GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

मोटे बच्चों में हो सकता है टाइप 2 डायबिटीज का खतरा

संविदा मिश्रा

6th August 2019

आमतौर पर देखा गया है कि डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारी एक उम्र के बाद अपना असर दिखती है लेकिन आजकल के बदलते परिवेश में बच्चों में भी ये बीमारी काफी तेजी से  फ़ैल रही है।  या फिर यूं कहें कि इस खतरनाक बीमारी ने बड़ों के साथ-साथ बच्चों को भी अपना शिकार बना लिया है। आपका पाचन तंत्र शर्करा को एक प्रकार की शर्करा में तोड़ता है जिसे ग्लूकोज कहा जाता है। आपका पैंक्रियाज़ एक हार्मोन बनाता है, जिसे इंसुलिन के रूप में जाना जाता है, जो आपके रक्त से ग्लूकोज को आपकी कोशिकाओं में स्थानांतरित करता है, जहां इसका उपयोग ईंधन के लिए किया जाता है।

मोटे बच्चों में हो सकता है टाइप 2 डायबिटीज का खतरा
बच्चों में टाइप 2 मधुमेह का एक मात्र सबसे बड़ा कारण अतिरिक्त वजन है। एक बार जब किसी बच्चे का वजन बहुत ज्यादा बढ़ जाता है, तो उसमे मधुमेह होने की संभावना दोगुनी हो जाती है। टाइप 2 मधुमेह में, बच्चे के शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन का जवाब नहीं देती हैं, और ग्लूकोज उसके रक्तप्रवाह में बनता है। इसे इंसुलिन प्रतिरोध कहा जाता है। आखिरकार, उसके शरीर में शर्करा के स्तर को संभालने के लिए बहुत अधिक हो जाता है। यह भविष्य में अन्य स्थितियों को जन्म दे सकता है, जैसे हृदय रोग, अंधापन और गुर्दे की विफलता।
 
कई साल पहले , टाइप 2 मधुमेह वाले बच्चों के बारे में सुनना दुर्लभ बात थी। डॉक्टर्स का ऐसा मानना था कि बच्चों को केवल टाइप 1 मधुमेह होता है  इसे  किशोर मधुमेह भी कहा जाता था। लेकिन अब टाइप 2 मधुमेह ने भी बच्चों को गिरफ्त में लेना शुरू कर दिया है। 
 

 

बच्चों को आम तौर पर थकान, सिर में दर्द, ज्यादा प्यास लगने, ज्यादा भूख लगने, व्यवहार में बदलाव, पेट में दर्द, बेवजह वजन कम होने, खासतौर पर रात के समय बार-बार पेशाब आने, यौन अंगों के आस-पास खुजली होने पर उनमें मधुमेह के लक्षणों को पहचाना जा सकता है। 
 
बच्चों में टाईप 1 डायबिटीज के लक्षण कुछ ही हफ़्तों में तेजी से बढ़ जाते हैं जबकि  टाईप 2 मधुमेह के लक्षण धीरे-धीरे बढ़ते हैं और कई मामलों में महीनों या सालों तक इनका कोई इलाज नहीं हो पाता। डायबिटीज से पीड़ित बच्चों को इंसुलिन थेरेपी दी जाती है। अक्सर निदान के पहले साल में बच्चे को इंसुलिन की कम खुराक दी जाती है।  आमतौर पर बहुत छोटे बच्चों को रात में इंजेक्शन नहीं दिए जाते, लेकिन उम्र बढ़ने के साथ रात को इंसुलिन शुरू कर दिया  जाता है।
मोटे बच्चों में टाईप 2 मधुमेह की संभावना अधिक होती है। गतिहीन जीवनशैली के कारण शरीर इंसुलिन और रक्तचाप पर नियंत्रण  नहीं रख पाता। डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए चीनी से युक्त खाद्य एवं पेय पदार्थों का सेवन सीमित मात्रा में करें। ज्यादा चीनी से बने खाद्य पदार्थों के सेवन से  वजन बढ़ता है, जो शरीर में इंसुलिन स्तर के लिए खतरनाक है। विटामिन और फाईबर से युक्त संतुलित, पोषक आहार के सेवन से टाईप 2 डायबिटीज की संभावना को घटाया जा सकता है। 
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription