GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

सिर्फ नाग पंचमी के दिन खुलता है महादेव का यह मंदिर, जानें क्या है रहस्य 

संविदा मिश्रा

2nd August 2019

सावन का महीना हिन्दू धर्म के पवित्र महीनों में से एक है। इस महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नागपंचमी के रूप में मनाया जाता है। इस बार नागपंचमी 5 अगस्त 2019 को मनाई जा रही है।

सिर्फ नाग पंचमी के दिन खुलता है महादेव का यह मंदिर, जानें क्या है रहस्य 
सावन माह आते ही हिन्दू धर्म के लोगों को नागपंचमी का बेसब्री से इंतज़ार रहता है। नाग पंचमी हिंदुओं के मुख्य त्योहारों में से एक है। हिंदू पंचांग के अनुसार सावन माह की शुक्ल पक्ष के पंचमी को नाग पंचमी के रूप में बड़ी ही श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। इस दिन नाग देवता या सर्प की पूजा की जाती है और उन्हें दूध से स्नान कराया जाता है। इस बार नाग पंचमी 5 अगस्त 2019 को मनाया जा रहा है। वैसे तो ये पर्व पूरे देश में मनाया जाता है और सभी मंदिरों में नाग देवता  की पूजा की जाती है। लेकिन एक ऐसा भी मंदिर है जसके कपाट पूरे साल में एक ही बार नाग पंचमी के दिन खुलते हैं। ऐसा मंदिर है  महाकाल की नगरी मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्थित  नांगचंद्रेश्वर मंदिर इस मंदिर  के बारे में ऐसी मान्यता है कि यहां नाग पंचमी के दिन पूजा करने से काल सर्पदोष से मुक्ति मिल जाती है। यह मंदिर महाकाल जी की नगरी उज्जैन के मुख्य मंदिरों में से एक है। नाग पंचमी वाले दिन इस मंदिर के दर्शन हेतु भक्तों की लम्बी कतार लगती है। इस मंदिर के पूरे साल में सिर्फ एक बार खुलने के पीछे एक रहस्य छिपा हुआ है। आइए आपको बताते हैं कि उस रहस्य के बारे में 
 
ऐसा माना जाता है  कि नांगचंद्रेश्वर मंदिर महादेव शिवालयों में से एक है।  इस मंदिर की ख़ास बात यह है कि  नांग पंचमी के दिन नागराज तक्षक स्वंय ही इस मंदिर में मौजूद रहते हैं।  नांगचंद्रेश्वर मंदिर के कपाट साल में एक बार सिर्फ नाग पंचमी के दिन ही खुलते हैं। मंदिर के अंदर भगवान शिव और माता पार्वती की दुर्लभ प्रतिमा लगी हुई है।  साथ ही फन फैलाए नाग के आसन पर महादेव और मां पार्वती जी विराजमान हैं। 
 
 नांगचंद्रेश्वर मंदिर शिव जी का पहला ऐसा मंदिर है, जिसमें महादेव और माता पार्वती नाग के फन पर विराजमान हैं। दशमुखी नाग शैय्या  पर महादेव का  विराजमान होना वाकई देखने योग्य है। इसके अलावा एक और मान्यता है कि नांग पंचमी के दिन नांगचंद्रेश्वर मंदिर में पूजा करने से लोगों को सर्पदोष से मुक्ति मिलती  है।  महाकाल का यह मंदिर महाकालेश्वर मंदिर के प्रांगण में मौजूद है। पौराणिक कथाओं के अनुसार  नागराज तक्षक की तपस्या से खुश होकर महादेव ने उन्हें अमरत्व का वरदान दिया था और नागचंद्रेश्वर मंदिर नागराज तक्षक की कठोर तपस्या की ही देन है।  
 
ये भी पढ़ें-
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription