GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

जानिए इन 5 हिंदू परम्पराओं के वैज्ञानिक कारण, क्यों रखते हैं उपवास और क्यों पहनते है बिछिया 

शिखा पटेल

14th March 2019

हिन्दू धर्म में बहुत-सी परम्पराएँ हैं, जिनको निभाने के पीछे आध्यात्मिक और वैज्ञानिक कारण भी हैं।

जानिए इन 5 हिंदू परम्पराओं के वैज्ञानिक कारण, क्यों रखते हैं उपवास और क्यों पहनते है बिछिया 
हिंदू धर्म में कई तरह की परंपराए हैं जिनका पालन किया जाता है। हमें भी अक्सर इन परंपराओं को निभाने की बात कही जाती है, लेकिन जब हम इसके पीछे का कारण मांगते हैं तो हमें कोई जवाब नहीं मिलता है। हालांकि इन पारंपरिक रस्मों के पीछे कुछ वैज्ञानिक कारण भी छिपे होते हैं जिनको जानना जरुरी है। आपको ऐसे ही कुछ परंपराओं के बारे में हम बताते हैं जिनके वैज्ञानिक आधार भी हैं।
 
हाथ जोड़कर नमस्कार करना
 
युगों से किसी को हाथ जोड़कर नमस्कार करना हमारी परम्परा में शामिल है। हमें जब भी प्रणाम करने को कहा जाता है तो साथ में सिखाया जाता है कि ऐसा करने से हम सामने वाले का आदर कर रहे हैं। हालांकि इसका वैज्ञानिक महत्व भी है। जब हम अपने दोनों हाथों को जोड़ते हैं तो हमारी हथेलियों और उंगलियों के उन बिंदुओं पर दबाव पड़ता है जिसका सीधा संबंध आंख, नाक, कान और दिल पर पड़ता है। 
 
 
पैरों में बिछिया
 
पैर में बिछिया पहनने को सुहाग की सबसे बड़ी निशानी माना जाता है। इसका वैज्ञानिक कारण भी है। दरअसल अंगूठे के बगल वाली उंगली की नस महिलाओं के गर्भाशय और दिल से संबंध रखती है और उसे मजबूत बनाती है। चांदी की बिछिया सेहत पर अनुकूल प्रभाव डालती है जो अच्छा होता है।
  
इसलिए लगाते हैं तिलक
 
हमारे यहां पूजा के समय या मेहमान के स्वागत करने पर माथे के बीच तिलक लगाया जाता है। दोनों भौहों के बीच माथे पर तिलक लगाने से उस बिंदु पर असर पड़ता है जो हमारे तंत्रिका तंत्र का सबसे खास हिस्सा माना जाता है। तिलक लगाने से उस खास हिस्से पर दबाव पड़ता है जिससे ये सक्रिय हो जाते है और शरीर में नई उर्जा का संचार होता है। साथ ही तिलक लगाने से एकाग्रता बढ़ती है।
 
भोजन के बाद मीठा
 
खाना खाने के बाद मीठा खाना या किसी पूजा विशेष के बाद मीठा खाना भी सिर्फ शुभ नहीं होता बल्कि इसका वैज्ञानिक कारण भी होता है। भारतीय खाने में ज्यादातर मसालेदार खाना खाया जाता है। मसालेदार खाने के तेज को कम करने के लिए पाचन तंत्र का सही रुप से काम करना जरुरी है इसलिए मिठाई खाई जाती है जिससे पाचक रस और अम्ल सक्रिय होते हैं और पाचक क्रिया निंयत्रित होती है।
 
उपवास करना
 
हिंदु धर्म में उपवास करना भी बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि उपवास करने से भगवान प्रसन्न होते हैं और हम पर अपनी कृपा बनाते हैं, लेकिन इसका वैज्ञानिक महत्व भी होता है। दरअसल, हमें अपने शरीर को चलाने के लिए रोजाना भोजन की जरुरत होती है और पेट को लगातार काम करना पड़ता है। ऐसे में जब हम फलहारी या निर्जला व्रत करते हैं तो शरीर को कुछ पल का आराम मिलता है। साथ ही खतरनाक टॉक्सिन को दूर करने में मदद मिलती है।
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription