GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

Inspiring Women 2019: आलिया भट्ट को नहीं स्वीकार रहे लोग

Grehlakshmi

7th September 2019

लोगों ने किया आलिया भट्ट को ट्रोल, कहा- आलिया भट्ट नेपोटिज़्म का प्रोडक्ट हैं और मोस्ट इनस्पाइरिंग वूमन का अवॉर्ड डिजर्व नहीं करती।

Inspiring Women 2019: आलिया भट्ट को नहीं स्वीकार रहे लोग
अभी हाल ही में इस बात का ऐलान किया गया है कि एक्ट्रेस आलिया भट्ट को एशिया की मोस्ट इनस्पाइरिंग वूमन के खिताब से नवाजा जाएगा यानी एक ऐसी महिला जो अन्य लोगों के लिए काफी प्रेरणादायक महिला है। 
हालांकि इस अवॉर्ड से लोगों को खूब निराशा हुई, और उन्होंने इस बात का विरोध करना शुरु कर दिया है। लोगों का कहना है कि आलिया भट्ट के अलावा भारत में कई ऐसी महिलाएं हैं जो इस अवॉर्ड की हकदार हैं। 
सोशल मीडिया पर यूजर्स अपने विचार रख रहे हैं और कह रहे है- ‘एथलीट हीमा दास ने एक महीने में पांच गोल्ड जीते थे। वहीं पीवी सिंधु बैडमिंटन की वर्ल्ड चैंपियनशिप जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी हैं। रितु करीधल चंद्रयान 2 की मिशन डायरेक्टर हैं। मगर फिर भी आलिया, जो कि नेपोटिज़्म का प्रोडक्ट हैं, एशिया की मोस्ट इंस्पायरिंग वुमन बन जाती हैं।'
बता दें कि रितु करीधल को रॉकेट वुमन ऑफ़ इंडिया कहा जाता है। अब ऐसे में सोशल मीडिया पर सभी यूजर्स का कहना है कि आलिया को यह अवार्ड नहीं देना चाहिए। साथ ही इस फैशले पर भी बेहद निंदा भी की जा रही है। 
इतना ही नहीं आलिया भट्ट को लेकर खूब मीम भी बनाए जा रहे हैं जो कि सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहे हैं। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

आलिया-रणबीर का एयरपोर्ट लुक हुआ वायरल, आप...

default

कैसे जानें? कौन है असली कौन है नकली चेहरा...

default

इस हॉलीवुड पॉप सिंगर की दीवानी हुईं बॉलीवुड...

default

Golden Globe Awards 2020 में निक-प्रियंका...

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

केविनकेयर के...

केविनकेयर के "इनोवेटिव...

भारतीय एफएफसीजी ग्रुप केविनकेयर ने अभिनेता अक्षय कुमार...

इन व्यंजनों ...

इन व्यंजनों को बनाकर,...

सभी भारतीय त्यौहारों के उपवास और अनुष्ठानों के बाद...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription