाता है। जगन्नाथ मंदिर से शुरू होकर रथयात्रा गुण्डिच्चा मंदिर तक पहुंचती है। आइए जानते हैं इसकी शुरुआत कैसे हुई और क्या है इसके पीछे की प्रचलित कहानियां।  
 
कहानी 
 
कलयुग के प्रारंभिक काल में मालव देश पर राजा इंद्रद्युम का शासन था जो भगवान जगन्नाथ का भक्त था। एक दिन इंद्रद्युम भगवान के दर्शन के लिए नीलांचल पर्वत पर गया तो उसे वहां देव प्रतिमा के दर्शन नहीं हुए। निराश होकर जब वह वापस आने लगा तभी आकाशवाणी हुई कि शीघ्र ही भगवान जगन्नाथ मूर्ति के स्वरूप में पुन: धरती पर आएंगे। यह सुनकर वह बहुत खुश हुआ।
 
आकाशवाणी के कुछ दिनों बाद एक बार जब इंद्रद्युम पुरी के समुद्र तट पर टहल रहा था, तभी उसे समुद्र में लकड़ी के दो बहुत ही बड़े-बड़े टुकड़े तैरते हुए दिखाई दिए। तब उन्हें आकाशवाणी की याद आई और सोचा कि इसी लकड़ी से वह भगवान की मूर्ति बनवाएगा। फिर वह लकड़ी को महल में अपने साथ उठा लाएं तभी भगवान की आज्ञा से देवताओं के शिल्पी विश्वकर्मा वहां बढ़ई के रूप में प्रकट हुए और उन्होंने उस विशाल लकड़ी के टुकड़े से भगवान की मूर्ति बनाने के लिए राजा से कहा। राजा ने तुरंत इसकी अनुमति दे दी लेकिन बढ़ई रूपी विश्वकर्मा ने एक शर्त रख दी। शर्त के अनुसार वह मूर्ति का निर्माण एकांत में ही करेगा और यदि निर्माण कार्य के दौरान कोई वहां आया तो वह काम अधूरा छोड़कर चला जाएगा। राजा ने शर्त मान ली। इसके बाद विश्वकर्मा ने गुण्डिचा नामक जगह पर मूर्ति बनाने का काम शुरू कर दिया। एक दिन राजा भूलवश विश्वकर्मा जहां मूर्ति बना रहे थे वहां पहुंच गए। तब उन्हें देखकर विश्वकर्मा वहां से अन्तर्धान हो गए और भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की मूर्तियां अधूरी रह गईं।
 
तभी आकाशवाणी हुई कि भगवान इसी रूप में स्थापित होना चाहते हैं। तब राजा इंद्रद्युम ने विशाल मंदिर बनवाकर तीनों मूर्तियों को वहां स्थापित करा दिया। उसके साथ यह भी आकाशवाणी हुई कि भगवान जगन्नाथ हर साल अपनी जन्मभूमि जरूर आएंगे। स्कंदपुराण के उत्कल खंड के अनुसार राजा इंद्रद्युम ने आषाढ़ शुक्ल द्वितीया के दिन प्रभु के उनकी जन्मभूमि जाने की व्यवस्था की। तभी से यह परंपरा रथयात्रा के रूप में चली आ रही है।
 
वही एक दूसरी कथा के अनुसार सुभद्रा के द्वारिका दर्शन की इच्छा पूरी करने के लिए श्रीकृष्ण और बलराम ने अलग-अलग रथों में बैठकर यात्रा की थी। सुभद्रा की नगर यात्रा की स्मृति में ही यह रथयात्रा पुरी में हर साल होती है।
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription