GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

इन ईज़ी ट्रिक्स से बच्चों में डालें पढ़ाई की आदत

संविदा मिश्रा

24th July 2019

आमतौर पर  पेरेंट्स की यही शिकायत होती है कि उसके बच्चे का मन पढ़ाई छोड़कर हर काम में लगता है। पढ़ने बैठाओ भी तो कभी टॉयलेट के बहाने तो कभी प्यास के बहाने उठ के भाग जाता है। ऐसे में बच्चे को कंसन्ट्रेट होकर पढ़ाई करवाना एक बड़ी समस्या है। आइए जानते हैं कुछ ऐसे ट्रिक्स जिनसे आपके बच्चे के अंदर पढाई की आदत डेवेलप होगी । 

इन ईज़ी ट्रिक्स से बच्चों में डालें पढ़ाई की आदत
बच्चे कोरे कागज़ के समान होते हैं जिसमें आप कुछ भी लिख सकते हैं। उस पुस्तक के जैसे होते हैं जिसका हर एक पन्ना माता-पिता और टीचर्स के हाथों से संवारा जाता है। यही बच्चे जिनके भविष्य पर निर्भर करता है उनके पेरेंट्स और देश का भविष्य। बच्चों को जिस भी सांचे  में ढाला जाता है वो आसानी से ढल जाते हैं। खेलना-कूदना, शरारतें करना , टीवी देखना ये सब बच्चों की आम आदत होती है। बच्चों का मन बहुत ही कोमल होता है वो खेलकूद को ही  अपनी प्राथमिकता समझते हैं। अक्सर बच्चे पढ़ाई से दूर भागते हैं, कभी होमवर्क कम्पलीट करने से कतराते हैं तो कभी क्लास में किसी चीज़ का रिवीज़न करने से दूर भागते हैं दूर भागते हैं दूर भागते हैं  । 
 
 
 
बच्चों के साथ समय बिताएं
बच्चे चाहें छोटे हों या बड़े, सभी माता-पिता का प्यार चाहते हैं।  प्यार एक ऐसा नुस्खा है जो हर बुरी आदत को अच्छी आदत में बदलने का माद्दा रखता है।  खासतौर पर छोटे बच्चों को प्यार से ही कोई बात समझ में आती है। इसलिए आप अपने कीमती समय में से कुछ पल निकालें जो सिर्फ आपके बच्चों के लिए ही हों। उन पलों में आप यह जानने की कोशिश करें कि आपका बच्चा आपसे क्या कहना चाहता है? उसके दिमाग में क्या चल रहा है? उसे क्या पसंद है? वह किस बात से नाराज है? आप रोज थोड़ा समय निकालकर अपने बच्चों की गतिविधियों को और बेहतर कर सकते हैं। साथ ही साथ उन्हें पढ़ाई की अहमियत भी समझा सकते हैं। 
 
स्कूल के काम की  घर में भी प्रैक्टिस करवाएं 
बच्चों पर किसी चीज़ का बोझ नहीं डालना चाहिए उन्हें थोड़ा-थोड़ा पढ़ने की आदत डालें साथ ही उसका होमवर्क तो कंपलीट करवाएं ही और स्कूल में पढ़ाए गए काम  का घर में अभ्यास कराएं। हर एक बच्चे की कोई न कोई खूबी  उसको पहचान के उसको बढ़ावा दें। 
 
बच्चों के दिमाग को पढ़ें 
सब बच्चे एक से नहीं होते हैं कुछ ज़्यादा इंटेलिजेंट तो कुछ शैतान और खेल कूद में निपुण। हर बच्चे का कोई भी बात सीखने का तरीका भी अलग होता है। इसलिए बच्चे के मन को पढ़कर उसको कोई बात सीखनी चाहिए। बच्चे के कार्यों में उनका साथ दें और अपने प्रयासों से उसे नयी चीज़ें सीखने का अवसर दें। 
  बच्चे की पढ़ाई के लिए टाईमटेबल बनाएं
टाईमटेबल बनाने से बच्चों में पढ़ने की आदत डेवलप होती है। यदि बच्चे का मन पढ़ने में नहीं लगता तो उसे ज़ोर से पाठ पढ़ने को बोलें। इससे वो क्या पढ़ रहा है इस बात की जानकारी आपको भी होगी और उसकी शब्दावली भी तेज़ होगी। दिन में चाहे एक ही घंटे सही लेकिन बच्चे में एक जगह बैठकर पढ़ने की आदत डालें।  धीरे -धीरे जब उसका मन पढ़ाई में लगने लगे तब पढाई के घंटों को बढ़ा दें।   
        
आपका बच्चा रोज़ क्या सीख रहा है इस बात की जानकारी रखें
चाहे स्कूल हो , घर हो या पार्क में खेलने जाना हो आपका बच्चा दिनभर में बहुत सी नयी चीज़ें सीखता है। वो अपने आस पास के माहौल से बहुत सी अच्छी और बुरी आदतें सीखता है इसलिए उससे बात करके दिनभर के काम के बारे में पूछते रहें। 
 
खेल-खेल में पढ़ाई करवाएं 
बच्चों के साथ खेलते हुए कुछ नयी बातें बताएं जो उसकी पढ़ाई से संबंध रखती हों। इससे उसको नई चीज़ों का ज्ञान होने के साथ पढ़ाई की आदत भी पड़ती है। बच्चों को नयी कहानियां सुनाकर पढ़ने में उनकी मदद करें। 
 
अपने बच्चे के शेड्यूल को हमेशा व्यस्त न रखें
हम अक्सर देखते हैं कि पेरेंट्स बच्चों को पढ़ाई के अलावा अन्य एक्टिविटीज में भी बिजी रखते हैं जिससे उनको अपने लिए बिल्कुल टाइम नहीं मिलता और वो धीरे-धीरे सबसे काटने लगते हैं। बच्चों का हमेशा व्यस्त रखने से उनकी प्रतिभा में कमी आती है। साथ ही उनकी कार्यप्रणाली पर भी बुरा असर पड़ता है। बच्चों को अपनी पसंद का खेल खेलना बहुत ही जरूरी होता है। बच्चे पढ़ाई संबंधी तनाव को खेल के जरिए ही दूर करते हैं। 
 
बच्चों के टीवी देखने की आदत को काम करें 
 आमतौर पर बच्चे टीवी देखना बहुत पसंद करते हैं। इसके साथ ही अपने पसंदीदा कार्टून कैरेक्टर की तरह से व्यवहार भी करने लगते हैं।   बच्चों को बहुत अधिक टीवी नहीं देखनी चाहिए क्योंकि इससे उनका व्यक्तित्व निखरने की जगह बिगड़ जाता है और उनकी आंखों में भी असर होता है । आप बच्चों को टीवी की जगह पुस्तकों, खिलौनों, दोस्तों के साथ समय बिताने की सलाह दे सकते हैं। दोस्तों के साथ समय बिताने से बच्चों में कम्पटीशन की भावना आती है और वो पढ़ाई के लिए प्रेरित होते हैं। 
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription