GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

भक्त को नहीं भूलते भगवान, पढ़िए साईं बाबा की एक सच्ची कथा

शिखा पटेल

29th May 2019

शिरडी के साईं बाबा बड़े ही विनम्र और सिद्ध महापुरुष थे। आज भी लोग उनसे जुड़ी बातों की चर्चा करते हैं जो उन्होंने अपने बुजुर्गों से सुनी हैं।

भक्त को नहीं भूलते भगवान, पढ़िए साईं बाबा की एक सच्ची कथा
 
शिरडी के साईं बाबा के मंदिर में हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु उनके दर्शन के लिए आते हैं। सच में साईं बाबा के किस्से-कहानी अनोखे हैं। ऐसी ही एक कथा है मुंबई के एक धनी व्यापारी की। जिसको पढ़कर आपकी श्रद्धा साईं बाबा पर और भी बढ़ जाएगी। तो आइए, जानते है ऐसे ही भक्त की एक सच्ची कहानी, जो बयान करती है साई बाबा के चमत्कारों को-
 
कहा जाता है कि साल 1910 में मुंबई के एक धनी व्यापारी का बेटा बीमार हो गया। उसका काफी इलाज कराने के बाद भी जब वह ठीक नहीं हुआ तो वह उसे साईं बाबा के पास ले गया। मन में यह उम्मीद थी कि शायद इससे कुछ सुधार हो जाए। वह अपने परिवार के साथ शिरडी गया। वहां उसने साईं बाबा को प्रणाम किया और मन ही मन उनसे अपनी पीड़ा कही। बाबा ने भी उसके बेटे की ओर देखा तथा उसे आशीर्वाद दिया। शाम को बालक की स्थिति में काफी सुधार हो गया था। यह देखकर वह परिवार पुनः साईं बाबा के पास गया और उनका आभार जताया। बाबा ने उनसे कहा, सिर्फ परमात्मा ही किसी को जीवन दे सकता है। मेरा क्या सामर्थ्य है?
 
कहा जाता है कि उसके बाद बालक का स्वास्थ्य तेजी से सुधरा तथा प्रसन्न होकर एक दिन उस परिवार ने पुनः घर जाने का फैसला किया। जाने से पहले उनकी इच्छा थी कि एक बार वे साईं बाबा के दर्शन जरूर करें। इसलिए वे उनके स्थान पर गए और उनका आशीर्वाद लेकर घर जाने की अनुमति मांगी। बाबा ने परिवार के मुखिया को तीन रुपए देते हुए कहा, दो रुपए मैं तुम्हें पहले दे चुका हूं। इस बार ये तीन रुपए ले जाओ। इन्हें पूजा स्थान पर रख देना। ईश्वर का ध्यान करना, सदा अच्छे कर्म करना। तुम्हारा कल्याण होगा। उस व्यक्ति ने बाबा को प्रणाम कर वे तीन रुपए ले लिए, लेकिन पूरे रास्ते वह इसी सवाल में उलझा रहा कि बाबा ने मुझे दो रुपए कब दिए थे? मैं तो आज पहली बार ही इनके दर्शन करने आया हूं। फिर वे मुझे दो रुपए कैसे दे सकते हैं? इसी सवाल पर चिंतन करते हुए वह घर आ गया। उसने अपनी वृद्ध मां से पूरी बात कही। तब मां ने उसे बताया, बेटा, जब तू बहुत छोटा था तो एक बार बीमार हो गया था। तब तेरे पिता तुझे लेकर साईं बाबा के पास गए थे।
 
उस वक्त बाबा ने तुम्हारे सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए तुम्हें दो रुपए दिए थे। साईं बाबा सिर्फ सिद्धपुरुष ही नहीं, वे अपने भक्तों के साथ हृदय से जुड़े हुए हैं और इसीलिए वे उनके तन, मन और जीवन की सब बातें जानते हैं। अपनी माता के मुख से यह बात सुनकर उस व्यक्ति के आश्चर्य की सीमा नहीं रही। उसे इस बात पर पूरा भरोसा हो गया था कि भक्त और भगवान का रिश्ता बहुत मजबूत होता है। भक्त माया के वशीभूत होकर भगवान को भूल सकता है लेकिन भगवान उसे कभी नहीं भूलते, विपत्ति में कभी साथ नहीं छोड़ते।
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription