GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

कमतर न आंकें ल्यूकोसाइट रोग को

अर्पणा यादव

12th April 2019

सफेद रक्‍त कोशिका जिसे हम और आप संक्षिप्‍त में डब्‍लूबीसी भी कहते हैं। यह हमारे शरीर के खून का प्रमुख घटक है जो हमें विभिन्‍न संक्रमणों से बचाता है। सफेद रक्‍त कोशिका हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता होती है जो हमें विभिन्‍न संक्रमणों से हमारे शरीर का बचाव करती है। आज हम जानेगें कि सफेद रक्‍त कोशिकाओं की संख्‍या को कैसे बढ़ाएं, और ये हमारे लिए क्‍यों आवश्‍यक हैं।

कमतर न आंकें ल्यूकोसाइट रोग को
यह कहानी है राजस्थान के जोधपुर शहर के प्रतापनगर निवासी  विक्रम संचोरा की जो पेशे से ऑटो ड्राईवर हैं। जिसकी मासूम बेटी समृद्धि जन्म के कुछ माह तक स्वस्थ्य रही  लेकिन बाद में उसे ल्यूकोसाइट एडिक्शन इफेक्ट रूपी गंभीर बीमारी ने जकड़ लिया।  जन्म लेने के कुछ माह बाद ही नियमित रूप से उसे बुखार और श्वास लेने में दिक्कत होने लगी। दवा भी दी गई किन्तु स्थिति में सुधार नहीं हुआ और धीरे-धीरे स्वास्थ में गिरावट होती रही। दूसरी तरफ  सफेद रक्‍त कोशिकाओं की कमीं के चलते खतरनाक वायरस, बैक्टीरिया और कवक जैसे संक्रमण होने लगे थे जिसके चलते बच्ची एक आंख से देख भी नहीं पा रही थी और 2 महीने के इलाज के बाद आंख ठीक हो गई। चिकित्सकों के अनुसार बोन मेरो ट्रांसप्लांट से ही बच्ची की जान बचाई जा सकती है । जिसका खर्च 22 लाख रूपये बताया। साथ में, डोनर का खर्चा करीब 10 लाख रुपये अलग से था जो इस सामान्य परिवार के लिए जुटाना अकल्पनीय और पहाड़ के समान था। लेकिन पिता विक्रम ने अपने स्टेम सेल ट्रांसप्लांट में प्रयोग करने का फैसला लिया । लेकिन आर्थिक तंगी के कारण बच्ची के परिवारजन इलाज के खर्च की राशि का इंतजाम नही कर पा रहे थे। इसी बीच समृद्धि के पिता विक्रम संचोरा को नारायण सेवा संस्थान का पता चला और मदद का आग्रह किया। नारायण सेवा संस्थान अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि बच्ची ल्यूकोसाइट एडिक्शन इफेक्ट जैसी भंयकर बीमारी से पीड़ित थी इसीलिए बच्ची की सांसो की डोर को बचाने के लिए अविलम्ब बोनमेरो ट्रांसप्लांट की जरुरत थी जिसके लिए संस्थान के दानदाताओं के माध्यम से सहायता राशि उपलब्ध कराई गई । हमें खुशी है कि ऑपरेशन के बाद समृद्धि अब बेहतर स्थिति में है।हर पल के दर्द से जूझती बच्ची को छुटकारा मिल गया है। अब बच्ची अपने सुनहरे भविष्य की कल्पना और सपनों को पूरा कर सकती है । 
 
क्या है (ल्‍यूकोसाइट) सफेद रक्‍त कोशिका
इम्यून सिस्टम के प्रमुख घटक के रूप में सफेद रक्‍त कोशिकाओं की महत्‍वपूर्ण भूमिका होती है। ये खून में वायरस, बैक्‍टीरिया, और कवक आदि की खोज करके उन्‍हें नष्‍ट कर हमारे शरीर को सुरक्षा प्रदान करती हैं। सफेद रक्‍त कोशिकाओं को ल्‍यूकोसाइट (Leukocytes) भी कहा जाता है। 
 
सफेद रक्‍त कोशिकाओं के प्रकार 
सफेद रक्‍त कोशिकाओं के अलग-अलग प्रकार होते हैं जैसे -
लिम्‍फोसाइट्स :- ये एंटीबॉडी बनाने के लिए महत्‍वपूर्ण हैं जो आंतों के कीड़ें जैसे बड़े परजीवी, बैक्‍टीरिया, वायरस आदि से शरीर की रक्षा करते हैं।
न्‍यूट्रोफिल :- ये शक्तिशाली सफेद रक्‍त कोशिकाएं हैं जो बैक्‍टीरिया और कवक को नष्‍ट करती हैं।
बेसोफिल :- ये शरीर को रक्‍त प्रवाह मे रसायनों को स्राव करके संक्रमण के लिए सतर्क करते हैं, साथ ही एलर्जी से भी लड़ने में मदद करते हैं।
ऐसिनोफिल :- यह परजीवी और कैंसर कोशिकाओं को नष्‍ट करने के‍ लिए जिम्‍मेदार होते हैं।
मोनोसाइट्स :- ये शरीर मे प्रवेश करने वाले रोगाणुओं या जीवाणुओं पर हमला करने और इन्‍हें नष्‍ट करने के लिए जिम्‍मेदार होते हैं।
 
 
 
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription