GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

कुछ ख़ास है टीचर और स्टूडेंट का रिश्ता

संविदा मिश्रा

5th September 2019

एक बच्चे के भविष्य का निर्धारण करने में टीचर का बहुत बड़ा योगदान होता है। जब बच्चा पहली बार घर से बाहर कुछ सीखने के लिए कदम रखता है तब एक टीचर ही उसका हाथ थाम कर उसकी नींव को मजबूत बनाता है। टीचर कहें या गुरु, उसकी महिमा शब्दों में बयां कर पाना मुश्किल है। ज्ञान का ऐसा पुलिंदा जिसके पास हर चीज़ की जानकारी मौजूद होती है और अपने स्टूडेंट के हर सवाल का सही जवाब होता है। एक ऐसा रिश्ता जो खून का रिश्ता भी नहीं है , प्यार का रिश्ता भी नहीं है और दोस्ती का रिश्ता भी नहीं है फिर भी कुछ खास है। आखिर कुछ तो बात है इस रिश्ते में और कुछ अलग सा एहसास है टीचर और स्टूडेंट के रिश्ते में......

कुछ ख़ास है टीचर और स्टूडेंट का रिश्ता
मेरे 5 साल के बेटे ने टीचर्स डे के दिन जब अपनी पसंदीदा टीचर के लिए प्यारी सी दो लाइन्स बोलीं तब मेरा मन भी अपने अतीत के पन्ने पलटने लगा। मुझे भी अपना स्कूल और कॉलेज का टाइम याद आ गया। न जाने कितनी अच्छी बातें सीखीं, टीचर्स  ने ही मुझे अच्छे बुरे की पहचान सिखाई और उन टीचर्स की ही सीख से मैं अपनी एक पहचान बना पाई। यह एक बहुत बड़ा सच है कि गुरु का स्थान माता-पिता से भी ऊपर होता है क्योंकि गुरु की ही सीख हमें माता-पिता का सम्मान करना सिखाती है। एक कहावत है "गुरु के बिना ज्ञान कहां " और ये सच भी है क्योंकि गुरु ही हमें कई चीज़ों की जानकारी देता है।  बचपन से लेकर बड़े होने तक टीचर्स ही होते हैं जो हमें कई बातों का अनुभव करवाते हैं। टीचर चाहे नर्म रहे हो या सख्त, किसी भी व्यक्ति की लाइफ में सक्सेस की मुहर वही लगाता है। आज शिक्षक दिवस के अवसर पर हम आपको स्टूडेंट्स और टीचर्स के रिश्ते की वो बातें बताने जा रहे हैं , जो इस रिश्ते को बेहद खास बनाती हैं।

 

अच्छे विचारों का भण्डार हैं टीचर्स 

पैरेंट्स के अलावा अगर आपको कोई अच्छे बुरे की पहचान कराता है तो वो टीचर ही होता है। ऐसा माना जाता है की टीचर अच्छे विचारों से ओतप्रोत होता है और उन्ही विचारों का संचार वो अपने स्टूडेंट में करता है। 

स्टूडेंट के हुनर को निखारता है 

स्टूडेंट के अंदर के किसी भी हुनर को बखूबी पहचान कर उस हुनर को निखारने का काम एक टीचर ही कर सकता है। कई बार ऐसा भी होता है कि स्टूडेंट को अपने ही टैलेंट के बारे में पता नहीं लगता लेकिन टीचर उसकी पहचान कर लेता है। 

 

जिम्मेदारी का एहसास कराते हैं 

कभी -कभी बेहद सख्त तो कभी नर्म होकर टीचर अपने स्टूडेंट को उसकी ज़िम्मेदारी का एहसास दिलाता है। होमवर्क टाइम से पूरा करने से लेकर किसी बड़े प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी बखूबी निभाने तक का एहसास एक टीचर ही स्टूडेंट को कराता है। 

 

नैतिक शिक्षा देता है टीचर 

अपने स्टूडेंट को नैतिक शिक्षा का पाठ एक टीचर ही कराता है। बड़ों की इज़्ज़त करना, छोटों से प्यार , बुराइयों से लड़ना और अच्छाइयों को गले लगाना ये सब स्टूडेंट अपने टीचर से ही सीखता है। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

इन टिप्स से बनाएं अपने बेडरूम को रोमांस से...

default

बच्चों को करना है इम्प्रेस तो ऐसे जाएं पैरेंट्स...

default

भाई-बहन के रिश्ते में आ गई हैं दूरियां तो...

default

मात्र सोलह साल की उम्र से बच्चों को डांस...