GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

फिल्म में हमने हर किसी का व्यू पॉइंट दिखाया है- जॉन अब्राहम

गृहलक्ष्मी टीम (मुम्बई ब्यूरो)

13th August 2019

जॉन अब्राहम की फिल्म बाटला हाउस 15 अगस्त को रिलीज़ हो रही है और इस फिल्म को प्रमोट करने के लिए जॉन अब्राहम हाल ही में हमारे मुम्बई ब्यूरो की टीम से बातचीत की और फिल्म के बारे में दिल खोलकर बातें की-

फिल्म में हमने हर किसी का व्यू पॉइंट दिखाया है- जॉन अब्राहम
ये फिल्म करने का मन आपने कैसे बनाया?
संजीव कुमार यादव के किरदार के लिए निर्देशक ने मुझे स्क्रिप्ट दिया और कहा कि पढ़ो और मैंने इस पढ़ा मुझे ये बहुत अच्छा लगा। ये पूरी तरह से फैक्फिट्रस पर बेस्ड था और मुझे लगा कि ये कहानी पर्दे पर आनी चाहिए।  देखिए सच हमेशा कहानियों से ज्यादा रोमांचक होता है। मैंने निखिल से कहा कि इसे तुम ही डायरेक्ट करो और मैंने ये भी कहा कि मैं इस फिल्म के बनने में सहयोग करना चाहता हूं क्योंकि अभी तक मेरे प्रोडक्शन में जो भी फिल्में बनी हैं जैसे विकी डोनर, मद्रास कैफे, परमाणु और मुझे लगा इसमें बाटला हाउस भी होनी चाहिए। फिल्म संजीव के रोल के लिए मेरा लुक भी सही है।
 
रियल लाइफ कहानियों के साथ इस बात का ध्यान भी रखना पड़ता है कि किसी को तकलीफ न पहुंचे।इस बारे में आप क्या करते हैं?
इस तरह की फिल्मों में आप क्रिएटिव लिबर्टी ले सकते हैं। लेकिन इस फिल्म में मैं किसी तरह की क्रिएटिव लिबर्टी नहीं लेना चाहती। बाटला हाउस के बाद संजीव के साथ क्या बीती। मैं उनके साथ कई दिन साथ रहा। मैंने संदीव के किरदार के साथ कोई भी एक्सपेरिमेंट नहीं की है। लेकिन फिल्म को थोड़ा एंटरटेनिंग भी बनाना पड़ा क्योंकि कोई भी डोक्यूमेंट नहीं देखना चाहेगा।
 
आपको डर नहीं लगता है कि कहीं आप जजमेंटल न हो जाएं क्योंकि इस कहानी का पहले बहुत राजनीतिकरण हो चुका है?
हमने इसमें कोर्ट, राजनेता, मीडिया, पुलिस सबके व्यू को दिखाया है और जब दर्शक हॉल से बाहर निकलेंगे तो वो समझ सकेंगे या सोच सकेंगे कि क्या हुआ होगा या कैसे हुआ होगा। हमने वो चीज़ें भी दिखाई हैं जो उस समय पॉलिटिक्स में इस मुद्दे को लेकर हो रहा था। और डरना क्या था। ये एंकाउंटर बहुत गंदे तरीके से पॉलिटिक्स किया गया था। हमलोग जज नहीं कर रहे हैं, हमने ये काम लोगों के लिए छोड़ दिया है। 
 
ये फिल्म स्वतंत्रता दिवस पर आ रही है...बड़े होते हुए इस दिन की क्या अहमियत थी आपके सामने?
जब मैं छोटा था तो हमेशा इस दिन बड़ा सा झंडा हाथ में लेकर फहराना चाहता था। मैं हमेशा अपनी मां से कहता भी था कि मेरा मन है कि मैं खूब बड़ा झंडा खरीद कर लाउं, लेकिन उन दिनों इस बात की इज़ाजत नहीं दी थी। बचपन में मैं स्वतंत्रता दिवस के दिन सुबह उठना और स्कूल जाकर  झंडा फहराना मुझे अच्छी तरह याद है। हालांकि स्कूल में उस वक्त काफी सांस्क़तिक कार्यक्रम भी होते थे, लेकिन मेरा दिमाग इस बात पर रहता था कि मैं फुटबॉल खेलने जाउं कयोंकि उस दिन छुट्टी होती थी।
 

 

 

ये भी पढ़े-

मैं एयरपोर्ट लुक्स के चक्कर में नहीं पड़ती, मुझे सिर्फ कंफर्टेबल रहना पसंद है- सोनाक्षी सिन्हा

गृहलक्ष्मियों के साथ अक्षय कुमार चले मिशन मंगल करने

ये है बॉलीवुड के 6 सौतेले भाई-बहन, फिर भी छिड़कते हैं एक-दूजे पर अपनी जान...

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription