GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

बॉस और एम्प्लॉई के रिश्ते को स्ट्रांग बनाने के सीक्रेट्स

संविदा मिश्रा

6th September 2019

एक बॉस और उसके एम्प्लॉई के बीच सकारात्मक और सम्मानजनक संबंध किसी भी कंपनी की सफलता के लिए बहुत मायने रखता है। एक बॉस की सर्वोच्च प्राथमिकता उसके एम्प्लॉई का मेहनती और काम के प्रति समर्पित होना है। एक ऐसा एम्प्लॉई जो कंपनी के लिए हमेशा कुछ नया और क्रिएटिव करे। एक बॉस अपने एम्प्लॉई के साथ सबसे ज्यादा समय बिताता है। दिन के लगभग 9-10 घंटे बॉस और एम्प्लॉई के साथ में गुजरते हैं।

बॉस और एम्प्लॉई के रिश्ते को स्ट्रांग बनाने के सीक्रेट्स
बॉस अपने एम्प्लॉई को उन्नति के अवसर प्रदान करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, इसलिए जितनी अच्छी तरह से वह एम्प्लॉई की कार्यक्षमता को पहचान सकता है दूसरा कोई नहीं समझ सकता है। आपके बॉस के साथ अच्छे और स्वस्थ, सम्मानजनक संबंध आपके मनोबल को बढ़ा सकते हैं साथ ही आपकी कार्यक्षमता को और ज्यादा निखार सकते हैं। बॉस ही समय -समय पर आगे और अच्छा करने के लिए मोटीवेट करता है और कंपनी में आपका अप्रेजल और प्रमोशन इसका साक्षात उदाहरण होते हैं। एम्प्लॉई के करियर को नई दिशा देने में एक बॉस की सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका होती है। आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे सीक्रेट्स जिनसे एम्प्लॉई और बॉस के रिश्ते को बेहतर बनाया जा सकता है। 

मंथली मीटिंग करने की पहल करें 

आपका बॉस व्यस्त हो सकता है, लेकिन एक एम्प्लॉई के रूप में, आपको अपने बॉस के साथ महीने में कम से कम एक बार मिलने की पहल करनी चाहिए। उस समय का उपयोग अपनी वर्तमान परियोजनाओं की स्थिति पर चर्चा करने के लिए, अपने विचारों को भविष्य के लिए प्रस्तुत करने के लिए, और यह सुनिश्चित करने के लिए करें कि आप अपने बॉस के लक्ष्यों और रणनीतियों के साथ सामंजस्य स्थापित कर पा रहे हैं या नहीं।  

अपने नए विचारों और क्रिएटिविटी को सामने लाएं 

हर बॉस इनोवेटिव आइडियाज से भरे और क्रिएटिव एम्प्लॉई को प्राथमिकता देता है। ऐसे में यदि आपके अंदर कोई टैलेंट है तो उसको अपने बॉस के सामने प्रेजेंट करना बहुत ज़रूरी है।  साथ ही अपने बॉस को ये भी बताएं कि आप नई परियोजनाओं के लिए उत्साहित हैं, जो कि आपको और आपके बॉस दोनों को अधिक सफल बनाने में मदद करेंगे। अपने स्वयं के विचारों की एक सूची बनाएं और उन्हें अपने बॉस के साथ मंथली मीटिंग में पेश करें।

ओपेन कम्युनिकेशन का प्रयास करें

अपने बॉस के साथ हर मुद्दे पर खुलकर बात करें चाहें वो कंपनी की ग्रोथ से संबंधित हो या फिर आपके  काम से रिलेटेड। कई बार ऐसा होता है कि  एम्प्लॉई काम के लिए बहुत ज्यादा डेडिकेटेड होता है फिर भी उसका क्रेडिट उसका सहकर्मी ले लेता है क्योंकि वो अपने काम का विवरण बॉस को ठीक से नहीं दे पता है। इसके अलावा अपने बॉस से किसी बात पर असहमत होने पर भी एम्प्लॉई को खुलकर उस मुद्दे पर बात करनी चाहिए। ज़रूरी नहीं है कि हर जगह बॉस का प्रेडिक्शन सही हो।  ऐसे में और ओपेन कम्युनिकेशन बॉस और एम्प्लॉई के रिश्ते को बेहतर बना सकता है। 

प्रशंसा की प्रतीक्षा न करें  

जब कोई एम्प्लॉई बॉस के द्वारा  अपनी प्रशंसा की प्रतीक्षा करता है तब ये उसका अपरिपक्व व्यवहार होता है। कभी भी इस बात का इंतज़ार न करें क़ि आपका बॉस आपकी प्रशंसा करेगा तभी आप काम करेंगे। कंपनी के लिए अपना अच्छा परफॉरमेंस देना आपका कर्त्तव्य है। कुछ लोग प्रशंसा पाने के इंतजार में इतने फंस जाते हैं कि जब-जब तारीफ नहीं होती है, तो वे निराश हो जाते हैं। अपनी क्षमताओं में विश्वास रखें और अपना बेस्ट करने की कोशिश करें।  

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

पर्सनालिटी को निखारना है, तो करें सही परफ्यूम...

default

कुछ ख़ास है टीचर और स्टूडेंट का रिश्ता

default

इस बार 'बिग बॉस 13' का नज़ारा है थोड़ा अलग...

default

इन मामलों में पति को भूलकर भी ना दें सलाह,...