GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

मैं बहुत ज्यादा क्रिएटिव हूं- अवनीत कौर

गरिमा अनुराग

14th August 2019

टीवी एक्ट्रेस अवनीत कौर ने अपने करियर की शुरुआत बतौर डांसर एक रिएलिटी शो से किया था। आजकल वो सोनी सब के शो 'अलादिन- नाम तो सुना होगा' में यास्मीन का किरदार निभा रही हैं। अपनी जर्नी के बारे में उन्होंने कुछ बातें शेयर की गरिमा अनुराग से-

मैं बहुत ज्यादा क्रिएटिव हूं- अवनीत कौर
आपमें और आपके किरदार यास्मीन में क्या समानताएं हैं?
मुझे लगता है कि यास्मीन और मुझमें कई  समानताएं हैं। यास्मीन बहुत स्ट्रॉन्ग है, जो भी सोच लेती है वो करके दिखाती, बहुत ही खुली सोच वाली है। वो अपने लोगों के
लिए कुछ करना चाहती। मैं भी खुद ऐसी ही हूं, मैं भी अपने लोगों के लिए बहुत कुछ करना चाहती हूं।
 
यास्मीन का रोल निभाते हुए आपको कैसा लग रहा है?
देखिए, मैं डांसिंग और एक्टिंग करियर के बीच भागदौड़ करते हुए यहां तक पहुंची हूं। मैंने देख है कि मेरे जैसे ही कई लड़कियां अपने पैरों पर खड़े होने और अपनी क्षमताओं का बेहतर इस्‍तेमाल करने के लिये कड़ी मेहनत करती हैं। जब मैं घर जाती हूं, बच्‍चों, छोटी लड़कियों को उन किरदारों की तरह बनने की ‍ख्वाहिश करते हुए देखती हूं, जो मैंने निभाये हैं, खासतौर से यास्‍मीन की तरह तो मुझे बहुत अच्छा लगता है। यास्‍मीन एक मजबूत, निडर, बहादुर लड़की है। बच्‍चों की आइडल होने के कारण मुझे इस किरदार के लिए और मेहनत करने की प्रेरणा मिलती है।
 
आप प्लानिंग करने में विश्वास रखती हैं या लाइफ को वैसे जीती हैं, जैसे वो आपके सामने आती है?
मैं उन लोगों में खुद को शामिल करूंगी जो लाइफ जैसे आती है वैसे ही आगे बढ़ने में विश्वास रखती हूं। आपकी अपनी डेस्टनी है। पहले मैं बहुत प्लानिंग करती थी, लेकिन मैंने महसूस किया कि ज्यादा प्लान करने के बाद अगर चीज़ें प्लान के अनुसार न हो तो दुख ज्यादा होता है। अब मैं लाइफ जैसे आगे बढ़ती है, उसे वैसे ही अपनाती हूं क्योंकि मैं मानती हूं कि हमारी अपनी एक डेस्टिनी है और उसी के अनुसार चीज़े होती हैं।
 
आप कैसी हैं, क्रिएटिव या महत्वकांक्षी?
मै एबिशियस से ज्यादा क्रिएटिव इंसान हूं। जो भी मैं पसंद करती हूं उसमें मैं अपना टच देती हूं। या लाइफ जो भी मुझे देती है, उसे मैं अपने तरीके से बदलती हूं। मुझे कुछ नया बनाना, कुछ क्रिएटिव काम करना पसंद है।
 
अपनी फीमेल फैन्स को क्या संदेश देना चाहेंगी?
बचपन से ही मुझे सिखाया गया है कि एक लड़की के रूप में मुझे जो करने में खुशी मिले वह मैं कर सकती हूं, लेकिन मैं एक ऐसी लड़की बनना चाहती हूं जिसे हर कोई एक सशक्त व्‍यक्तित्‍व के रूप में देखें, ना कि केवल एक शो के चेहरे के तौर पर। मैं एक दिन अपने देश की महिलाओं पर एक अमिट छाप छोड़ना चाहती हूं और उनसे कहना चाहती हूं कि अपनी जिंदगी को पूरे दिल से जियें और अपने अधिकारों की मांग करें। हर महिला को यह आजादी होनी चाहिए कि उन्‍हें पहचाना जाये और दुनिया उनकी काबिलियत को समझे। यह तभी संभव होगा जब महिलाएं खुद उन छोटी-छोटी कमियों के उस पार देख पाएंगी।
 
अपने कमाए पैसों का कैसे यूज़ करती हैं, इंवेस्टमेंट, सेविंग या फिर कुछ नहीं?
दरअसल अभी तो मैं अपने पेरेन्ट्स के साथ ही रहती हूं इसलिए मुझे अपने पैसों को खर्च करने की जरूरत नहीं पड़ती है। बस ऐसे ही कभी खाने-पीने में जो खर्च कर लेती हूं। मेरे
इंवेस्टमेंट्स का ख्याल मेरे पेरेन्ट्स ही ज्यादा देखते हैं। वो मुझे फाइनैंस से जुड़ी चीज़ें सिखाते भी हैं और समझाते भी हैं कि पैसे सेव करना क्यों जरूरी है।
 
 
 
 
 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

इनडोर प्लांटिंग : सुंदरता भी, फायदे भी

इनडोर प्लांटिंग...

अपने घर में पौधे लगाना जहां घर के सौंदर्य में चार...

स्मार्ट करियर गोल्स बनाने की सलाह देती हैं गृहलक्ष्मी ऑफ द डे दीपशिखा वर्मा

स्मार्ट करियर गोल्स...

गृहलक्ष्मी ऑफ द डे

संपादक की पसंद

फिक्स्ड डिपॉजिट करने के पहले जान लें ये जरूरी बातें

फिक्स्ड डिपॉजिट...

वर्तमान में कम निवेश में अधिक रिटर्न के लिए वर्तमान...

तेजाब खोखला नहीं कर पाया मेरे हौसलों को

तेजाब खोखला नहीं...

लड़कियों के चेहरे पर तेजाब डालने वालों के लिए ये कविता...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription