GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

Teachers Day Special: इन फिल्मों में दिखा शिक्षक और स्टूडेंट के बीच का गहरा रिश्ता

प्रीती कुशवाहा

5th September 2019

किसी भी ​इंसान को सही राह दिखाने में सबसे बड़ा हाथ अगर किसी का होता है तो वो होता है गुरू यानी शिक्षक। वहीं हमारे देश में गुरू को भगवान से भी ऊंचा दर्जा दिया गया है। हर साल 5 सितंबर को भारत के पहले उप राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस के मौके पर 'शिक्षक दिवस' मनाया जाता है। वहीं बॉलीवुड में भी कई फिल्में ऐसे बनी है जिसमें गुरू और शीष्य के बीच के गहरे रिश्ते को दिखाया गया है। तो चहिए एक नजर डालते हैं उन फिल्मों पर...

Teachers Day Special: इन फिल्मों में दिखा शिक्षक और स्टूडेंट के बीच का गहरा रिश्ता
आमिर खान की हिेट फिल्मों में से एक साल 2007 में आई फिल्म 'तारे ज़मीन पर' दर्शकों को काफी पसंद आई ​थी। इस फिल्म का सब्जेक्ट भी काफी अलग था। फिल्म में जहां आमिर खान ने एक अध्यापक का रोल प्ले किया था वहीं एक्टर ईशान अवस्थी ने इसमें एक कमजोर छात्र का। फिल्म में दिखाया गया कि किस तरह आमिर ने पूरे स्कूल सिस्टम को बदल कर रख दिया था। 
रानी मुखर्जी की फिल्म 'हिचकी' पिछले साल 2018 में ही रिलीज हुई है। इस फिल्म में रानी ने एक ऐसी टीचर का रोल प्ले किया था जिसको हिचकी की समस्या थी। शुरू में उनका स्कूल और स्टूडेंड ने उनका खूब मजाक बनाया लेकिन बाद में रानी ने अपनी इसी कमजोरी को अपनी ताकत बनाई। स्कूल में बच्चों को नये तरीके से पढ़ाकर एक मिसाल कायम की है। 
फिल्म 'चॉक एंड डस्टर' साल 2016 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म में बॉलीवुड की कई बड़ी एक्ट्रसेस जैसे शबाना आजमी, जूही चावला ने अहम किरदार निभाया। 'चॉक एंड डस्टर' भारतीय प्राइवेट शिक्षा व्यवस्था के व्यवसायीकरण पर आधारित मूवी है। यह फिल्म अध्यापकों और छात्रों के बीच कम्यूनिकेशन और उन आपसी समस्याओं पर प्रकाश डालती हैं जो दिन प्रति-दिन बदलती और बढ़ती जा रही हैं। मूवी में जूही एक टीचर हैं।  
डायरेक्टर और एक्टर अमोल गुप्ते की फिल्म 'स्टेनली का डब्बा' एक दिल छूने वाली फिल्म है। फिल्म में दिखाया गया है कि एक बच्चा जो जिसके मां—बाप इस दुनिया में नहीं होते हैं और वह स्कूल में टिफिन नहीं ला पाता है। इसके बावजूद उसके दोस्त उसके साथ अपना टिफिन शेयर करते हैं। लेकिन टीचर वर्माजी यानी अमोल गुप्ता सभी का टिफिन खाने की जुगत में लगे रहते हैं। इन्हीं सब चीजों के बीच बनी है फिल्म 'स्टेनली का डब्बा'।
आखिर में बात करेंगे फिल्म 'हिंदी मीडियम' की। फिल्म में पाकिस्तानी एक्ट्रेस सबा कमर और एक्टर इरफान खान मुख्य भूमिका में नजर आए। फिल्म की कहानी में कम पढ़े लिखे इरफान खान अपनी बेटी का एडमिशन करवाने के लिए मेहनत करते नजर आए। फिल्म की कहानी बड़ी ही मजेदार है।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

कैसे जानें? कौन है असली कौन है नकली चेहरा...

default

जानिए हिंदी भाषा पर महान व्यक्तियों के विचार...

default

बॉलीवुड की इन एक्ट्रेसेस को फिल्मों में छुपानी...

default

हिंदी दिवस 2019: बॉलीवुड के इन स्टार्स की...