GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

आज से शुरू हो रहा है खरमास, 1 महीने तक भूलकर भी न करें ये काम

शिखा पटेल

15th March 2019

हिन्दू धर्म में ऐसी मान्यता है कि मलमास या खरमास का महीना शुभ नहीं माना जाता है, ऐसी कई मान्यताएं हैं कि खरमास में विवाह, भवन-निर्माण, नया व्यापार या व्यवसाय आदि शुभ कार्य वर्जित हैं।

आज से शुरू हो रहा है खरमास, 1 महीने तक भूलकर भी न करें ये काम
 
भारतीय पंचांग के अनुसार होलाष्टक के 2 दिन बाद से यानी 15 मार्च 2019, शुक्रवार से खरमास (मलमास) शुरू हो गया है। यह मुहूर्त लगते ही सभी शुभ कार्यों पर ब्रेक लग गया है, यानी कि इस दौरान कोई भी शुभ मांगलिक कार्य नहीं होंगे। पंचांग के अनुसार, 14 अप्रैल 2019, रविवार दोपहर 2 बजकर 25 मिनट तक सूर्य मीन राशि में गोचर करेंगे। उसके बाद सूर्य मेष राशि में प्रवेश करेंगे। तभी से विवाह, गृहप्रवेश आदि मांगलिक कार्य भी दोबारा शुरू हो पाएंगे, तब तक यानी 1 महीने तक कोई भी शुभ कार्य नहीं हो पाएंगे। आइए जानते हैं खर मास में क्या करें और क्या न करें :-
 
1. खरमास में शादी जैसे कोई भी शुभ काम नहीं किए जाते। कहा जाता है कि इस दौरान शुभ काम करने से उसका फल नहीं मिलता।
 
2. इस महीने किसी संपत्ति अथवा भूमि की खरीद भी बेहद अशुभ होती है। इस महीने के दौरान इससे बचना चाहिए।
 
3. खरमास की शुरुआत के बाद नया वाहन खरीदने से भी बचना चाहिए।
 
4. खरमास के प्रारंभ होने के बाद घर या किसी अन्य भवन का निर्माण पूर्णतः वर्जित है। इस दौरान भवन निर्माण सामग्री लेना भी अशुभ होता है।
 
5. विवाह और उपनयन जैसे शुभ संस्कार भी इस दौरान पूर्णतः वर्जित रहते हैं। इसके अलावा गृह प्रवेश जैसे कार्य भी इस दौरान नहीं होने चाहिए।
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription