GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

जानिए क्या हैं गणपति के 5 पसंदीदा आहार

Samvida Mishra

3rd September 2019

सभी हिंदू देवताओं में भगवान गणेश एक विशेष स्थान है। इसलिए किसी भी कार्य की शुरुआत ही गणेश पूजन से की जाती है जिससे वो काम सफलता पूर्वक संपन्न हो सके। लेकिन गणेश की बात जो लोगों को सबसे ज्यादा लुभाती है, वो हैं उनके खाने की नटखट सी आदतें।

जानिए क्या हैं गणपति के 5 पसंदीदा आहार

ऐसा माना जाता है कि कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं, जिनका गणपति से सीधा संबंध है। आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसी ही खाद्य सामग्रियां जो गणपति को सर्वप्रिय हैं।   

 

मोदक

गणेश को 'मोदप्रिया' या मोदक का प्रेमी कहा जाता है। मीठे नारियल और गुड़ से भरी ये मिठाई काफी स्वादिष्ट है। इसके पीछे ऐसी मान्यता है कि एक बार जब कैलाश पर्वत पर एक आगंतुक ने पार्वती को मोदक भेंट किया, तो उन्होंने अपने बेटों को आपस में बांटने के लिए कहा। न तो गणेश और न ही कार्तिक ऐसा करना चाहते थे, इसलिए पार्वती ने उन्हें एक परीक्षा से गुजरने के लिए कहा - जो भी इस दुनिया में तीन बार सबसे तेजी से चक्कर लगएगा वह इस स्वादिष्ट मीठे पकवान का हकदार होगा।  कार्तिक ने दुनिया का चक्कर लगाया, लेकिन गणेश ने सिर्फ तीन बार अपने माता-पिता की परिक्रमा की, और यह साबित कर दिया कि उनके माता-पिता ही उनकी दुनिया हैं। उनके इस कार्य से प्रभावित होकर, पार्वती ने उन्हें मोदक दिया, और तबसे ये मिठाई श्री गणेश से जुड़ी हुई है। आज भी, गणेश चतुर्थी पर गणेश की मूर्तियों को कई प्रकार के मोदक का भोग लगाया जाता है। 

 

मोतीचूर के लड्डू

स्पष्ट रूप से, गणेश को सभी चीजें मीठी पसंद हैं, और कहा जाता है कि उनका बढ़ा हुआ पेट इस बात का साफ़ प्रमाण है। आपको गणपति के चार हाथों में से एक हाथ में लड्डू के बिना एक भी मूर्ति या पेंटिंग नहीं मिलेगी। हां, वह स्पष्ट रूप से मोतीचूर के लड्डू पसंद करते हैं जो कि केसर से सनी और सुगंधित, छोटी बूंदी के साथ बनाई गई भारतीय मिठाई है। बेशक गणेश जी  को अन्य प्रकार के लड्डू और मिठाइयां भी पसंद हैं, लेकिन मोतीचूर के लड्डू का जीवंत रंग और स्वाद उन्हें उनका पसंदीदा बना देता है। गणपति की भोग सामग्रियों में मोतीचूर के लड्डू  विशिष्ट स्थान रखते हैं। 

 

मुरमुरा  के लड्डू 

मुरमुरा के साथ गुड़ मिलाकर बनाया गया ये स्वादिष्ट लड्डू जो खाने में टेस्टी होने के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी है। गणेश जी को बहुत पसंद है।  शिव पुराण में एक कहानी में बताया जाता है कि एक बार गणेश जी सबसे धनी  कुबेर के आमंत्रण पर भोजन के लिए गए और पूरी दावत खाने के बाद  भी तृप्त नहीं हुए। तब शिव जी ने कुबेर से सिफारिश की थी कि वो गणपति को पूरे श्रद्धा भाव से चावल परोसें।  कुबेर के ऐसा करने पर गणेश की  भूख  शांत हो गई तबसे ऐसी मान्यता है कि गणेश जी को चावल से बानी हुई चीज़ें पसंद हैं। 

 

केले

केला गणेश जी को बहुत ज्यादा प्रिय है ऐसा कहा जाता है कि केला नाजुक और पौष्टिक है, इसलिए किसी भी भूखे  ईश्वर-भक्त को केले के साथ हमेशा तृप्त किया जा सकता है। एक मान्यता ये है कि  पौराणिक रूप से, गणेश की दो पत्नियां हैं - ऋद्धि (समृद्धि) और सिद्धि (आध्यात्मिक शक्ति)। लेकिन बंगाल में, विशेष रूप से दुर्गा पूजा के दौरान, गणेश की पत्नी को हमेशा केले की महिला के रूप में चित्रित किया जाता है। एक साड़ी में लिपटा हुआ केले का पेड़ हमेशा गणेश के बगल में होता है। इसलिए भी ऐसा माना जाता है कि केला गणेश जी को अत्यंत प्रिय है। 

 

दूर्वा घास

दूर्वा घास यह हमारे नियमित आहार का हिस्सा नहीं है, फिर भी गणेश जी से जुड़े होने पर दूर्वा घास एक विशेष मायने  रखती है। ऐसी मान्यता है कि गणेश जी ने दूर्वा घास  निगल कर एक अनलसुरा नामक राक्षस को हरा दिया था , लेकिन दानव ने अपने पेट के भीतर क्रोध किया, जिससे अपच हो गई। शिव, विष्णु या इंद्र द्वारा सुझाए गए इलाज में से कोई भी हाथी-देवता के क्रोध से छुटकारा नहीं पा सका। तब  कुछ ऋषियों ने उन्हें दूर्वा घास भेंट किया । गणेश ने उन्हें भस्म कर दिया, और तुरंत राहत महसूस की। ऐसा कहा जाता है कि एक ऐसे भगवान जो खाने से प्रेम करते हैं , उसे हमेशा इस तरह के इलाज की आवश्यकता होती है, और इसलिए गणेश ने हमेशा अपच के लिए किसी अन्य इलाज की जगह  दूर्वा घास को प्राथमिकता दी। 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

घर में कर रहे हैं गणपति स्थापना तो जानें...

default

गणेश चतुर्थी पर इस खास चीज को चढ़ाना न भूलें,...

default

दो दिवसीय ध्रुपद संगीत समारोह में गायकों...

default

अभिलाषा कि विश्वगुरु बनने का सपना हो सच