GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

5 बेस्ट बॉलीवुड विलन्स डायलॉग्स

पूनम रावत

31st July 2018

विलेन्स का नाम आते ही सबसे पहले ज़हन में गब्बर और मोगैंबो का आता है। पहले फिल्में विलेंस के बगैर अधूरी होती थी। 

5 बेस्ट बॉलीवुड विलन्स डायलॉग्स

उनके डायलॉग तक लोगो के ज़ूबा पर होती थी। जैसे मोगैंबो खुश हुआ, अरे ओ सांभा कितने आदमी थे, आंखें निकाल कर गोटियां खेलूंगा…आऊ! और आदि। जिसे याद कर हमारे बीते पल याद आ जाते हैं। हम कुछ ऐसे ही विलेंस से रूबरू कराएंगे जिनके बारे में सुन कर आपकी यादें ताजा हो जाएगी।  

मोगैंबो (अमरीश पुरी)

1987 में आई फिल्म मिस्टर इंडिया उस समय की सुपर डूपर हिट फिल्मों में से एक है। आज भी लोगो के यादों में बसी हुई है और मोगैंबो का डायलॉग ‘मोगैंबो खुश हुआ’ उस समय बच्चे बच्चे ये डायलॉग बोला करते थे। चाहे खुशी का मौका हो या किसी को टशन मारना हो। आवाज़ की बात की जाए तो अमरीश पुरी की वो दमदार आवाज़ आज भी लोगो के ज़हन में है।

गब्बर सिंह (अमज़द खान)

शोले फिल्म 1975 में आई थी। क्या आपको पता है कि शोले फिल्म जिस समय आई थी उस समय ये फिल्म चल नहीं पाई थी लेकिन बाद में इसे दोबारा रिलीज किया गया और पर्दे पर धमाल मचा दिया था। इसी फिल्म का डायलॉग ‘अरे ओ सांभा कितने आदमी थे’ बहुत फेमस हुआ था। यहां तक कि लोग घरों में मस्ती मज़ाक में बोला करते थे ‘अरे ओ सांभा कितने आदमी थे’।

क्राईम मास्टर गोगो (शक्ति कपूर)

अंदाज़ अपना अपना यह फिल्म 1994 में आई थी। इस फिल्म को याद करते ही बच्चों की याद आ जाती है कि कैसे बच्चे गले में दुपट्टा बांध करके गोगो की एक्टिंग किया करते थे। आपको भी अच्छे से याद होगा शक्ति कपूर का ये डायलॉग ‘आंखें निकाल कर गोटियां खेलूंगा…आऊ’! चलिए ये याद हो ना हो ये जरूर याद होगा ‘आऊ’ शक्ति कपूर का फेवरेट डायलॉग।

शाकाल (कुलभूषण खरबंदा)

1980 में फिल्म आई शान आपको अच्छे से याद होगा नहीं याद तो हम याद दिलाते हैं। इस फिल्म में विलन अपने टकले पर हाथ रख कर बजाता और कहता है शाकाल के हाथ में जितने पत्ते होते हैं उतने ही पत्ते उसकी आस्तीन में भी होते हैं। उस समय लोग अपने सर पर हाथ रख कर डायलॉग बोला करते थे।

कान्चा चिना (डैनी डेन्जोंग्पा)

1990 में बनी फिल्म अग्निपथ लोगो के दिलों में राज किया चाहे अमिताभ बच्चन का डायलॉग हो या डैनी का। इस फिल्म में कान्चा का किरदार निभा रहे डैनी को इस भूमिका के लिए खूब वाह वाही मिली। डैनी का डायलॉग भी काफी फेमस हुआ ’अपना उसूल कहता है, दाएं हाथ से जुर्म करो तो, बाएं हाथ को पता भी ना चले’।

ये भी पढ़े

दोस्ती से हुई थी ऐश्वर्या-अभिषेक के प्यार की शुरुआत, जूनियर बच्चन ने रोमांटिक अंदाज़ में किया था प्रपोज़

जब अभिषेक ने बताया की ऐश और आराध्या में कौन है ज्यादा डिमांडिंग

ऐश्वर्या के इस बटरफ्लाई ड्रेस को तैयार करने में 3000 घंटे लगे थे

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription