GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

शिशु को पर्याप्त पोषण न मिलने पर बन सकती है आई.यू.जी.आर की स्थिति

गरिमा अनुराग

7th September 2019

प्रेगनेंसी से जुड़े सवालों का जवाब पाइए यहां-

शिशु को पर्याप्त पोषण न मिलने पर बन सकती है आई.यू.जी.आर की स्थिति

इंट्रायूटेराइन ग्रोथ रिसट्रिक्शन

यह क्या हैआई.यू.जी.आर.उस शिशु के लिए कहते हैं, जो सामान्य शिशुओं की तुलना में छोटा होता है। यदि शिशु का वजन उसकी गर्भाशय के 10 प्रतिशत से भी कम हो तो आई.यू.जी.आर. का पता चलता है। यदि शिशु को पर्याप्त पोषण न मिल रहा हो तो ऐसी स्थिति बन सकती है।

यह कितना सामान्य हैयह तकरीबन 60 प्रतिशत गर्भावस्था में होता है। यह पहली,पांचवीं व उसके बाद की गर्भावस्था, 17 से कम व 25 से अधिक आयु की महिलाओं या पहले कम वजन वाले शिशु को जन्म दे चुकी महिलाओं या प्लेसेंटा व यूटेराइन की असमानताओं वाली महिलाओं में होता है। यदि महिला का वजन भी जन्म के समय कम रहा हो तो इससे उससे यहाँ की कम वजन वाले शिशु के जन्म का खतरा बढ़ जाता है। यदि शिशु के पिता का वजन भी जन्म के समय कम था तो खतरा और भी ज्यादा हो जाता है।

आप जानना चाहेंगी

एक बार कम वजन वाले शिशु को जन्म देने वाली माँ के लिए अगली बार का भी खतरा बढ़ जाता है। हालांकि पहले से वजन का कुछ फर्क होता है पर आपको इस बारे में काफी ध्यान देना चाहिए।

इसके संकेत  लक्षण क्या हैंभ्रूण की लंबाई-ऊंचाई मापते समय, डॉक्टर को पता चलता है कि शिशु अपनी गर्भावधि की तुलना में छोटा लग रहा है। अल्ट्रासाउंड से भी कमबढ़त वाले शिशु का पता लग सकता है।

आप  आपके डॉक्टर क्या कर सकते हैं? जन्म के वजन से ही शिशु की सेहत का पता चलता है। यदि शिशु का वजन कम होगा तो उसे कई तरह के संक्रमण हो सकते हैं तभी इस समस्या का पहले पता चलना जरूरी है ताकि शिशु की सेहत का खास ध्यान रखा जा सके।यदि हर तरह के प्रयत्न व दवा के बावजूद शिशु का विकास न हो तो उसके थोड़ा परिपक्व होते ही डिलीवरी कर दी जाती है ताकि उसे बेहतर देखभाल दी जा सके।

क्या इससे बचाव हो सकता है? सही मात्रा में पोषण दें व गलत आदतों को त्याग दें, जैसे धूम्रपान, मदिरापान, मादक द्रव्यों का सेवन व अन्य रक्तचाप आदि। इस तरह परहेज व चिकित्सा के बावजूद कम वजन वाला शिशु पैदा हो तो नियोनेटल देखभाल से उसकी हालत सुधारी जा सकती है।

आप जानना चाहेंगी

जन्म के समय कम वजन वाले 90 प्रतिशत शिशु एक-दो साल में ही सामान्य शिशुओं जितना वजन पा लेते हैं।

 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

प्रीटर्म प्रीमेच्योर रप्चर ऑफ मैम्ब्रेन को...

default

गर्भावस्था के 24 से 28 सप्ताह के दौरान शुरू...

default

दूसरी बार कर रही हैं प्रेगनेंसी प्लान तो...

default

शिशु का जन्म व उसके बाद होने वाली जटिलताएँ...