GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

करियर में काम से भी ज़रूरी हैं सॉफ्ट स्किल्स

रीता गंगवानी, ग्रूमिंग एंड पर्सनेलिटी डेवलपर

14th May 2019

करियर में काम के बदले सैलरी तो सभी को मिल ही जाती है, लेकिन कामयाबी मिलती है कुछ को। चलिए, आज आपको बताते हैं इन दूसरी खूबियों, यानी सॉफ्ट स्किल्स के बारे में-

करियर में काम से भी ज़रूरी हैं सॉफ्ट स्किल्स
क्या आपके साथ कभी ऐसा हुआ है कि आपने किसी जॉब इंटरव्यू की तैयारी पूरे आत्मविश्वास से की, क्योंकि आपके पास उसके लिए ज़रूरी सभी डिग्रियां, ट्रेनिंग और योग्यताएं थीं, उसके बावजूद आपको रिजेक्ट कर दिया गया हो? असल में इसकी वजह रही, आपमें पीपल स्किल्स का कम होना, जिसे सॉफ्ट स्किल्स के रूप में भी जाना जाता है। करियर में तकनीकी जानकारी के आधार पर आप किसी कंपनी के अंदर दाखिल तो हो सकते हैं, लेकिन कामयाबी के दरवाज़े तो आपके सॉफ्ट स्किल्स, यानी पीपुल स्किल्स की बदौलत ही खुलेंगे। यहां हम आपको ऐसे ही कुछ पीपुल स्किल्स या कह लीजिए कि सॉफ्ट स्किल्स के बारे में बता रहे हैं-
 
पर्सनल ग्रूमिंग- किसी इंटरव्यू के लिए आप जिस तरह से अपने-आपको तैयार करते हैं, उसका असर आपका इंटरव्यू लेने वालों पर बहुत अधिक पड़ता है। यही बताता है कि आप प्रोफेशनली अपने-आपको किस तरह से प्रस्तुत करते हैं। यहां तक कि अगर आपने अपने पेपर्स में तो अपने-आपको बहुत शानदार तरीके से प्रेज़ेंट किया है, लेकिन इंटरव्यू के दौरान यूं ही चले गए हैं तो इससे ये संदेश चला जाता है कि आप अपनी और अपने काम की कद्र नहीं करते।
 
कम्यूनिकेशंस- असरदार तरीके से अपनी बात कहने का ढंग जताता है कि काम संबंधी स्थितियां भी आपके ज़ेहन में बिल्कुल साफ हैं। शानदार कम्यूनिकेशन स्किल्स रखने वाला व्यक्ति दूसरों के व्यवहार का सटीक आकलन कर सकता है,
बेकार के विवाद से बच सकता है, मतभेद की स्थिति को दूर रख सकता है और नए बदलाव व स्थितियों को संभाल सकता है।
 
पॉजि़टिव एडिट्यूड- अपने काम के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण और सम्मान का भाव रखना किसी भी कर्मचारी की विश्वसनीयता को बढ़ा देता है।
 
जि़म्मेदारी की भावना- अपनी गलतियों से बचने की बजाय अगर आप आगे आकर उसकी जि़म्मेदारियां संभालते हैं तो यह आपकी नॉलिज और सक्सेस के नए रास्ते खोल देता है।
 
टीमवर्क- एक टीम का हिस्सा होने पर ज़रूरी है कि आप दूसरों के काम और नॉलिज का सम्मान करें। अपनी बात कहने के साथ दूसरों की बात सुनने का हुनर आना भी ज़रूरी होता है।
 
टाइम मैनेजमेंट स्किल्स- अगर आप समय का सदुपयोग करना जानते हैं तो काम चाहे किसी टाइट डेडलाइन के साथ हो या कम समय में बहुत ज़्यादा करना हो, आपके लिए बाएं हाथ का खेल है।
 
लचीला रवैया- काम के प्रति लचीला रवैया रखना आपको चुनौतियों से भागने की बजाय उनका सामना करने में सक्षम बनाता है।
 
लीडरशिप क्वॉलिटी- इस क्वॉलिटी की सबसे बड़ी खासियत ही ये है कि ये आपको सभी को साथ लेकर चलने और सभी के गुणों का लाभ उठाने के योग्य बना देती है, जो किसी भी कंपनी की सफलता को सुनिश्चित करती है।
 
विवादों को संभालना- काम विवाद का एक अभिन्न भाग होते हैं। चाहे सहयोगियों की बात हो या क्लाइंट की, मतभेदों का सफलतापूर्वक सामना करना एक बहुत बड़ा सॉफ्ट स्किल माना जाता है।
 
आलोचनाओं का सामना करना- ऑफिस में आलोचनाओं से बचना ही नहीं, उन्हें सुनकर, उनसे सीख लेकर या उन्हें बर्दाश्त करके आगे बढ़ जाना भी आना ज़रूरी है।
 
आगे बढऩा- जब हम काम करते हैं तो गलतियां होना या नाकामयाबी मिलना भी स्वाभाविक है, लेकिन आगे बढ़ जाने की खूबी की बदौलत हम अपनी पुरानी गलतियों या असफलता पर रुके न रहकर, उनसे सबक लेकर, अपनी काबिलियत
को बढ़ाकर आगे बढ़ जाते हैं, एक सुखद, सफल भविष्य की ओर। 
 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription